कोरोना के साइड इफ़ेक्ट

  आज मैंने पढ़ा

आज के इस ब्लॉग को लिखने का कारण ही कुछ अलग है |…कभी कभी हम कुछ ऐसी घटनाओ के बारे में पढ़ते है जो हमारे दिलो दिमाग पर छा जाता है और हम मन ही मन सोचने लगते है कि क्या ऐसा भी होता है ?

ऐसी ही एक घटना से रु ब रु हुआ, जब मैं शनिवार का समाचार पत्र पढ़ रहा था |

घटना कुछ यूँ है कि एक 75 साल के बुजुर्ग को मरा घोषित कर दिया गया और उसके डेड बॉडी को अच्छी तरह पुरे सावधानी से पैक कर के उनके घर वालों को सौप दिया गया |

चूँकि कोरोना के कारण उनकी  मौत हुई थी इसलिए घरवाले उस मरने वाले का मुँह भी नहीं देख सकते थे | मज़बूरी में  दुखी मन से जाकर जला  आये |

यह कैसा समय आ गया है कि मरने वाले का अंतिम क्षण भी दर्शन  नहीं कर सकते है |

फिर भी यह संतोष था कि लाश को तो उन्हें सौप दिया गया था, वरना करोना  से मरे व्यक्ति की लाश भी नहीं देते है सिर्फ उन्हें बताया जाता है कि आप के सम्बन्धी की मृत्यु हो गई है और सरकारी नियमानुसार उनकी अंतिम क्रिया कर दिया गया है |

श्री मुख़र्जी  बहुत भले इंसान थे | ज़िन्दगी में बहुत संघर्ष किया था और अपनी मेहनत  और लगन से अपने परिवार की जिम्मेवारी निभाते हुए अपने दोनों बच्चो को उच्च शिक्षा दी थी और उनके  दोनों बेटे अमेरिका में जॉब करने चले गए और करीब करीब वही सेटल कर गए थे |

बस साल में एक बार अपने वतन आते थे अपने पिता जी को देखने | माँ तो पहले ही गुज़र गई थी |

सिर्फ पिता जी थे, अपना मकान था जिसे बड़े अरमान से उन्होंने बनवाया था और उसे छोड़ कर बेटों के साथ जाने को तैयार नहीं थे |

घर में सभी सगे सम्बन्धी जमा हो चुके थे और श्राद्ध का काम चल रहा था | इस बीच उनके बेटों ने घर का भी सौदा कर लिया | अब जब अमेरिका में ही रहना है तो यहाँ पिता जी  के मरने के बाद इस घर को रखने का कोई मतलब नहीं था |

पंडित जी भी आ चुके थे और दशकर्म का काम चल रहा था | दान दक्षिणा भी मन से दिया जा रहा था |

बेटों  ने सोचा कि पिता जी की अंतिम क्रिया- कर्म खूब अच्छे से करेंगे ताकि लोग यह नहीं कह सके कि जिस बेटे को पढ़ा लिखा कर उच्च  सिक्षा दिलाई,  आज अपने पिता की क्रिया क्रम में कंजूसी कर दिया और अच्छे ढंग  से नहीं किया गया |

सच तो यह है कि आज चाहे जितना भी दिखावा कर ले,  ..लेकिनं सच्चाई यही थी कि जब बुढ़ापे में उनको इन बेटों की ज़रुरत थी तो करोना  से संक्रमित होने पर पड़ोसियों ने उन्हें हॉस्पिटल पहुँचाया था और सही देख भाल नहीं होने कारण वे चल बसे |

अपने मन में द्वंद लिए बच्चे एक तरफ आग में हवन  कर रहे थे तो दूसरी तरफ घर बिकवाने के लिए  दलाल भी पहुंचे हुए  थे |

तभी सामने गेट के खुलने की आवाज़ आयी और सभी लोगों की नज़र १०० गज दूर स्थित गेट पर पड़ी | उनलोगों ने देखा मुख़र्जी साहब गेट खोल कर अंदर चले आ रहे है |

देखने वाले को समझ नहीं आ रहा था कि यह हकीकत है या सपना | कुछ लोग अपने हाथों में चिकोटी  काट कर देखा कि वे सपना तो नहीं देख रहे है |

उनके खुद के बेटे को भी शंका हो रही थी कि उनके पिता जी जैसा दिखने वाका कोई और इंसान है , लेकिन यह पिता जी नहीं हो सकते है |

सभी लोग अपने अपने मन में सोच ही रहे थे तभी  पिताजी बिलकुल पास आ गए  | सब लोग अवाक होकर उनकी ओर शंशय की नज़र से देखे जा रहे थे |

तभी पिताजी ने कड़क आवाज़ में कहा…यहाँ  क्या हो रहा है ? और तुमलोग इस तरह मुझे घुर घुर कर क्यों देख रहे हो | तुमने तो हमें मरने के लिए हॉस्पिटल में छोड़ दिया था और कोई खोज खबर ही नहीं लिया |

वैसे मुझे अकेले रहने की आदत तो पड़  ही चुकी है इसलिए तुम्हारे हॉस्पिटल में नहीं आने पर मुझे कोई दुःख नहीं हुआ |

अब बेटे और दुसरे सम्बन्धी एक दुसरे की ओर देखते हुए बोल रहे थे कि जिसको हमने जलाया  था वह किसकी लाश थी |

बड़ा विकट  प्रश्न था,  कोई कैसे सोच सकता है कि  जिसके पिता जी जिंदा हो उसके बेटे अपने बाल  मुडवा कर उनका श्राद्ध कर्म उनके सामने ही कर रहा हो |

 अब इसके आगे जो कुछ भी उस परिवार और समाज में  घटित हुआ होगा उसके बारे में बस अनुमान ही लगाया जा सकता है ….

है न यह विचित्र बात …अजीबो गरीब घटना, मगर सत्य है !!!..आप की  क्या राय है .?  

इससे पहले की घटना हेतु नीचे link पर click करे..

https://wp.me/pbyD2R-1C7

BE HAPPY….BE ACTIVE….BE FOCUSED….BE ALIVE…

If you enjoyed this post, please like, follow, share and comments

Please follow the blog on social media …link are on contact us page..

www.retiredkalam.com

Miracle of positive thinking…

Hello Friends ..

Today I am going to discuss about the importance of positive thinking..

Please remember… Positive thought is equal to positive life. This is the miracle of positive thinking ..

Just by thought process we can change our experience of life .

That is why today, first I will be discussing the basic principle of positive thinking and how to apply them practically in our life .

You can think your way into health, wealth, great achievement a great carrear, family relationships all of this or you can think your way out of these too.

Have you seen this in your own life. ?

It is the fact that with positive thought, we get enough inner energy to achieve whatever we want to achieve,

Vise versa  without these positive thinking and understanding, the negative value of our  thought process, we can also go into

depressive state of mind ,  anxiety, fear and lose our all energy .. and there will be no such achievement in our life..

So positive thinking is the miracle …. thought is the master key to a great life .

Thought can create heaven out of hell and create hell out of heaven also.

It All depends on how we handle our thought process .and this is one thing actually we should teach to every young person.

At the early stage of life if we sow the seed of positive thinking …be assured of their great life ahead, no matter what circumstances, what our surrounding are like.

We can always generate the level of positive experience we want in our life just by handling our thought process. Please remember what you think will manifest in your life.

