kavita

#तू सपनों में आती है#

मेरी माँ, मुझे एहसास है कि तू सदा मेरे आसपास ही रहती है | दुनिया कहती है कि तू मुझे छोड़ कर चली गई,..पर, मैं सदा अपने पास ही  महसूस करता हूँ, और कठिन फैसलों में तुमसे ही तो विचार… Read More ›

# रिक्शावाला की अजीब कहानी #…8 

कभी – कभी ज़िन्दगी में ऐसा मोड़ आ जाता है .. जहाँ से ना तो “ऑटो” मिलता है और ना “रिक्शा” बस, हमें पैदल ही चलना पड़ता है …..  अंजिला को उसके होटल छोड़ कर रघु  काका के झोपडी की… Read More ›

# किस्मत की लकीरें #–9

मुझे इतनी फुर्सत कहाँ कि अपनी तकदीर का लिखा देख सकूँ.. बस माँ की मुस्कराहट देख कर समझ जाता हूँ कि मेरी तकदीर बुलंद है … आज सुबह कालिंदी देर तक सो रही थी, क्यों कि कल की भागा दौड़ी में… Read More ›

#तुम मुझसे प्यार न करो# …

आजकल  हम छोटी छोटी घटनाओं से घबरा जाते है | हमारी परेशानियों के कारण हम अपने आप से प्यार करना ही भूल जाते हैं | जिंदगी से प्यार करना सबसे महत्वपूर्ण परिवर्तनों में से एक है |  यह हमें सदा… Read More ›

# एक बार फिर #

आज कल नफ़रतों का बाज़ार गरम है | हर तरफ लोग सिर्फ अपनी फिक्र करते है | आपसी प्रेम जैसे समाप्त ही हो चला है | अक्सर लोग भूल जाते है उन बातो को जिन्हे सोच कर अब भी कुछ… Read More ›

#मैं कुछ अजूबे लिखना चाहता हूँ #

हर मनुष्य का यही लक्ष्य होता है कि वह हमेशा खुश रहे | इसके लिए तरह तरह के उपाय ढूंढता है, लेकिन आज के बाहरी माहौल कुछ इस तरह का है कि हम उससे प्रभावित हुए बिना नहीं रह सकते… Read More ›

# ज़िंदगी फिर से जिया जाये #

कभी कभी संघर्ष भरी जिंदगी से हम ऊब जाते है | ऐसे में बचपन की बिंदास ज़िंदगी याद आने लगती है और तब चेहरे पर  मधुर मुस्कान बिखर जाती है | सच, मेरे मन में एक ख्याल आता है कि… Read More ›

# आज क्या लिखूँ ?

दोस्तों, लिखते रहना  सेहत के लिए अच्छा माना जाता है | मैं भी रोज़ कुछ न कुछ लिखना चाहता हूँ , दिल की बात कहना चाहता हूँ | लेकिन लिखने के पहले कई सवाल मन में उठ खड़े हो जाते… Read More ›

#तुमसे दूर चले जाएँगे#

आजकल लोगों मे अपनापन की कमी नज़र आती है | हर इंसान सिर्फ अपने लाभ के बारे मे सोचता है | कभी कभी जिन्हे हम अपना करीबी समझते है वो भी वक़्त आने पर मुंह फेर लेते है | किसी… Read More ›

#मोहब्बतें बेच रहा हूँ#

आज जब समाचार पत्र पर नजरे  जाती है तो ऐसा महसूस होता है कि आज नफ़रतों का बाज़ार गरम है | ज़्यादातर समाचार मन को दुख पहुँचने वाली ही होती है | ऐसा लगता है जैसे आपसी भाई-चारा और प्रेम… Read More ›