Author Archives

I am Vijay Kumar Verma, residing in Kolkata, the city of joy. I was a Banker since December 1985 and retired in April 2017 from State Bank of India. After serving the Bank for 32 years as an officer holding different assignments from time to time, now I am currently enjoying the retired life. I would like to fulfil the duty of social service through this platform spreading aware about the health related problems and their remedies. I will also try to entertain my followers through knowledgeable information and motivate them to enjoy better and quality lifestyle. It is my endeavour to keep the post friendly and as informative as I can.

I am willing to connect with my friends and followers, through my stories and drawings out of my passion to write and make sketches.

I would like to create a trusted and joyful friend circle, and share tales from the past

  • # मुस्कुरा देता हूँ मैं #

    मिली है तो, तू ज़िन्दगी को जी , उसे समझ्न्र की कोशिश न कर सुन्दर सपनों के ताने बाने बुन उसमे उलझने की कोशिश न कर | बात उन दिनों है जब हमारी नौकरी बैंक में लगी थी | स्टेट… Read More ›

  • # वैशाली की नगरवधू #

    Originally posted on Retiredकलम:
    बिहार का इतिहास गौरवशाली रहा है, इस धरती ने चंद्रगुप्त मौर्य जैसा शासक दिया तो चाणक्य जैसा अर्थशास्त्री । शून्य की खोज करने वाला आर्यभट्ट दिया तो सम्राट अशोक जैसा चक्रवर्ती सम्राट। और अगर नगरबधू आम्रपाली…

  • # ठगी का शिकार #

    Originally posted on Retiredकलम:
    इतने बड़े जहाँ में हर आदमी कभी ना कभी ठगी का का शिकार हो ही जाता है.और कभी कभी तो दुबारा उस घटना की याद आने पर अपने आप पर ही हँसी  आ जाती है |…

  • # मेरा वो बचपन #

    गुज़र जाते है खुबसूरत लम्हें , यूँ ही मुसाफिरों की तरह.. यादें वही खड़ी रह जाती है, रुके रास्तों की तरह.. एक उम्र के बाद, उस उम्र की बातें उम्र भर याद आती है , पर वह उम्र फिर उम्र… Read More ›

  • # जागते रहो #

    Originally posted on Retiredकलम:
    मैं ब्लॉग लिखने बैठा ही था कि आज कुछ मित्रों का मेरे पिछले ब्लॉग पर प्रतिक्रिया पढ़ा | उन्होंने लिखा.. तुम्हारा blog पढ़कर मेरी आँखे नम हो गई | वैसे मरना तो सब को है एक…

  • # सच्चा मित्र #

    Originally posted on Retiredकलम:
    आज पुरानी यादों का सिलसिला थमने का नाम ही नहीं ले रहा ….धीरे धीरे मानस पटल पर एक तस्वीर उभरती है …वर्ष १९८५ और  मेरी पोस्टिंग शिवगंज के एक छोटे से कसबे में | मेरा स्टाफ …

  • # लाख टके की बात #

      दोस्तों, हमारे चिंतकों ने अपने अनुभव के आधार पर कुछ बातें कही है जो हजारो  साल पहले भी सत्य थी आज भी सत्य है  | हम उनके कहे गए  बातों से आज भी प्रेरणा ग्रहण कर करते  है इसलिए… Read More ›

  • # भविष्यवाणी ज्योतिष का #…

    Originally posted on Retiredकलम:
    लोग ठीक ही कहते है कि ज़िन्दगी एक कोरा कागज़ की तरह होता है और ?हम उस पर विभिन्न रंगों को बिखेर कर ?उसे और सुन्दर बनाने का ?प्रयास ?करते है | मेरी भी जीवन यात्रा…

  • # तीसरी कसम #

    Originally posted on Retiredकलम:
    बस यही अपराध मैं हर बार करता हूँ आदमी हूँ आदमी से प्यार करता हूँ |एक खिलौना बन गया दुनिया के मेले में कोई खेले भीड़ में कोई अकेले में | बात उन दिनों कि जब…

  • # हाथी को फ़ासी #

    दोस्तों, जानवरों में मुझे हांथी बचपन से ही पसंद है | इसका मुख्य कारण है कि जब मैं छोटा था तो हमारे पडोस में देशी घी की दूकान थी जिसके सेठ के पास अपनी हाथी थी |  उनका गाँव यहाँ… Read More ›