This is the power of thought .. the thoughts become reality,

If you see the object around you, they were the thoughts in somebody’s mind. May be sitting in your house, there are chairs and the table and what around you .

You remember that each of these objects was a thought in somebody’s mind which became so intense that it materialized into an object and now we are using these object, so we can say …everything is the product of our thought.

 If we do not know how to handle this thought mechanism, we will not learn the fundamentals of our life.

Let us find the principles of positive thinking ..

 …what you repeatedly think you will become.:

This is the first principle of positive thinking..   It is all about yourself….  you will become what you are repeatedly thinking.. For example if repeatedly keep on thinking. …Oh, I am happy, I am successful .. I can do everything.  A person  of that kind of thought  is  able to achieve anything in life.

Opposite of that , if I repeatedly think or I am conditioned into think negatively about myself like …oh, why do I feel this fear.. this worry so harrowing ..I cant do anything… if I have a tendency to think like this , then that will be my experience and that will manifest in my life.

Just like how objects (Table. Chairs) are the manifestations of somebody’s thought. Whatever you think hold the potent potency for manifestation in the future so please remember this is the power of our thought process and that is why thought should be deliberate and consciously guided ..this is the miracle of positive thinking.

To put it very briefly you know there is a mechanism which helps you do this naturally this is what you call yoga, the ability to become more and more conscious from within so that our thoughts are deliberate, they are conscious efforts at achieving whatever you want to achieve in your life.  They are guarantees to your success in your life, your own thoughts.

And if they are not conscious then some preconditioned idea some precondition emotion can even take you into very negative ways of thinking, so please remember the first principle is what you think repeatedly that you will become.  That will manifest in your life.

This is the fundamental of idea and you can increase this power of positive thinking through the practice of yoga. when you become deeply conscious from within you have a perfectly guided conscious thought process ..

.. what you repeatedly feel you will experience you will attract it into your life… .

this is the second principle of positive thinking. If you check your life and see if this is true or not whatever you repeatedly feel of it.

If they are happy emotions and they are things that make you glad . You know your mind will perpetually remain in that state. . It will draw those experiences into your life and if you are perpetually used to negative moods you are used to some form of bitterness or resentment, anger, hatred in some form then that will become your negative experience of life. You will attract negative forces into your life.

Sometimes, you will actually experience it even if you don’t want to feel it. yet you dwell upon it There will be a tendency to experience it, bring it into your experience.  so dwell only on positivity, radiate positivity through process, Its only a matter of practice… you have to practice positive thinking and positive feelings.

…. what you imagine that you will create,

 This is the third principle of positive thinking. Everything around you were somebody’s imagination. This is the power of human image imagination that it is in the mind , a complete picture in mind . Tomorrow it will be a reality in front of you.

It will frame your mind and thus become experience of your life.

So we should remember these three facilities ....thought , feeling and imagination  that have been bestowed upon us to lead a fulfilling great life and purpose of your human birth. .

But if you do not practice miracle of positive thinking consciously you can suffer a whole lot of depressive negative habits, the state of mind which are sad , mood which are not able to overcome compulsive thinking and habbit all can come into our life.

So we should practice, deliberately practice positive thing …positive feeling and positive imagination. This is the essence of miracle of positive thinking.

Be happy….Be healthy ….Be alive…

Please click the link below for the next Blog…

https://wp.me/pbyD2R-132

If you enjoyed this post, please like, follow, share and comments

Please follow the blog on social media …link are on contact us page..

www.retiredkalam.com

वादा निभा रहा हूँ

आज जब मैं ब्लॉग लिखने बैठा हूँ तो अनायास ही अपनी  बचपन की दुनिया में खो गया  और बहुत सारी भूली बिसरी यादें आँखों के सामने तैरने लगी है |

उसी  की कड़ी में एक और घटना  का जिक्र यहाँ करना चाहता हूँ ..’

बात  उन दिनों की है जब मैं  “हाफ –पेंट” पहना करता था | मुझे महसूस होता था कि जब तक हाफ – पैंट पहन रखा है  तब तक समझो बचपन है और  फुलपैंट आया नहीं कि समझो अपना बचपन  समाप्त हो गया |

फुल पैंट वाली उम्र में तो घर और समाज के बड़े लोगों के प्रभाव के कारण हम अपने आप को  बदलने की कोशिश करने लगते है | वह स्वछन्द मुस्कान , वो चंचल मन को भूल कर दिखावे में विश्वास करने लगते है |

खैर, मेरी यादें मुझे  ५० साल पीछे लेकर आ गया है | मैं था तो केवल दस साल का लेकिन सिनेमा देखने के ख़ास शौक़ीन था  |

देवानंद की फिल्म जब परदे पर लगती तो उसे देखने की बेचैनी होने लगती | मैं देवानंद का  जबरदस्त  फैन था | उनके फिल्म देखने के लिए तरह तरह के युगत लगाता, देखने की कोशिश करता  और अंत में सफल भी होता था |

लेकिन फिल्म देखने से पहले मुझे दो समस्याओ का सामना करना पड़ता था | …एक तो फिल्म देखने की इज़ाज़त घर से नहीं मिलती थी , अतः चोरी छुपे ही फिल्म देखना पड़ता था और दूसरी समस्या टिकट के पैसों की जुगाड की थी कि पैसे कहाँ से लाया जाए |

मेरे पास एक छोटी सी डायरी हुआ करती थी जिसमे देवानंद की सारी फिल्मो की लिस्ट होती थी और जब भी उनकी  कोई फिल्म देखता , तो उसके आगे  चिन्ह लगा देता था |

पटना के पर्ल सिनेमा हॉल में फिल्म  “जॉनी मेरा नाम” लगा था | फिर क्या था,  फिल्म देखने की दिल में बेचैनी होने लगी क्योंकि उसके गीत “बिनाका गीत माला” में सुनते थे जो बेहद प्यारे लगते थे |

दो सप्ताह बीत गए लेकिन अभी तक उस फिल्म को  देखने का जुगाड नहीं हो सका था , या यूँ कहें कि टिकट के पैसों का इंतज़ाम नहीं हो सका था  |

मैं रोज़ सुबह उठते ही पूजा घर में जाकर भगवान् की मूर्ति को सबसे पहले प्रणाम करता ,फिर दुसरे काम करता था , यह मेरी आदत थी |

एक दिन सुबह उठा और भगवान् के मूर्ति को प्रणाम कर ही रहा था कि  मुझे भगवान् की मूर्ति के पास एक रूपये का नोट दिखाई पड़ा, और  उसे देख कर अचानक  मेरे मन में उस फिल्म को देखने की इच्छा जाग उठी |

फिर क्या था, उन दिनों भगवान् से कम ही डरता था अतः हिम्मत करके  मैंने  पैसे को उठाया और अपने पॉकेट में डाल दिया |

जब पॉकेट में पैसे आ गए तो  मोर्निंग शो (12 से 3 ) देखने का मन ही मन प्लान भी बना लिया |

सोचा सब्जी लाने के बहाने घर से निकल जाऊंगा और लौटते वक़्त शाम तक सब्जी लेता आऊंगा | किसी को शक भी नहीं होगा कि मैंने फिल्म देखा  है |

