स्वस्थ रहना ज़रूरी है …7

दोस्तों,

दो दिनों पूर्व हमारे एक मित्र का फ़ोन आया था | उन्होंने बातों बातों में कहा .. मुझे आप का ब्लॉग पढना अच्छा लगता है | आप की लिखी बातें पढ़ कर मैं बहुत उत्साहित (motivate) होता हूँ | आप इसी  तरह आगे भीं लिखते रहे |

लेकिन मैं चाहता हूँ कि आप स्वास्थ से सम्बंधित आर्टिकल ज्यादा लिखे ताकि पढ़ कर हम सब अपने शारीर को स्वस्थ रख सकें … और ज़िन्दगी के मजे ले सकें |

यह बात सही है दोस्तों…. अगर तन स्वस्थ है तो हर काम करने में मन लगता है और ज़िन्दगी सकारात्मक लगती है |

इसलिए आप सबों के सलाह को ध्यान में रखते हुए आज एक दवाखाना के बारे में चर्चा करना चाहता हूँ |

जी, हाँ, वही दवाखाना जो हर घर में मौजूद है और उसे कहते है “रसोई घर” | बिलकुल सही बात है, हमारे रसोई घर में जो मसाले और साग सब्जियां होती है उससे भी हम अपने रोगों का इलाज़ कर सकते है |

..इसी क्रम में आज चर्चा करना चाहूँगा रसोईघर  के एक आइटम का जिसे हम “लहसुन” कहते है |

वैसे लहसुन को उसके गंध के कारण तामसी भोजन के श्रेणी में रखा जाता है | लेकिन अगर इसके गुणों पर विचार  किया जाए तो सचमुच इसमें गुणों का खान है |

शहद में डूबा हुआ लहसुन की कली सुबह खाली पेट में लिया जाए तो इसके अद्भुत परिणाम मिलते है | आइये इसकी बिस्तृत चर्चा करते है …

लहसुन की कलियों का छिलका उतारकर शहद की छोटी शीशी में इतनी डालें कि वह शहद में पूरी तरह डूब जाए। लहसुन की 2–3 कलियों को सुबह खाली पेट सेवन करें और 45 मिनट बाद ही कुछ खाए।

इसके सेवन से  शारीरिक कमजोरी हमेशा के लिए ठीक हो जाती है और बढ़ी  हुई चर्बी भी कम होती है। शरीर मजबूत होता है  और सकारात्मक असर दिखाता है।

इसका सेवन करने से असमय ही बुढ़ापे का शिकार होने से बचा जा सकता है। बुढ़ापे का अर्थ है कि धमनियों का सिकुड़ कर रोग-ग्रसत हो जाना। यह धमनियों को सिकुड़ने से बचाता है और जमे हुए कोलेस्ट्रॉल को बाहर निकाल पुनः ठीक कर देता है।

शहद में डूबे हुए लहसुन में भरपूर मात्रा में ऐसे तत्व पाए जाते हैं जिसके सेवन करने से शरीर में गर्मी आती हैं। जिससे सर्दी-जुकाम जैसी समस्या से निजात पाई जा सकती है और साइनस की समस्या भी काफी कम हो जाती है।

शहद में डुबे लहसुन में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण पाए जाते है जिससे गले में खराश और सूजन से राहत मिलती है। गले के इन्फेक्शन को दूर करता है |

अस्‍थमा रोगियों के लिए तो लहसुन और शहद किसी वरदान से कम नहीं है।

शहद में डूबा हुआ लहसुन हार्ट से सम्बंधित लोगों के लिए बहुत ही लाभकारी माना गया है। इसके कुछ महीने सेवन से हार्ट में होने वाले ब्लॉकेज से छूटकारा पाया जा सकता है। दिल की धमनियों में जमा फैट बाहर निकल जाता है। जिसके कारण रक्त संचार ठीक ढंग से होने लगता हैं, जो दिल के लिए फायदेमंद हैं।

अगर आपको बार-बार डायरिया की समस्या होती है, तो इसे लेना आपके लिए काफी फायदेमंद साबित हो सकता हैं।

इसका सेवन करने से पाचन क्रिया ठीक ढंग से काम करती है जिससे पेट संबंधी किसी भी प्रकार का इंफेक्‍शन नहीं होता हैं। इन दोनों में एंटीबैक्टीरियल गुण होते है, जो फंगल इंफेक्शन को दूर करने का काम करते है।

शहद में डूबा लहसुन लेने से इम्यूनिटी मजबूत होती है। जिससे कई बीमारीयों से छुटकारा पाया जा सकता है।

यह एक प्राकृतिक डिटॉक्स का काम करता है । इसको खाने से शरीर की अंदर से सफाई हो जाती है। जिसके कारण स्वास्थ्य अच्छा बना रहता है।

लहसुन और शहद में मौजूद फास्फोरस से दांत मजबूत रहते है। यह दांतों से जुड़ी कई समस्याओं को दूर करने का काम करता है।

लहसुन में  फाइबर, कैल्शियम, फस्फोरस आदि तत्व होते हैं जो दांत, बाल और हड्डियों को मजबूत करने में मदद करते हैं।