प्लान एकदम फुल-प्रूफ बनाया था और इसकी जानकारी दोस्तों को भी नहीं थी |

सुबह सुबह सब्जी लाने का काम मुझे सौप दिया गया और मैं सब्जी का थैला कांख में दबाए घर से निकल कर सीधा दानापुर  रेलवे स्टेशन चला गया | संयोग से ट्रेन भी तुरंत आ गई और मैं 11 बजे वाला पैसेंजर ट्रेन पकड़ किया |

 ट्रेन का टिकट कटाने का सवाल ही नहीं था क्योकि पैसे सिर्फ फिल्म के टिकट के थे | वैसे भी रेलवे की सम्पति को खुद की ही सम्पति समझता था |

हाफ पैंट और साधारण सा टी शर्ट पहना हुआ था ताकि किसी को शक ना हो कि मैं पटना फिल्म देखने जा रहा हूँ  |

ट्रेन में भीड़ नहीं थी , क्योकि ऑफिस जाने वाले नौ बजे वाली सटल से ही चले जाते थे | ट्रेन चलते ही मैं अपनी  टाँगे  फैला कर आराम से बैठ गया | एक स्टेशन के बाद ही हमें उतरना  था | सिर्फ फुलवारी शरीफ में ही दो मिनट के लिए ट्रेन रूकती थी |

ट्रेन चलते ही  थोड़ी  देर के बाद अगले स्टेशन फुलवारी शरीफ में रुकी |

मैं आँखे बंद किये उस फिल्म की गानों को याद कर रहा था और उसके फिल्म के सीन की कल्पना में खोया हुआ था | मैं बिलकुल अपने मस्ती में अकेला बैठा था | तभी मुझे महसूस हुआ कि ट्रेन पाँच मिनट के बाद भी नहीं खुल रही है |

 मुझे ट्रेन लेट होने से फिल्म छूटने का  भी  डर था इसलिए बेचैन होकर खिड़की के बाहर  झांक कर देखने लगा कि किस कारण से ट्रेन इतनी देर से रुकी हुई है |

तभी ट्रेन के चारो तरफ मुझे पुलिस वाले  दिखाई दिए | कुछ लोग अफरा – तफरी में ट्रेन से कूद कर भाग रहे थे ..कोई कह रहा था मजिस्ट्रेट चेकिंग है |

इसका मतलब है जिसके पास टिकट नहीं होगा उसे रस्सी से बांध कर पुलिस पकड़ कर ले जाएगी | मैं तो डर  के मारे थर थर काँपने  लगा | मुझे लगा कि ये लोग थाने  में ले जाकर बंद कर देंगे फिर पता नहीं आगे क्या होगा |

मैं भगवान् को याद करने लगा और बोला …प्रभु मुझसे बहुत बड़ी भूल हो गई जो आप के रखे पूजा के पैसे चुरा लिया |  अभी मैं कसम खाता हूँ कि आज के बाद कभी भी ज़िन्दगी में चोरी नहीं करूँगा |

शायद भगवान् को दया आ गई और उन्होंने मुझे एक युक्ति सुझा दी |

मैं हिम्मत कर के अपनी सीट से चुप चाप उठा और आजे बढ़ कर देखा तो एक दम्पति , पति-पत्नी सीट पर बैठे हुए मुंगफली खा रहे है |

मैं उनके बगल में जाकर धीरे से  बैठ गया,  जैसे कि मैं भी उनके साथ हूँ |  थोड़ी ही देर में दो हट्टा – कट्टा पुलिस वाले आये और डंडे दिखा कर सभी के टिकट दिखाने को कह रहे थे ..उनके ठीक पीछे एक स्मार्ट सा काला चश्मा लगाए मजिस्ट्रेट भी था जो चश्मे के भीतर से सभी कुछ देख रहा था |

संयोग से वहाँ जितने लोग बैठे थे सबों के पास टिकट थे , मुझे छोड़ कर  |

जब मजिस्ट्रेट ने मेरे पास  वाले दम्पति से टिकट पूछा तो उसने कहा …मेरे पास रेलवे पास है | उसे रेलवे कर्मचारी समझ कर  पुलिस वाला आगे बढ़ गया और मुझे भी उनके साथ जान कर कुछ नहीं पूछा | मैं तो दूसरी तरफ मुँह घुमाये खिड़की से बाहर देख रहा था ताकि उससे नज़रे नहीं मिले |

खैर , वह आगे गया और वहाँ उसे एक आदमी बिना टिकट के मिल गया |

 उन दोनों पुलिस वालों ने मेरी  आँखों के सामने उसके  कमर में रस्सा बाँध कर उसको लेते हुए ट्रेन से नीचे उतर गए |

मुझे जाड़े में भी पसीने चल रहे थे, खतरा अभी भी टला नहीं था क्योंकि ट्रेन अभी भी रुकी हुई थी |

मैं मन ही मन हनुमान चालीसा पढ़ रहा था | भुत पिचास निकट नहीं आवे की जगह…मजिस्ट्रेट साहब निकट नहीं आवे बोल रहा था |

और जैसे ही ट्रेन स्टार्ट हुई मैंने  राहत की सांस ली  और आगे बिना किसी परेशानी के सिनेमा हॉल पहुँच  गया |

जॉनी मेरा नाम का वो गाना …”वादा तो निभाया” …मैं वो गाना घर पर आकर भगवान् को सुनाया |

भगवान् ने मुसीबत से मुझे निकाल कर अपना वादा निभाया और उसके  बाद आज तक मैं  चोरी नही करने का अपना वादा  निभा रहा हूँ |,,,,

इससे पहले की ब्लॉग  हेतु नीचे link पर click करे..

https:||wp.me|pbyD2R-1uE

BE HAPPY….BE ACTIVE….BE FOCUSED….BE ALIVE…

If you enjoyed this post, please like, follow, share and comments

Please follow the blog on social media …link are on contact us page..

www.retiredkalam.com

# I am Maradona #

“I am Maradona, who shoot goals, who make mistakes. I can take it all, I have shoulders big enough to fight with everybody.”

Maradona in now in God’s hand. Yes, Deigo Armando Maradona, who became one of the greatest players with his intelligent plays and extravagant control. Maradona died on 25th Nov, 2020 at the age of 60.

Brazilian soccer legend Pele tweeted… “I lost a Great friend and the world lost a legend ….One day, I hope we can play ball together in the sky…”

Maradona is one of the reason for me to really follow football. I watched the world cup 1986 on television even at late night hours, just to watch him.play in the 1986 world cup.

Maradona, who played for Barcelona, was also the captain of the national team when Argentina won the 1986 world cup, scoring the famous “Hand of God” goal against England in the quarter-finals. To score the goal, Maradona used his hand to deflect the ball past England goal keeper Peter Shilton, but the referee did not see it. It remains one of the most controversial World cup moments.

source : Google.com
Personal information
Full nameDiego Armando Maradona
Date of birth30 October 1960
Place of birthLanúsBuenos Aires Province, Argentina
Date of death25 November 2020 (aged 60)
Place of deathTigre, Buenos Aires, Argentina
Height1.65 m (5 ft 5 in)
Playing position(s)Attacking midfielder
Second striker[3][4][5][6]
Senior career*
YearsTeamApps(Gls)
1976–1981Argentinos Juniors167(116)
1981–1982Boca Juniors40(28)
1982–1984Barcelona36(22)
1984–1991Napoli188(81)
1992–1993Sevilla26(5)
1993–1994Newell’s Old Boys5(0)
1995–1997Boca Juniors30(7)
Total491(259)
National team
1977–1979Argentina U2015(8)
1977–1994Argentina91(34)
Teams managed
1994Deportivo Mandiyú
1995Racing Club
2008–2010Argentina
2011–2012Al-Wasl
2013–2017Deportivo Riestra (assistant)
2017–2018Fujairah
2018–2019Dorados de Sinaloa
2019–2020Gimnasia de La Plata

As he settles down in heaven, the one wish of every football fan would be that gatekeeper of the afterlife welcome Deigo with a football. That is the only way he will be at peace with himself, for that is the only thing he enjoyed in his 60 years in this world.

With deepest sympathy..

Rest in Peace

Please click the undernoted link to visit previous r Blog……

https://wp.me/pbyD2R-1rY

BE HAPPY… BE ACTIVE … BE FOCUSED ….. BE ALIVE,,

If you enjoyed this post, don’t forget to like, follow, share and comments.

Please follow the blog on social media….links are on the contact us  page

www.retiredkalam.com

# भावभीनी श्रद्धांजली #

महेश मौर्या

आज का ब्लॉग लिखते हुए बहुत दुःख  का अनुभव हो रहा है | एक घटना जो मेरे मन को अन्दर तक झकझोर कर रख दिया है | मेरी यह आदत है कि रोज सुबह अपने मिलने वालों को उनके जन्मदिन की बधाई फेसबुक के माध्यम से देता हूँ |

ऐसे ही कल हमारे बैंक के मित्र श्री महेश मौर्या जी को उनके जन्मदिन की बधाई दिया | कुछ ही देर में हमारे दुसरे मित्र श्री आर पी  बंसल साहब  का मेसेज आया |  उन्होंने लिखा … बड़े दुःख के साथ आप सबों को सूचित करना चाहता हूँ कि हमारे मित्र श्री मौर्या साहब अब इस दुनिया में नहीं रहे |  वे  covid से संक्रमित हो गए थे और दो दिन पूर्व ही  उनका  निधन हो गया |

मैं तो पढ़  कर स्तब्ध रह गया |

मैं अपना पिछला पोस्ट चेक करने लगा तो देखा कि  एक माह पूर्व की पोस्ट पर तो उन्होंने लाइक भी किया था | देखते ही देखते बिलकुल भला चंगा और स्वस्थ इंसान हम सबों के बीच से अचानक covid के कारण चल बसे |

पता नहीं यह कैसी बीमारी है | सचमुच ऐसे मेसेज दिल को झकझोर कर रख देते है |

ज़िन्दगी इतनी unpreditable  क्यों हो गयी है,  समझ में नहीं आता है |

बार बार यही लगता है कि यह सिलसिला कब रुकेगा,  कुछ कहा नहीं जा सकता है | यह बीमारी और कितनों की बलि लेगी और कहाँ जाकर रुकेगी |

लगता है प्रकृति हम सबों का इन्म्तेहान ले रही है | जो लोग अपने को अजर -अमर मानते हुए प्रकृति का दोहन कर रहे थे और  श्रृष्टि को धत्ता बता रहे थे | दुनिया की सारी सुख सुविधाएँ केवल अपने और अपने परिवार वालों के लिए इकठ्ठा कर रहे थे |

उनके लिए और हम सबों के लिए भी सन्देश साफ़ है कि चाहे कितने  भी बड़े हो जाये और विज्ञानं कितना भी तरक्की कर ले,  हमलोग उसके सामने बेबस और तुक्ष ही  रहेंगे |

रोज किसी ना किसी बैंक परिवार के  सदस्य की  मौत की खबर सुनने को मिल रही है |

मेरे परम मित्र श्री महेश मौर्या के निधन का समाचार सुन कर गहरा दुःख हो रहा है | यह हम सभी लोग के लिए एक अपूरणीय क्षति है |

भगवान् दिवंगत आत्मा को शांति दें, और उनके  परिजनों को दुःख  की घडी में साहस प्रदान  करे….

भावभीनी श्रधांजलि

ॐ शांति ॐ ..

Frenzied Passion

Me and my painting

Graphite pencil sketching has always been my favorite medium for art. It was my first love when I started learning basic drawing technique. Since I am self-taught,

it was the easiest tool to control and manage. It is also the most portable and clean tool so far as my drawing and sketches are concerned.

I find it very convenient for its portability. I have acquired different types of graphite pencil for my work.

 I started learning about blending pencil technique and received help from one of my friend who also happens to be drawing teacher. I use to visit his place to learn the blending technique but due to corona pandemics this opportunity has not lasted long and again I am in a position to self learn the art confined at home due to pandemic.

Now I am using colour pencil and pastels colour in my drawing too and started publishing my art work through my blog.. retiredkalam.com under the category.. Me and my art.

This has brought tremendous change in my life  and also impacted  my personality in a big way.

During my drawing practice I have learnt that I cannot create quality artwork with inadequate drawing material.  It  requires the right kind of tools to create the beautiful look.

I ordered online the required drawing materials. Now I am practicing different types of techniques and my work is going on.

Now, I have decided to make one drawing daily and publish them through my Blog

I hope you will agree with my feeling and I will be happy if you convey your feelings through comments or suggestions..

I love you…

I love you because you actually put efforts into me.

I love you because nobody has ever given me the love that you have given me and you are the only one that could ever love me this way…

I love you because you always make me feel that I am worth something..

I love you because you have a nurturing nature and you take care of me..

I love you because you made me smile when I almost forgotten how to.

I love you because you have huge and honest heart.

I love you and everything little detail about you.

I love you because you are simply you..

Promise to yourself

Tomorrow is not promised, not a single second or minutes, so live for today. Keep the promises you make. Take action on the things you desire and need.

Remind those that matters to you that they are loved and you are grateful for them.

Never leave someone you care about on negative terms.

Give more that you take.

Make the call you have been telling yourself you will do tomorrow,.

Let the small shit go. Never go to bed angry. We will all die one day, so learn to live each day with promise to yourself that it will be better than yesterday..

इससे पहले की ब्लॉग  हेतु नीचे link पर click करे..

https://wp.me/pbyD2R-1pu

BE HAPPY….BE ACTIVE….BE FOCUSED….BE ALIVE…

If you enjoyed this post, please like, follow, share and comments

Please follow the blog on social media …link are on contact us page..

www.retiredkalam.com

हर ब्लॉग कुछ कहता है ..10

सच्ची दोस्ती

एक प्राइवेट स्कूल,  जिसमे छोटे छोटे बच्चे एडमिशन लेते है | सभी एक दुसरे से अनजान | लेकिन कुछ दिन बीतने के बाद एक ही क्लास के छह बच्चो की आपस में गाढ़ी दोस्ती हो जाती है | वे सब स्कूल में टिफ़िन करते तो साथ साथ, खेलते तो साथ साथ |

समय बीतते गए और देखते ही देखते सारे बच्चे उसी स्कूल में मेट्रिक क्लास  तक पहुँच चुके थे, लेकिन आपस की दोस्ती और भी  पक्की हो गई |

इनमे कमाल  का आपस में स्नेह और प्यार था | ये छह दोस्तों की आपस में दोस्ती ऐसी कि हर कोई दोस्ती की जब मिशाल देता तो इन लोगों की देता |