अगर आप को शहद लेने की मनाही है तो आप सुबह खली पेट दो जौ लहसुन को चबा कर एक गिलास गुनगुना पानी  पिया करें | इससे भी लाभ मिलेगा |

इस तरह हम पाते है कि एक छोटी सी प्रयास से जाड़े के दिनों में खास कर उम्र दराज़ (सीनियर सिटीजन) लोगों के लिए लहसुन का उपयोग बहुत ही लाभदायक सिद्ध होता है . |

(स्त्रोत- “भोजन के द्वारा चिकित्सा” किताब से जानकारी | कोई भी उपाय अपनाने से पहले डॉक्टर्स की सलाह ज़रूर लें )

पहले की ब्लॉग  हेतु नीचे link पर click करे..

https://wp.me/pbyD2R-1SM

BE HAPPY….BE ACTIVE….BE FOCUSED….BE ALIVE…

If you enjoyed this post, please like, follow, share and comments

Please follow the blog on social media …link are on contact us page..

www.retiredkalam.com

Keep our Heart Smiling.

Hi friends,

In my previous Blog, I had mentioned about an incidence of my friend, who lost his life due to cardiac arrest on the first day of this new year. He was suffering from Heart disease.

That’s why I wanted to discuss how to keep the heart healthy during the cold season.

It is true that winter season is vulnerable for those having heart problems.

According to a study, if we compare the coldest month of the year to the warmest month of the year, there is a 31 % increase in heart attack in the coldest months.

It is the time when blood vessels contract and this can shoot up blood pressure and creating the risk of heart attack.

 In days of cold weather, it is imperative to plan our daily routine to keep our heart in top shape. We would like to mention some tips for keeping our heart healthy.

  • Stay warm during colder days….

It is suggested to wear woolen clothes, caps, socks and gloves particularly for senior citizen to protect our body from cold exposure. keep the house well heated.

Beware of heart attack symptom like chest pain, nausea and even drowsiness. Avoid exercising in cold weather in open area , instead opt for indoor exercise.

  • Monitor your blood pressure on daily basis :

Those who have B.P. problems must monitor blood pressure on regular basis. We must take the medications prescribed by the doctor on time.

  • Restrict alcohol:

It has generally been seen that alcohol intake is increased during winter season, whether on  the occasion of new year celebration or any other party function.

We must know that alcohol expands the blood vessel in the skin and make us feel warmer by taking out heat from our body’s vital organs causing problems for the heart.

  • Avoid smoking :

We all know that smoking leads to atherosclerosis. Not only this, those who smoke can also encounter a heart attack. Because smoking reduces the oxygen flow towards the heart, raises our heart rate and blood pressure.

It is suggestive to avoid smoking completely, specially for senior citizen and those suffering from heart disease.  

  • Eat Healthy :

Along with healthy food diet one should opt for fresh fruit and vegetables, seeds, nuts, legumes and sprouts pulses, always try to drink a warm soup and eat hot meals. Avoid eating junk and oily foods as well as excess of salt and sugar should be restricted.

  • Manage Stress :

Not all stress is bad. But long-term stress can lead to health problems. Preventing and managing long-term stress can lower risk for other conditions like heart disease, obesity, high blood pressure, and depression. We can manage our stress through proper relaxing along with exercise,  yoga and meditation.

  • Find your Happy Place :

A sunny outlook may be good for your heart, as well as your mood.

According to the Harvard T. H. Chan School of Public Health, chronic stress, anxiety, and anger can raise your risk of heart disease and stroke. Maintain a positive outlook on life, this help you stay healthier for longer.


Friends ..Apart from this, there are many ways to keep our heart healthy. I hope you take good care of your wellbeing in this cold season..

पहले की ब्लॉग  हेतु नीचे link पर click करे..

https://wp.me/pbyD2R-1F0

BE HAPPY….BE ACTIVE….BE FOCUSED….BE ALIVE…

If you enjoyed this post, please like, follow, share and comments

Please follow the blog on social media …link are on contact us page..

www.retiredkalam.com

स्वस्थ रहना ज़रूरी है …6

हेल्लो दोस्तों,

ठंढ के कारण आज उठने में थोड़ी देर हो गई | फिर भी मोर्निंग वाक के लिए तो जाना ही था | वैसे रोज सुबह हम 6.३० बजे से 7.३० तक पार्क में रहते है |

उस समय थोडा  जॉगिंग करते है, योगाभ्यास करते है और इस ठंडी के मौसम में धुप का मज़ा लेते है | फिर घर वापस आकर अपने दैनिक कार्यों में लग जाते है |

लेकिन आज पार्क में पहुँचा तो दिन के आठ बज चुके थे | मैं मार्बल के एक बेंच पर बैठ कर धुप का मजा लेने लगा | ठंढ बढ़ जाने के कारण धुप बड़ी सुहानी लग रही थी |

मैं वही बैठ कर योगा करने लगा |  तभी मैंने गौर किया कि पार्क के ठीक बीचो बीच   कुछ लोग क्रिकेट खेल रहे है | इस क्रिकेट टीम में बच्चे , युवा और बुजुर्ग सभी लोग शामिल है |

इस तरह तीन तीन पीढ़ी के लोगों को एक साथ क्रिकेट खेलते देख कर बहुत अच्छा लग रहा था |

मैच बिलकुल प्रोफेशनल्स की तरफ खेला जा रहा था | एक एक रन के लिए संघर्ष करते हुए खिलाडी , जैसे इंडिया ..पकिस्तान का मैच हो रहा हो |

एक युवा फील्डिंग हेतु पोजीशन लिए हुए  हमारे पास ही खड़ा था | मैं बातों बातों में उससे पूछा…आप रोज यहाँ क्रिकेट खेलते हो ?