अब इन सारे विद्यार्थियों के लिए यह स्कूल का अंतिम साल था ..साथ ही वे उस स्कूल के सबसे पुराने और सीनियर विद्यार्थी  बन गए. |

यहाँ से निकलने के बाद सभी को एक कॉलेज के नए माहौल में जाना था |

इनमे से भी तीन दोस्त ऐसे थे तो  खासम – खास थे  और  एक दुसरे का बहुत ख्याल रखते थे  | उनके  नाम थे …नेहा , कुमार  और तुषार |

हालाँकि नेहा की  बहुत दिनों से कोशिश थी कि कुमार को अपने प्रेम के माया जाल में फंसा  ले | क्योकि कुमार बहुत ही सीधा  साधा और  अपने दोस्तों में सबसे स्मार्ट और तेज़ विद्यार्थी  था |

वही दूसरी ओर नेहा तीन बहनों में से एक थी  और घर की आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं थी ,लेकिन उसके शौक -मौज किसी राजकुमारी से कम नहीं थे |

कुमार ने जब नेहा के प्यार का कोई खास अहमियत नहीं दे रहा था तो नेहा ने उसे जीवन साथी बनाने की मन ही मन ठान लिया |

नेहा अपने मन की बात उसे कह नहीं पा रही थी कि कहीं आपस  की दोस्ती ना ख़तम हो जाये |

तब नेहा ने अपनी प्यार वाली बात तुषार को बतला दी और कहा …मैं उससे प्यार करने लगी हूँ | तुषार को  इस  बात का जब पता चला तो  उसने अपने दोस्त होने का फ़र्ज़ अदा किया | उसने आगे आकर पहल किया और दोनों को आमने सामने लाकर आपस से बात करवा दी | उस दिन से दोनों की   फ्रेंडशिप अब रिलेशनशिप में बदल गयी |

अब दोनों खुल कर अपने प्यार का इज़हार करने लगे  और लव स्टोरी शुरू हो चुकी थी |

दोनों आपस में बहुत तरह के फेस्टिवल celeberate करते रहे कभी चोकलेट day तो कभी , फ्रेंडशिप day, और हर बार नेहा की ख्वाहिस होती कि कुमार उसे मंहगी – मंहगी गिफ्ट देता रहे | कुछ दिनों तक तो  कुमार उसकी इच्छा पूरी करता रहा और यह ध्यान रखता कि उसके  लव स्टोरी में कही ब्रेक नहीं आये |

लेकिन कुछ दिन बीते थे कि कुमार  को यह एहसास हुआ कि नेहा बहुत ही demanding होते जा रही है | उसे हर समय,  हर occassion  पर कोई ना कोई गिफ्ट चाहिए जबकि कुमार  एक साधारण परिवार से ताल्लुख रखता था और उसके पास इतने पैसे नहीं होते थे कि उसकी कीमती डिमांड पूरी कर सके |

नेहा को यह समझ नहीं होता कि गिफ्ट तो एक सरप्राइज होता है  जो ख़ास मौको पर ही दिया जाता है और वह समय यादगार पल बन जाते है |  कुमार ने नेहा को यह बात समझाने की कोशिश भी की लेकिन सफल नहीं हो सका |

तभी प्रेमी- प्रेमिका का एक महान पर्व ..14 फरवरी , यानी वैलेंटाइन day आने वाला था |

नेहा हमेशा की तरह कुमार  से बोली … कितना exiting  day आने वाला है | इसे हम शानदार ढंग से मनाएंगे, पार्टी करेंगे, डिनर डेट पर चलेंगे  और तुम मुझे एक अच्छा सा उपहार देना जो यादगार बन जाये |

 जब वो बोल रही थी तो उसके चेहरे पर बहुत  उत्साह थी और कुमार  से बहुत सारी उम्मीदें लगा रखी  थी |

इन सब के लिए तो बहुत पैसो की ज़रुरत होगी और कुमार के पास इतने तो पैसे थे नहीं  |  इसलिए उसने  बहाना बनाया कि उस समय मैं यहाँ नहीं रहूँगा,  मुझे अपने  एक रिश्तेदार के यहाँ समारोह में जाना है |

लेकिन उसके बात करने के तरीके से नेहा समझ गई कि कुमार  झूठ बोल रहा है |

नेहा नाराज़ होते हुए बोली…मैं जानती हूँ कि तुम झूठ बोल रहे हो |, तुम्हे मेरे साथ कोई भी पार्टी करने की इच्छा नहीं होती है | वह काफी नाराज़ हो गयी और वहाँ से उठ कर चली गई |

ऐसा लगा कि वैलेंटाइन day आने से पहले ही इन दोनों का break up हो गया हो  |

कुमार  को समझ में नहीं आया कि इस मामला को कैसे सुलझाये इसलिए इस समस्या को लेकर वह अपने मित्र तुषार के पास आया  |

कुमार ने   सारी बात उसे बताई और कहा ….नेहा तो नाराज़ हो गई है | उसे तो बहुत  सारे गिफ्ट चाहिए और पार्टी होना चाहिए जो मैं afford नहीं कर सकता हूँ | मैं घर से इन सब बातों के लिए पैसे नहीं मांग सकता |

तुषार उसकी बातों को सुनकर कहा.. दोस्त, तुम फिक्र मत करो, सब कुछ ठीक हो जायेगा |

14 फरबरी का दिन भी  आया और शाम के समय कुमार के पास तुषार का फ़ोन आता है  |.. तुषार ने कहा …भाई, तुम्हारे लिए एक सरप्राइज है, तुम्हे हिन्द होटल में आना है |

कुमार  उस होटल  में जाता है और देखता है कि एक शानदार सी पार्टी का आयोजन की गई है |

वहाँ स्पेशल arrangement नेहा और कुमार  के लिए किये गए थे |

कुमार  यह सब देख कर चौक जाता है | बहुत सारे गिफ्ट एक तरफ रखे हुए थे | नेहा वहाँ पहले से ही पहुँच गई थी .और .जैसे ही वह  कुमार  को  देखी  तो दौड़ कर उसके गले लग गई और कहा ….मुझे मालून था कि तुम मुझे valantine day पर सरप्राइज दोगे |

तुमने आज मुझे best surprise दिया है सचमुच तुम मेरे best फ्रेंड हो, best love  हो |

कुमार  तो जबाब में कुछ नहीं बोला लेकिन उसे समझ में आ गया कि तुषार ने इस पार्टी का arrangement अपने पैसो से किया है. मेरे लिए और  नेहा को बताया कि यह मेरे तरफ से है |

पार्टी जब अपने चरम सीमा पर थी और सभी लोग इसका भरपूर आनंद उठा रहे थे | उसी समय वहाँ बने छोटे से स्टेज से तुषार annouce करता है कि आज की पार्टी कुमार ने नेहा के लिए ……

उसकी बात पूरी होने से पहले ही कुमार दौड़ कर तुषार के पास पहुँच जाता है और उससे माइक लेकर अपने दोस्तों से कहा … …दोस्तों, सच तो यह है कि यह पार्टी का सारा arrangement मेरे और नेहा के लिए तुषार ने अपने पैसो से किया है और वह इसलिए कि नेहा और मेरे बीच के रिलेशनशिप को बचाया जा सके |

कुमार के मुँह से सच्चाई सुन कर सभी  दोस्तों को आश्चर्य होता है और तुषार के सम्मान में सभी लोग तालियाँ बजा कर स्वागत करते है , परन्तु पास खड़े नेहा को अपनी गलती का एहसास हो रहा था |

कुमार ने नेहा की तरफ देखते हुए कहा …. तुम्हारे और हमारे विचार अलग अलग है,  शौक  भी अलग अलग अलग  है ..| तुम जो कुछ भी चाहती हो, मैं उसे पूरा नहीं कर सकता हूँ | इसलिए यह अच्छा होगा हमलोग  अपने अपने रास्ते अलग कर लें. | और उसी वक़्त कुमार ने ने नेहा से अपना break up कर लिया |

फिर पास खड़े तुषार को गले लगा लिया और कहा …भाई, तुम हो मेरे सच्चे दोस्त. .|

तुमने आज मुझे सिखाया कि लाइफ में रिलेशनशिप से बड़ी चीज़ होती है फ्रेंडशिप |

यह हमारी  दोस्ती ही है कि तुमने मेरे नाम पर इतना सारा पैसा खर्च कर दिया ताकि मेरे रिलेशनशिप को बचाया जा सके |

i love you मेरे भाई | इस पर तुषार ने कहा ..दोस्त चिंता मत करना  ,रिलेशनशिप ना सही फ्रेंडशिप तो रहेगी ही…

यह छोटी सी कहानी हमें सिखाती है कि अगर सच्चा दोस्त जब आप के साथ है तो सब कुछ आप के पास  है |

सच्चे दोस्त की मिशाल बनिए और सच्चे दोस्त की क़द्र कीजिये,…. हाँ या ना |

    हर ख़ुशी दिल के करीब नहीं होती

मोहब्बत ग़मों में शरीक नहीं होती

ए मेरे दोस्त मेरी दोस्ती को सलामत रखना

क्योकि हर किसी को दोस्ती  नसीब नहीं होती

इससे पहले की ब्लॉग  हेतु नीचे link पर click करे..

https://wp.me/pbyD2R-1C7

BE HAPPY….BE ACTIVE….BE FOCUSED….BE ALIVE…

If you enjoyed this post, please like, follow, share and comments

Please follow the blog on social media …link are on contact us page..

www.retiredkalam.com

हर ब्लॉग कुछ कहता है…9

खुश रहने का मंत्र

आज कल जाड़े का आगमन हो गया है इसलिए आज मोर्निंग वाक के लिए पार्क में जाने में थोड़ी देर हो गई | हालाँकि मैं जब पार्क में पहुँचा  तो और दिनों की अपेक्षा आज कुछ ज्यादा ही सुन्दर नज़ारा दिख रहा था |

सुकून देने वाली धुप खिली हुई थी और एक तरफ बुजुर्ग लोगों का समूह हरी – हरी घास पर बैठ कर laughing exercise कर रहे थे तो दूसरी तरफ बहुत सारे बच्चे जो अपने माता पिता से साथ आये थे, खेलते हुए मस्ती कर रहे थे | पार्क में चारो तरफ जाड़े के मौसम के रंग बिरंगे फूल खिले हुए थे ..|

 दरअसल, मैं आज एक महीने के बाद इस पार्क में आया था | मुझे आज यहाँ टहलते हुए बहुत मज़ा आ रहा था |  

टहलते हुए मैं पार्क के दूसरी तरफ चला गया,  जहाँ एक बाबा प्रवचन दे रहे थे और कुछ लोग गोलाकार बनाकर बैठे उनकी बातें सुन रहे थे | मैं भी वहाँ रुक गया और उनके प्रवचन को ध्यान से  सुनने लगा | वे रोजमर्रा की ज़िन्दगी में आने वाले समस्याओं के समाधान बता रहे थे |

प्रवचन चल ही रहा था कि तभी एक व्यक्ति ने  उस बाबा से  पूछा  …..खुश रहने का secret क्या है ?

बाबा कुछ देर तो सोचने लगे फिर उन्होंने वहाँ उपस्थित सभी लोगों से पूछा … क्या आप सभी लोग भी इस प्रश्न का जबाब जानना चाहते है ?

तो वहाँ सभी लोगों ने एक स्वर में कहा …जी हाँ, हम सभी भी जीवन में  खुश रहने का मंत्र जानना चाहते है |

तब बाबा ने उस व्यक्ति  से कहा… आप पहले इस पुरे पार्क का एक चक्कर लगा कर आइये और देखिये वहाँ मन को आनंदित करने वाले क्या क्या चीज़ दिख रहे है |

ठीक है, कह कर वह  व्यक्ति  जब चलने को हुआ तभी बाबा ने  रोका और उससे  कहा ….तुम्हे मैं एक चम्मच दे रहा हूँ जिसमे दो बूंद  तेल है जो साथ में ले जाना है | लेकिन पुरे पार्क का चक्कर लगाते समय यह  ध्यान रहे कि तेल गिरने नहीं पाए |

उस व्यक्ति ने कहा….ठीक है,  यह कौन सी बड़ी बात है और वह चम्मच में रखा तेल को लेकर पार्क का चक्कर लगाने चल दिया |

पार्क के चारो ओर घूमते हुए वह महसूस किया कि रास्ते काफी  घुमावदार थे  | वह व्यक्ति सावधानी पूर्वक घूम कर  वापस उस बाबा के पास आया |

बाबा ने उस व्यक्ति को देखते ही पूछा..  बोलो बेटे,  आप ने पार्क में क्या क्या देखा और कौन सी  चीज़ चीज़ सबसे सुन्दर लगी |

वो पत्थर का बना  झरना देखा ?  कितना सुन्दर है  और  वो गुलाब की क्यारियां जिसमे हर रंग के गुलाब खिले है | और वो कुछ विदेशी पौधे जो बड़ी मिहनत करके  बहुत दूर दूर से लाकर यहाँ लगाए गए है …उसके फूल भी कितने  सुन्दर लग रहे है |

उस आदमी ने   बिलकुल  ईमानदारी  से ज़बाब दिया …. बाबा,  मैं तो वो सब कुछ नहीं देख सका क्योंकि मेरा सारा ध्यान इस चम्मच में पड़ी दो बूंद तेल पर था , कि कही गिर न जाए |

तब बाबा ने उस व्यक्ति  से कहा…ये क्या बात हुई | आपने तो कुछ देखा ही नहीं |  आप फिर से जाइए और वो सारा कुछ देख कर आइये और अपने अनुभव हमें बताइए |

वो आदमी  फिर से गया और पार्क की एक एक चीज़ बड़े ध्यान से देखने लगा | वो शानदार बाग़, वो गुलाब की क्यारी को भी बड़े ध्यान से देखा | सही में आज पार्क की सुन्दरता कुछ अलग तरह की लग रही थी उसे देख कर उसे बहुत आनंद का अनुभव हुआ |

वो आदमी आकर बाबा को पार्क की सुन्दरता का खूब बखान करने लगा |

फिर उसने पूछा ….आप अब उस सवाल का ज़बाब दीजिये जिसको जानने के लिए हमलोग उत्सुक है  | मुझे बताइए कि खुश रहने के मंत्र  क्या है ?

ठीक है मैं आपको बताऊंगा,  लेकिन पहले आप बताइए कि वो चम्मच वाली तेल कहाँ  है ?