जी अंकल , एक सप्ताह पहले इस सोसाइटी के सभी सदस्यों ने मिल कर फैसला किया है कि हमलोग सभी मिल कर रोज सुबह  यहाँ क्रिकेट  मैच खेलेंगे | क्योंकि स्वस्थ रहने के लिए यह ज़रूरी है |

लेकिन तुम तो मोर्निंग वाक और योगा करके भी अपने को स्वास्थ  रख सकते हो |

इतना कहना था कि वह मेरे पास ही बेंच पर बैठ गया और हमलोग गप्पे मारने लगें |

बातों बातों में मैंने पूछ लिया …आज कल आप क्या करते हो ?

मैं एक आई टी फर्म में जॉब करता हूँ | फिर उसने अपने दिल की बात कह दी |

हमारे देश में पिछले 10 माह से फैली कोराना महामारी के चलते हम लोगों का घर से बाहर निकलना और घूमना फिरना कम हो गया है, या यूँ कहें कि लगभग बंद हो गया है |

यहां तक कि ऑफिस आदि में काम करने वाले लोग भी लंबे समय से “वर्क फ्राम होम”(work from home ) कर रहे हैं। ऐसे में लोगों की सिटिंग काफी बढ़ गई है। मैं भी उन्ही लोगों में से एक  हूँ |

मुझे १० बजे दिन से लेकर 11 बजे रात तक लगातार लैपटॉप पर बैठ कर काम करना होता है | काम  के कारण मूवमेंट बिलकुल नहीं हो पाता  है |

इसलिए हमलोगों ने मिल कर फैसला किया है कि रोज सुबह एक घंटा पार्क में क्रिकेट खेलेंगे और छुट्टी के दिन में भी कोई ना कोई गेम खेलेंगे ताकि शारीरिक कसरत होता रहे और इस नये माहौल में ऑनलाइन काम के कारण उभरे तनाव को कम किया जा सके |

हमने भी कही पढ़ा था कि ..हाल ही में ब्रिटिश जर्नल ऑफ स्पोर्ट्स मेडिसिन ने इस संबंध में अहम सुझाव दिए हैं।

  हजारों की संख्या में लोगों के दैनिक जीवन से जुड़ी गतिविधियों पर अध्ययन किया गया। शोधकर्ताओं ने पाया कि ऐसे लोग जो दिन भर निष्क्रिय रहते हैं या लगातार बैठ कर काम करते है, उनकी युवा अवस्था में ही मृत्यु होने की आशंका बढ़ जाती है |

लेकिन यदि लोग थोड़ा भी मूवमेंट करते हैं और खेल कूद करते है तो इस आशंका को काफी हद तक कम किया जा सकता है।

शोधकर्ताओं ने यूरोप और अमेरिका में रहने वाले 50,000 लोगों पर किए गए  अध्ययनों की तुलना कर कई परिणाम निकाले है |  

इन अध्ययनों में अधेड़ उम्र के पुरुषों और महिलाओं को शामिल किया गया। शोधकर्ताओं ने पाया कि यदि लोग 11 मिनट तक भी हल्की एक्सरसारइज या वॉक तेजी से करते हैं तो लंबी सिटिंग से होने वाले दुष्प्रभावों को काफी हद तक कम किया जा सकता है।

साथ ही यदि लोग 35 मिनट तक तेज एक्सरसारइज करते हैं तो इन दुष्प्रभावों को पूरी तरह खत्म किया जा सकता है फिर वे चाहे जितने घंटे बैठ कर काम करते हो ।

चूँकि दिन में  और रात में खेलने का टाइम नहीं मिल पाता है, इसी कारण इस अपार्टमेंट के सभी बच्चे , युवा और बूढ़े लोग मिलकर फैसला किया है कि सुबह सात बजे से नौ बजे  तक क्रिकेट या फिर कोई और गेम खेलेंगे |

आपसे भी आग्रह है कि हमारे साथ इस खेल में  शामिल हो जाएँ | इस तरह  कोरोना काल में अपने को स्वस्थ रखने में मदद मिलेगी | सचमुच आज कल लोग स्वास्थ के प्रति कितना संवेदनशील  है |

दोस्तों, ऐसा लगता है कि यह कोरोना  आसानी से पीछा छोड़ने वाला नहीं है, इसलिए आप ने  भी इससे लड़ने का कारगर उपाय कर रखा होगा |

इस विषय पर आप के अपने सुझाव भी ज़रूर हमारे साथ share करें …….

घर से निकलते ही , ..गर मिल गया कोरोना

चलेगा न कोई बहाना…, जीवन से हाथ धोना ।।

जीवन बड़ा अनमोल, …मूर्खता में मत गंवाओ

डरना है बहुत ज़रूरी, …दुष्साहस मत दिखाओ।।

जात देखता है , ….न औकात देखता भाई

कोरोना बड़ा बेदर्द…., केवल गात देखता भाई ||

इससे पहले की घटना हेतु नीचे link पर click करे..

https://wp.me/pbyD2R-1Sf

BE HAPPY….BE ACTIVE….BE FOCUSED….BE ALIVE…

If you enjoyed this post, please like, follow, share and comments

Please follow the blog on social media …link are on contact us page..

www.retiredkalam.com

स्वस्थ रहना ज़रूरी है …..5

दोस्तों,

सर्दी के मौसम का आगमन हो चूका है और आजकल तो ठण्ड कुछ ज्यादा ही बढ़ गया है |  ऐसे में सर्दी, खांसी- बुखार के साथ ही गले और छाती में बलगम बनने लगता है |

छाती और गले में बलगम बनने से सांस लेने में तकलीफ होने लगती है | गले में जकड़न होने से  लगातार छींक होना, नाक बहना, बुखार आता है और  साथ ही बलगम वाली खासी होने से सीने में दर्द भी महसूस होता है |

यह सब इस ठण्ड के कारण होने वाले रोगों के आम लक्षण है |

लोग कहते है कि करोना संक्रमण का खतरा भी इन दिनों में बढ़ जाता है |

आयुर्वेदिक पद्धति के अनुसार ,ऐसा माना  जाता है कि  यह सब हमारे शरीर में वात, पित्त और कफ के असंतुलन से होता है |

अतः इससे बचने के लिए कुछ आवश्यक सावधानी बरतनी चाहिए, जैसे सुबह गरम पानी और निम्बू का सेवन और इम्युनिटी को बढाने वाले काढ़ा का सेवन करना … इत्यादि |

लेकिन आज कल रोग से ज़ल्दी छुटकारा पाने के चक्कर में हमलोग बार बार एंटी बायोटिक दवाओं का इस्तेमाल करते है | कभी कभी  इससे कई दुष्प्रभाव (side effect ) का भी सामना करना पड़ता है |

इसलिए इस दवाओं के सेवन से बचना चाहिए और अपने खान पान को नियंत्रित कर इस बीमारी से बचने का प्रयास करना चाहिए  |  

इस सबों के अलावा  देशी और घरेलु इलाज भी काफी कारगर साबित हो सकता है |

वैसे खाद्य पदार्थ जो कफ को बढ़ाते है उससे बचना चाहिए | आइये इस पर हम चर्चा करते है …

दूध और वसा  वाली चीज़ों का सेवन न करें

हमलोग सभी जानते है कि दूध कफ को बढाता है | अगर आपकी कफ वाली  प्रकृति है तो  दूध का सेवन कम करना चाहिए या  फिर दूध में हल्दी मिला कर पीने से लाभ होता है |

वसा (Fat ) वाली चीजों का सेवन भी कफ बढाने  का काम करते है, इसलिए जितना हो सके इससे बचना चाहिए |

 पनीर और मक्खन. का सेवन न करें …

पनीर भी दूध से बना होता है इसलिए पनीर से कफ तो बनता ही है, कई लोगों को पाचन सम्बन्धी समस्या भी उत्पन्न हो जाती है क्योकि वे इन्हें आसानी से नहीं पचा पाते है |

मक्खन में तो फैट अधिक होता है इसलिए यह भी कफ बढाने  का काम करता है |

इसलिए कफ की समस्या होने पर पनीर और मक्खन से बनी चीजो का सेवन से परहेज करना चाहिए |

मांस  का सेवन न करें

कफ बढ़ने पर मांस का सेवन नुकसान दायक हो सकता है इसलिए कफ की समस्या होने पर मांस का सेवन कम से कम करना चाहिए |

वैसे हमारी ही किचन में कई ऐसे घरेलु नुस्खे (Home Remedies) छिपे होते हैं जिनसे खांसी-जुकाम जैसी बिमारियों पर नियंत्रण किया जा सकता है तो आइए ऐसे नुस्खे पर चर्चा करते है .. ..

गुड़ का सेवन .. ..

भोजन के बाद थोड़े से गुड़ का सेवन बहुत ही फायदेमंद होता है  | क्योकि गुड़ की तासीर गर्म होती है और इसके दोहरे फायदे है क्योंकि यह कफ को कम तो करता ही है, साथ ही पाचन क्रिया को भी बेहतर बनाता है |

तुलसी और अदरक का सेवन.. …

तुलसी, सोठ, अदरक और शहद जैसी चीजों का सेवन कफ को कम करने में राम वाण का काम  करता है | और इन्हें किसी भी तरह से डाइट में शामिल किया जा सकता है | इसके साइड इफ़ेक्ट भी नहीं है |

काली मिर्च का सेवन.. ..