तभी, उस व्यक्ति को अचानक ख्याल आया कि वो तो सभी चीजों को देखने में इतना व्यस्त था कि  तेल पता नहीं कब और  कहाँ गिर गई थी |

उसने कहा…..मुझे माफ़ करें |  आपने कहा था पार्क को  अच्छी तरह देखना है, सो मेरा सारा  ध्यान उसे देखने में था और तेल का ध्यान ही नहीं रहा कि वह कहाँ  गिर गया |

तभी बाबा ने कहा…यही है खुश रहने का मंत्र |  Happiness यानी ख़ुशी हमारे चारो तरफ बिखरी पड़ी है ..बस हम उसे देख नहीं पाते है  क्योकि  हमारा ध्यान तो चम्मच में पड़े तेल की तरह .. ….बस,धन कमाने में अपने उन्नति और झूठी शान -शौकत के लिए लगा रहता है  और हम अपने जीवन के बहुमूल्य समय को बर्बाद कर देते है |

अपनी सारी खुशियाँ का अपने परिवार और बहुमूल्य समय दोस्त इत्यादि की कुर्बानी देकर जो हम हासिल करते है वह एक झूठ होता है , बस, ..दिखावा होता है | उसमे सच्ची ख़ुशी नहीं होती है |

सच पूछा जाए तो जो झूठे शान शौकत  और दिखावे के लिए हम अपनी सच्ची ख़ुशी को गवां देते है |

अगर हम अपने झूठे शान शौकत प्रतिष्ठा का परित्याग कर असली ज़िन्दगी में चारो तरफ देखें तो खुशियाँ ही खुशियाँ ही बिखरी पडी है ..सच्चा सुख बाहरी वस्तुओं को प्राप्त करने से नहीं मिलता … वह तो अपने अन्दर ही विद्यमान है |

सकारात्मक नजरिए से देखा जाए तो संकट की घड़ी में भी सुख की अनुभूति हो सकती है।

बस अपना  नज़रिया बदल कर देखिये आप के चारो तरफ प्रकृति का सौंदर्य बिखरा पड़ा है  ..रिश्तो की गर्माहट और दोस्ती को महत्व दीजिये तो आप सदा खुश रहेंगे  और अंत में एक और बात कहना चाहता हूँ …

“जिंदगी में कितनी भी बड़ी मुसीबत आए कभी निराश मत होना क्योंकि अभी वक्त तुम्हारा कमजोर है लेकिन तुम नहीं…..क्या आप भी ऐसा ही सोचते है ….

इससे पहले की ब्लॉग  हेतु नीचे link पर click करे..

https:||wp.me|pbyD2R-1uE

BE HAPPY….BE ACTIVE….BE FOCUSED….BE ALIVE…

If you enjoyed this post, please like, follow, share and comments

Please follow the blog on social media …link are on contact us page..

www.retiredkalam.com

The Key to Happiness…

Today when I woke up in the morning , I heard my mobile beeping a lot.

I just checked and find so many morning  messages…

Saying good morning …wishing you a day filled with joy and happiness…

  Someone texted…….be positive, be cheerful and be happy at the present moments…

What would you reply if someone asks you about your current mood? You will say happy, sad or angry.

But do you really think that it’s enough to describe your mood ? How would describe an extremely amazing vacation? As a ‘happy one’?

But for how many times you can use the word happy. The word will lose its meaning. You can use the phrase ‘over the moon’ to express happiness or flying high… a situation when some one is happy because they are ignoring problem or fail to realize its existence.

In fact, happiness does have a pretty important role in our lives, and it can have a huge impact on the way we live our lives.

 Although researchers have yet to pin down the definition or an agreed-upon framework for happiness, there’s a lot we have learned in the last few decades

We can say …, happiness is the state of feeling or showing pleasure or contentment. From this definition, we can glean a few important points about happiness:

Happiness is a state, not a trait; in other words, it isn’t a long-lasting, permanent feature or personality trait, but a more fleeting, changeable state.
Happiness is equated with feeling pleasure or contentment, meaning that happiness is not to be confused with joy, ecstasy, bliss, or other more intense feelings.

Happiness can be either feeling or showing, meaning that happiness is not necessarily an internal or external experience, but can be both.

But, You cannot control how other people receive your energy . Anything you say or do get filtered through the lens of whatever personal stuff they are going through at the moment. Which is not about you? Just keep doing your things with much integrity and love as possible..

Surround yourself with people who know your worth. You don’t need too many people to be happy, just a few real ones who appreciate you for exactly who you are…

 I mean to say … Tomorrow is not promised, not a single second or minutes .. so live for today …keep the promises you make. Take action on the things you desire and need . remind those that matters to you that they are loved and you are grateful for them.

Never leave someone you care about on negative terms, give more than you take. Make the call you have been telling yourself you will do “tomorrow”. Let the small shift go.

Never go to bed angry. We will all die one day, so learn to live each day with promise to yourself that it will be better than yesterday…

If you want to be live a happy life , you must accept who you are ..That is the key to happiness…

Please click the link to read next Blog…

https:||wp.me|pbyD2R-1uE

BE HAPPY….BE ACTIVE….BE FOCUSED….BE ALIVE…

If you enjoyed this post, please like, follow, share and comments

Please follow the blog on social media …link are on contact us page.

.www.retiredkalam.com

छठ महापर्व __बिहार का अनूठा पर्व..

कल छठ महापर्व की आस्था देश के विभिन्न हिस्सों में और बिहार के घाटों पर देखने को मिली |  घाटों पर हर तरफ श्रद्धालु दिखे और छठ महापर्व का हर्षोल्लास के साथ  समापन हो गया |

पटना में गंगा के घाटों पर श्रद्धालु सूप पर फल, ठेकुए, कसार सजाकर पहुँचे । इन्हें छठी मइया को अर्पित किया गया। शुक्रवार को श्रद्धालुओं ने डूबते सूर्य को अर्घ्य दिया था और कल सुबह उगते सूर्य को अर्घ्य दिया गया |

बहुत लोगों ने तो अपने अपने  घरों में ही तालाब  बना कर छठ पर्व की उपासना की और छठ पर्व की गीतों ने तो माहौल को भक्तिमय कर दिया |

महापर्व छठ के अंतिम दिन सूर्य की पत्नी उषा को अर्घ्य दिया जाता है | ऐसी आस्था है कि  इससे जीवन में तेज बना रहता है और व्रत करने वाले जातकों की मनोकामना पूरी होती है | पूजा के बाद व्रत करने वाले लोग नींबू  का शरबत और प्रसाद खाकर व्रत का पारण करते हैं. |

सचमुच यह बिहार का अनूठा पर्व है आइये इसकी विशेषता जानते है …

..यह एक ऐसा पर्व है जिसे गरीब और आमिर,  सभी जाति  और धर्मं के लोग एक साथ मिल कर करते है |

…ऐसा लोगों का विश्वास है कि इस पर्व के करने से शरीर निरोगी होता है और उसकी सभी मनोकामनाएं पूरी होती है |

..सारा वातावरण  ठेकुए की खुशबु और छठ के मधुर संगीत से सराबोर हो जाता है। छठ के गीत कितने कर्णप्रिय होते हैं, इसका अंदाजा इसी से लगा सकते हैं कि नई से नई पीढी भी, जो अत्याधुनिक गानो की शौकीन हो वो भी छठ का गीत सुनकर भाव विभोर हो जाने को विवश हो जाती है। 

…यह एक ऐसा पर्व है जिसे स्त्री और पुरुष दोनों ही करते है | इस पूजा में शरीर  और  मन दोनों को साधना पड़ता है | इसलिए इस पर्व को हठयोग भी कहा जाता है |

…छठ पूजा की एक सबसे बड़ी विशेषता यह  भी है कि छठ पूजा के लिये जो भी खरीदारी होती है वो समाज के निचले तबके के दुकानदारों से ही होती है। सारे सामान रोड पर बैठे गरीब क्रेताओं के पास ही उपलब्ध होते हैं, कोई भी खरीदारी आप मॉल से नही कर सकते हैं।

…मुख्यतः इसमें उपयोग होने वाने सामग्री स्थानीय लोगों खास कर गाँव में ही ,खेतो से  ही उपलब्ध होती है अर्थात सभी देशी चीजों का उपयोग होता है |

…ठेकुआ  इस पर्व का सबसे ख़ास प्रसाद होता है जो गाँव में उपलब्ध गेहूं , गुड़ की खांड , घी के द्वारा बनाई जाती है | यह इतनी स्वादिस्ट होता है कि इस प्रसाद को दूर दराज़ में स्थित अपने दोस्तों और रिश्तेदारों तक पहुंचाई जाती है और ठेकुआ बहुत दिनों तक सुरक्षित रहता है |

….इसके आलावा इसके बनाने के लिए चूल्हे भी मिटटी से बनाये जाते है , ये मिटटी के चूल्हे स्थानीय कुम्हार के अलावा मुस्लिम औरतें भी बना कर  बेचती है | इस तरह इसमें हर तबके का कुछ ना कुछ योगदान रहता है |

…यह एक ऐसा पूजा है जिसे व्रती तन मन को शुद्ध कर इस पूजा को स्वयं करते है | छठ पर्व   पंडित के बिना ही की जाती है |  

…इस में उपयोग होने वाले सभी सामग्री स्थानीय ही उपलब्ध होते है | एक तरह से कहा जाये तो गाँव में पैदा किये गए सामग्री का ही उपयोग होता है |

… covid -19 , के कारण इस बार की पूजा में बहुत तरह के प्रतिबन्ध लगाये हुए थे, इसके बाबजूद भी लोगों के उत्साह में कोई कमी नज़र नहीं आयी  और घाटों पर भीड़ उमड़ी ।

हमने पढ़ा कि लोग मास्क पहने नजर तो आए पर सोशल डिस्टेंसिंग नहीं दिखीं। घाटों पर ही चाट और गोलगप्पे की दुकानें सजीं । सेल्फी का दौर भी लगातार चला। शहर के पार्कों में बने तालाबों में भी लोगों ने छठ का पर्व मनाया । ज्यादातर जगहों पर घरों और अपार्टमेंट्स की छत पर भी पर्व मनाया गया।

  • भगवान सूर्य की होती है पूजा

 छठ पूजा वास्तविक रूप में प्रकृति की पूजा है। इस अवसर पर सूर्य भगवान की पूजा होती है, जिन्हें एक मात्र ऐसा भगवान माना जाता है जो दिखते हैं । छठी व्रती द्वारा  भगवान सूर्य की पूजा कर यह दिखाने की कोशिश की जाती है कि जिस सूर्य ने दिन भर हमारी जिंदगी को रौशन किया उसके निस्तेज होने पर भी हम उनका नमन करते हैं।

छठ पूजा के मौके पर नदियां, तालाब, जलाशयों के किनारे पूजा की जाती है जो सफाई की प्रेरणा देती है। यह पर्व नदियों को प्रदूषण मुक्त बनाने का प्रेरणा देता है। इस पर्व में केला, सेब, गन्ना सहित कई फलों की प्रसाद के रूप में पूजा होती है जिनसे वनस्पति की महत्ता रेखांकित होती है। 

  • भगवान सूर्य की बहन हैं छठ देवी

 सूर्योपासना का यह पर्व सूर्य षष्ठी को मनाया जाता है, लिहाजा इसे छठ कहा जाता है। यह पर्व परिवार में सुख, समृद्धि और मनोवांछित फल प्रदान करने वाला माना जाता है।

ऐसी मान्यता है कि छठ देवी भगवान सूर्य की बहन हैं, इसलिए लोग सूर्य की तरफ अर्घ्य दिखाते हैं और छठ मैया को प्रसन्न करने के लिए सूर्य की आराधना करते हैं। ज्योतिष में सूर्य को सभी ग्रहों का अधिपति माना गया है।

सभी ग्रहों को प्रसन्न करने के बजाय अगर केवल सूर्य की ही आराधना की जाए और नियमित रूप से अर्घ्य (जल चढ़ाना) दिया जाए तो कई लाभ मिल सकते हैं।

  • ऐसे की जाती है पूजा 

 छठ पूजा के चार दिवसीय अनुष्ठान में पहले दिन नहाय-खाए दूसरे दिन खरना और तीसरे दिन डूबते हुए सूर्य व चौथे दिन उगते हुए सूर्य की पूजा की जाती है। नहाए-खाए के दिन नदियों में स्नान करते हैं।

इस दिन चावल, चने की दाल इत्यादि बनाए जाते हैं। कार्तिक शुक्ल पंचमी को खरना बोलते हैं। पूरे दिन व्रत करने के बाद शाम को व्रती भोजन करते हैं।

षष्ठी के दिन सूर्य को अर्ध्य देने के लिए तालाब, नदी या घाट पर जाते हैं और स्नान कर डूबते सूर्य की पूजा करते हैं। सप्तमी को सूर्योदय के समय पूजा कर प्रसाद वितरित करते हैं।

  • इसका वैज्ञानिक महत्व

 अगर सूर्य को जल देने की बात करें तो इसके पीछे रंगों का विज्ञान छिपा है। मानव शरीर में रंगों का संतुलन बिगड़ने से भी कई रोगों के शिकार होने का खतरा होता है। सुबह के समय सूर्यदेव को जल चढ़ाते समय शरीर पर पड़ने वाले प्रकाश से ये रंग संतुलित हो जाते हैं।

(प्रिज्म के सिद्दांत से) जिससे शरीर की रोग प्रतिरोधात्मक शक्ति बढ़ जाती है। सूर्य की रौशनी से मिलने वाला विटामिन डी शरीर में पूरा होता है। त्वचा के रोग कम होते हैं।

कैरोना के इस युग में इमुनिटी को बनाये रखने के लिए विटामिन डी बहुत आवश्यक है जो सूर्य की रौशनी से शरीर अपने आप संतुलित मात्र में ग्रहण कर लेती है |

खुशियों का त्योहार आया है

सूर्य देव से सब जगमगाया है

खेत खलिहान धन और धान

यूँ ही बनी रहे हम सबकी शान…

भगवान् श्री सूर्यदेव आपकी हर मनोकामना पूरी करें |

आपका दिन शुभ एवं मंगलमय हो …

Please click the Link below to visit previous Blog….

https://wp.me/pbyD2R-1zf

BE HAPPY….BE ACTIVE….BE FOCUSED….BE ALIVE…

If you enjoyed this post, please like, follow, share and comments

Please follow the blog on social media …link are on contact us page..

www.retiredkalam.com