सबसे पहले काली मिर्च के कुछ दानों को अच्छी तरह पिस लें | दो कप पानी गर्म करें और काली मिर्च का पाउडर उसमे मिक्स कर दें | जब पानी उबल कर एक चौथाई रह जाए तो इसे छान लें | अब उसमे एक चम्मच शहद मिला कर अच्छी तरह मिक्स कर लें | आपको इसका सुबह-शाम दोनों समय सेवन करना चाहिए | खासी में बहुत ही लाभ होता है |

 यह खांसी के अलावा टी बी के मरीजों के लिए भी फायदेमंद है.|

ऐसा माना  जाता है कि काली मिर्च में विटामिन ,करोटेंस एंटी ओक्सिडेंट, कैल्शियम, फोस्फोरस, आयरन, पोटासियम, मैग्नीशियम जैसी कई जरूरी पोषक तत्त्व होते है जो शरीर  के बहुत लाभकारी होते है |

पिपरिन नामक तत्व के कारण इसका स्वाद सबसे अनोखा होता है | काली  मिर्च कैंसर और टी बी जैसी खतरनाक बिमारियों से शारीर की रक्षा करती है

शहद, नींबू और इलायची का मिश्रण

आधा चम्मच शहद में एक चुटकी इलायची पाउडर और कुछ बूंद नींबू के रस की बूंदे डालिए। इस सिरप का दिन में 2 बार सेवन करें। आपको खांसी-जुकाम से काफी राहत मिलेगी।

गर्म पानी और नमक से गरारे

गर्म पानी में चुटकी भर नमक मिला कर गरारे करने से खांसी-जुकाम के दौरान काफी राहत मिलती है। इससे गले को राहत मिलती है और खांसी से भी आराम मिलता है। यह भी काफी पुराना नुस्खा है।

आंवला का सेवन

आंवला में प्रचुर मात्रा में विटामिन-सी पाया जाता है जो खून के संचार को बेहतर करता है और इसमें एंटी-ऑक्सीडेंट्स भी होते हैं जो आपकी रोग-प्रतिरोधक क्षमता में इजाफा करता है।

हल्दी वाला दूध का सेवन

हमें याद है बचपन में सर्दियों में नानी-दादी सर्दी के मौसम में रोज हल्दी वाला दूध पीने के लिए देती थी। हल्दी वाला दूध जुकाम में काफी फायदेमंद होता है क्योंकि हल्दी में एंटीआॅक्सीडेंट्स होते हैं जो कीटाणुओं से हमारी रक्षा करते हैं।

रात को सोने से पहले इसे पीने से तेजी से आराम पहुचता है. हल्दी में एंटी बैक्टीरियल और एंटी वायरल प्रॉपर्टीज मौजूद रहती है जो की इन्फेक्शन से लडती है. इसकी एंटी इंफ्लेमेटरी प्रॉपर्टीज सर्दी, खांसी और जुकाम के लक्षणों में आराम पहुंचाती है.

गर्म पानी का सेवन

जितना हो सके गर्म पानी पिएं। आपके गले में जमा कफ खुलेगा और आप सुधार महसूस करेंगे।

अदरक-तुलसी का सेवन

अदरक के रस में तुलसी मिलाएं और इसका सेवन करें। इसमें शहद भी मिलाया जा सकता है।

अलसी का सेवन

अलसी के बीजों को मोटा होने तक उबालें और उसमें नीबू का रस और शहद भी मिलाएं और इसका सेवन करें। जुकाम और खांसी से आराम मिलेगा।

अदरक और नमक

अदरक को छोटे टुकड़ों में काटें और उसमें नमक मिलाएं। इसे खा लें। इसके रस से आपका गला खुल जाएगा और नमक से कीटाणु मर जाएंगे।

लहसुन का सेवन

लहसुन को घी में भून लें और गर्म-गर्म ही खा लें। यह स्वाद में खराब हो सकता है लेकिन स्वास्थ्य के लिए एकदम शानदार है।

गर्म पदार्थों का सेवन

सूप, चाय, गर्म पानी का सेवन करें। ठंडा पानी, मसालेदार खाना आदि से परहेज करें।

जिन दोस्तों को इन उपरोक्त उपायों से ज्यादा फायदा महसूस नहीं होता हो तो उनको सलाह है कि वे कुछ दवा दारू वाले उपाय के बारे में भी सोच सकते है …. क्रमशः

Health  है जीवन में ..सबसे अमूल्य Wealth
ध्यान रखना जरूरी..जिंदगी ना बन जाये मजबूरी।
रखिये हमेशा इसका ध्यान..परिवार का होगा कल्याण।
कोई भी हो कितना विद्वान…इसके बिना ना हो सके महान।।

 (नोट: कोई भी उपाय अपनाने से पहले डॉक्टर्स की सलाह जरूर लें)

इससे पहले की घटना जानने  हेतु नीचे link पर click करे..

https://wp.me/pbyD2R-1L4

BE HAPPY….BE ACTIVE….BE FOCUSED….BE ALIVE…

If you enjoyed this post, please like, follow, share and comments

Please follow the blog on social media …link are on contact us page..

www.retiredkalam.com

Practice yoga during coronavirus?

Dear friends.

Winter has arrived . Today I went for a morning walk after a long gap, in the Park.. I found few changes there..

Parks usually look very beautiful during the winter season.

The park was filled with greenery, trees and seasonal flowers all around. The sun was blazing and very relaxed due to cold weather.  After a short walk I sat down on the marble bench in the sunlight feeling pleasant .

Few of my friends were sitting around and posing their Yoga postures.

I also joined in the exercise. I use to do yoga everyday here during morning walk. We also discussed why Yoga is necessary during covid-19,

Mr Mathur said…I didn’t start yoga until 2005 but once I started, I am doing daily thought out the year and it has been our habit to do yoga daily in the morning.

In the initial days when I joined yoga class my body was tight and rigid and I was least flexible person in the Yoga class and I was thinking that learning yoga is not under my control.

I couldn’t touch my toes and I couldn’t get into even half the positions. But slowly I improved and that’s what yoga is there for – to allow your body to reach it’s full potential and to move and perform the way it was.

Yoga is one of the greatest habits of all time. I love Yoga and recommend it to everyone.,

We have learnt that Yoga is a holistic practice that strengthens our physical body, as well as the microscopic systems that are not visible to the naked eye.

As a result, the body’s natural defense mechanisms also improve. A healthy, disease-free body can be easily achieved by adopting a healthy lifestyle, including eating unprocessed foods, maintaining a regular yoga and meditation practice, getting plenty of sleep, and minimizing stress.

Ayurveda, yoga, and meditation are the keys to achieving our full potential. To reap the immune-boosting results of yoga, be sure to maintain a daily practice !

While a regular yoga practice, combined with a 20-minute meditation, can result in increased health.

However, know that it is not a substitute for medical treatment. It is important to learn and practice yoga postures under the supervision of a trained teacher. In the case of a medical condition, practice yoga postures after consulting a doctor.

Yoga is a spiritual, mental and physical practice that has been around since ages. With time, people have discovered a number of health benefits associated with yoga.

Yoga does more than burning calories and strengthening.  

Yoga means addition – “addition of energy, strength and beauty to body, mind and soul.”

I mention here some of the benefit of yoga..


• Improves posture :

Working for long hours on a desk could not only hurt your spine but also make you feel tired at the end of the day. Practicing certain yoga asana could help you in improving your posture and also prevent pain in your neck and lower back.


• Increases flexibility :

When was the last time you wished you could easily touch your toes which bending forward? Well, practicing yoga could help you in that. Yoga can not only help you in increasing your flexibility but also let you perform complex asanas.


• Builds muscle strength :

Yoga could help in strengthening weak muscles of the body. It helps in toning which prevents frequent straining of the muscles.


• Boosts metabolism :

Yoga helps in retaining the vitality in your body along with keeping it fit. It motivates you towards healthy eating and improves the metabolic system of the body.


• Helps in lowering blood sugar
:

Yoga not only helps in lowering blood sugar but also lowers bad cholesterol and boosts good cholesterol. It encourages weight loss and improves the body’s sensitivity to insulin.


• Increases blood flow
:

The relaxation exercises in yoga regulates blood to all parts of your body. Exercises such as handstand, helps venous blood from the lower part of the body to flow back to your heart, where it can be pumped back to the lungs to be oxygenated.


• Keep diseases at bay :

Yoga exercises have a beneficial effect on the immune system. It not only helps in destroying various viruses we catch during season change, but also boosts our immunity to fight off diseases.


• Increases self-esteem

Practicing yoga would help you explore a different side of yourself. It would make you feel good about yourself and helps you take a positive approach in life.


• Improves lung function
:

A lot of breathing exercises are said to improve lung function. Doing such exercises in a long run could cure respiratory problems. It also increases the capacity of your lungs.


• Helps you sleep better:

Yoga helps in reducing stress and creates a routine which in turn makes a regular sleeping pattern. A relaxed body gets a deeper and more peaceful sleep.

Can yoga help me boost immunity ?

Does it work instantly or is it slow to show the results?

Can I practice yoga during the COVID-19?  

The answer is …YES

Please click the Link below to visit next Blog….

https:||wp.me|pbyD2R-1uE

BE HAPPY….BE ACTIVE….BE FOCUSED….BE ALIVE…

If you enjoyed this post, please like, follow, share and comments

Please follow the blog on social media …link are on contact us page..

www.retiredkalam.com

Why walking is necessary ???…

This morning when I was walking in the park, I saw people of all age. Children, teens and senior citizen are enjoying walking in groups.

Really, people have become so health conscious these days and everyone realizes the importance of physical and mental fitness.

Study shows that walking in nature reduces ruminating over negative experience which lowers risk of depression.

Now a day’s doctors are also advising to walk at least 15 -30 minutes daily in the morning or evening.

To gain cardiovascular benefits, experts recommend at least 150 minutes of moderate physical activity per week. That breaks down to about 21 minutes per day if you walk every day or 30 minutes per day five times per week. If weight loss is your goal, more physical activity is recommended, along with dietary changes.

Yes, this simple activity is a boon for our overall health.

walking is really good form of exercise and can help us in reaching our fitness and weight loss goal .

There are so many benefits of walking.  some of the benefit are mentioned here.

Healthier brain, healthier mind…..

One study has shown that walking provides plenty of benefits to our brains. When you walk , the level of endorphins increase ..thus significantly reducing the stress levels.

It also supports the overall brain health and can even reduce the risk of dementia and Alzheimer’s disease.

Better vision …

It might seem unusual but walking can even improve vision. It works by releasing the eye pressure and reducing glaucoma.

 Healthy heart…

According to the American heart association, walking is as beneficial for the heart as running. It can help reduce the risk of heart related disease. Walking stabilizes the blood pressure, reduces cholesterol level and improves blood circulation.

Increased Lung volume.

When you walk, your lungs get more oxygen which then distributed throughout your entire body. Besides removing toxins, walking can improve lung function thus preventing respiratory diseases.

Healthier Pancreas…

Regular walks can help maintain healthy glucose levels. It is even more efficient in preventing diabetes than running. People who walk regularly have healthier blood sugar level than those who run.

Improved digestion.

By walking 30 minutes a day not only lower the risk of colon cancer but also improve our digestion and can relieve constipation and flatulence.

Linear muscle.

when you lose body fat, your muscle become more prominent and linear. You can achieve this by walking 10,000 steps a day. If you want to add intensity to your walks, try walking uphill or add an interval in between. This can increase the muscle tone in various parts of your body. Also walking is not a rigorous exercise for the body so you will not experience soreness or wait for your muscles to heal before you continue walking.

Strong bones and joints…

The  arthritis foundation recommends walking for a healthier body. Painful and stiff joints will be relieved by walking 30 minutes a day. It will also not cause additional damage or pain and can prevent bone loss.

Reduced back pain…

High impact exercises can harm the back but not walking. it is a low impact exercise that actually relieves back pain by promoting blood flow to the spinal area and improving posture and flexibility of the back muscles.

Balanced mind. …

If you experience mood disorders, walking can help you lighten up. Walking with someone is even more helpful. Regular walks can reduce stress, depression and anxiety levels.

Anyone can improve their health with walking simply by increasing your daily steps. Get up from your desk every hour and walk around your office. Take a leisurely stroll after dinner. Grab the kids and walk to school instead of driving.

You may find that you enjoy walking enough to put together a more structured program that provides even greater benefits..

BE HEALTHY….BE HAPPY….BE ACTINE ….BE ALIVE

Please click the link below for the next Blog…

https://wp.me/pbyD2R-1Jc

If you enjoyed this post, please like, follow, share and comments

Please follow the blog on social media …link are on contact us page..

www.retiredkalam.com

स्वस्थ रहना ज़रूरी है ..4

 दोस्तों,

जैसा कि हमलोग महसूस कर पा रहे है कि  ठण्ड ने इन दिनों दस्तक दे दी है. सर्दी का मौसम आते ही इसका असर हमारे स्वास्थ्य पर भी दिखना शुरू हो  गया है. जैसे त्वचा का रुखा हो जाना , सुबह उठने में ठण्ड के कारण आलस्य  होना , सर्दी-जुकाम और खांसी जैसी बिमारियों के  आक्रमण का शुरू हो जाना  इत्यादि इत्यादि /

ऐसे में  सर्दियों से मुकाबला करने के लिए कुछ ज़रूरी सावधानियां और खान पान को ठीक तरह से नियंत्रित कर अपने  सेहत का ख्याल रखा जा सकता है / वैसे तो शरीर को स्वस्थ रखने के लिए ठण्ड का मौसम बहुत उपयुक्त होता है /

इसके  अलावा एक और बात, आजकल जो कोरोना का संक्रमण है वो जाड़े में ज्यादा ही आक्रामक होने की सम्भावना है , इसके लिए सर्दी और ज़ुकाम से बचना बहुत ही आवश्यक है / अपनी दिनचर्या को नियमित करना बहुत ज़रूरी है , इसके लिए निम्नलिखित बातों पर ध्यान देने की  आवश्यकता है .. 

एक्सरसाइज के साथ लंबी वॉक करें  :

शारीर को  फिट रखने के लिए  रोज़ सुबह एक्सरसाइज करना बहुत जरूरी है. इससे आप अपने वजन को कंट्रोल कर सकते हैं. साथ ही आलस्य कम होता है और फुर्ती बनी रहती है / इसके साथ – साथ लंबी वॉक भी कर सकते हैं. इससे बॉडी में गर्मी पैदा होती है और खून का संचालन तेज हो जाता है / फलस्वरूप हम स्फूर्ति का अनुभव करते है / 

जो सुबह – सुबह करोगे खुले आसमां के नीचे सैर।
आसमां से बरसायेगा खुदा अच्छे स्वास्थ्य के बैर।।

सही आहार के साथ ही  नमक का सेवन भी कम करें ..

सर्दियों में नमक का सेवन कम करना चाहिए. क्योंकि ज्यादा नमक दिल की बीमारियों को दावत देता है. इस मौसम में ब्लड शुगर और कोलेस्ट्रोल को कंट्रोल करना ही बहुत ज़रूरी है

इसके आलावा अपने खाने में ओमेगा 3 फैटी एसिड जोड़े / यह एक स्वस्थ प्रकार का वसा है जो स्वाभाविक रूप से मछली, पौधे के बीज, तीसी (Flex Seed )  और नट्स सहित कई प्रकार के भोजन में पाया जाता है / यह एंटी-इन्फ्लेमेट्री  है और जोड़ो के दर्द  और मांसपेशियां के खिचाव से बचाते है / यह मानसिक तनाव और चिंता फ़िक्र को कण्ट्रोल करने में भी मदद करता है /

खाने में हल्दी को शामिल करें…

हल्दी एक चमत्कारी मसाला है जिसका उपयोग प्राचीन काल से घाव, सुजन और ह्रदय रोगों के इलाज़  में किया जाता है / यह एक शक्तिशाली एंटी -ओक्सिडेंट  के रूप में काम करता है / अपने भोजन में उचित मात्र में सेवन करने पर यह सर्दियों की असुविधाओं से निपटने में बहुत मदद करती है / शारीर को गर्म रखने के लिए सोने से पहले दूध में मिला कर इसका इस्तेमाल किया जा सकता है /

रेशेदार भोजन करें ..

वैसे तो जाड़े के दिनों में तरह तरह के सब्जियों की भरमार रहती है ,लेकिन हमें रेशेदार सब्जियों जैसे फूलगोभी, ब्रोकली और सभी तरह के बिन, का ज्यादा उपयोग करना चाहिए | इसमें पोषक मूल्य अधिक होती है |  इसके आलावा अनार, अंकुरित अनाज , खट्टे फल जैसे अंगूर , संतरे, अमरुद , पपीता  आदि विटामिन सी और विटामिन ए का बहुत अच्छा स्रोत है |

इस सभी में घुलनशील फाइबर होता है और प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ावा देने में मदद करता है |  और आगे वायरस और बैक्टीरिया से लड़ने में सहायक होता  है, जो ठंडी हवा और सर्दी के कारण आक्रमण करते है एक उच्च फाइबर आहार पाचन तंत्र को भी  दुरुस्त रखता है और सभी आयु वर्ग  के लोगों में कब्ज़ से बचाता है और पेट साफ़ रखने में मदद करता है | 

प्रयोग में लो दूध – छाछ, हरी ताजी सब्जी।
छू हो जाएगी पेट से तुम्हारे भैया कब्जी।।

खुद को ठंड से बचाएं

इस मौसम में खुद को ठंड से बचाकर रखें | ज्यादा से ज्यादा गर्म कपड़ों से तन को ढककर रखना चाहिए |  पैर, सिर और कानों को ठंडी हवा से बचा कर रखना चाहिए  और सरसों तेल की मालिस करना चाहिए |

शारीरिक आराम ज़रूरी : पूरी नींद लें

यह देखा गया है कि जो लोग आठ घंटे की पूरी नींद लेते है , उनमे ठण्ड लगने की सम्भावना काफी कम रहती है | क्योकि शरीर में मेलाटोनिन नामक  हार्मोन्स का स्राव होता है जो गहरी  नींद को प्रेरित करता है और मानसिक तनाव और जी घबराहट जैसी बिमारी से बचा जा सकता है |

 हमें  8 घंटे की नींद जरूर लेनी चाहिए | नींद पूरी होने से दिन भर स्फूर्ति बनी रहती है | इसके अलावा खाने में हमेशा गर्म चीजों का सेवन भी करें | सर्दियों में स्किन फटने लगती है, इसलिए तेल या बॉडी लोशन का इस्तेमाल करना चाहिए |

पानी और ड्रिंक्स

सर्दियों में आवश्यकतानुसार ही पानी पीना चाहिए. और कोशिश होनी चाहिए कि गरम पानी का ज्यादा से ज्यादा सेवन करें | हर्बल-टी तो वो जरूर पीएं, क्योंकि इससे एलडीएल कोलेस्ट्रोल और ट्राइग्लिसराइड का लेवल कम हो जाता है |

जिन दोस्तों को इन उपरोक्त उपायों से ज्यादा फायदा महसूस नहीं होता हो तो उनको सलाह है कि वे कुछ दवा दारू वाले उपाय के बारे में भी सोच सकते है …. क्रमशः

Health  है जीवन में ..सबसे अमूल्य Wealth
ध्यान रखना जरूरी ..जिंदगी ना बन जाये मजबूरी।
रखिये हमेशा इसका ध्यान ..परिवार का होगा कल्याण।
कोई भी हो कितना विद्वान…इसके बिना ना हो सके महान।।

 (नोट: कोई भी उपाय अपनाने से पहले डॉक्टर्स की सलाह जरूर लें)

Please click the undernoted link to visit similar Blog……

https://wp.me/pbyD2R-1ym

BE HAPPY… BE ACTIVE … BE FOCUSED ….. BE ALIVE,,

If you enjoyed this post, don’t forget to like, follow, share and comments.

Please follow the blog on social media….links are on the contact us  page

www.retiredkalam.com

स्वस्थ रहना ज़रूरी है …3

मेरी इतनी हिम्मत कहाँ कि मैं अपनी किस्मत को बदल दूँ

लेकिन जब भी देखा है तुझे ज़िन्दगी…बस मुस्करा देता हूँ….

खुल कर हँसे

बात उन दिनों की है जब मैं बैंक में था और  पहली बार सात दिनों की ट्रेनिंग के लिए मुझे जयपुर ट्रेनिंग सेंटर में जाना हुआ | वहाँ विभिन्न शाखाओं से आये हुए नए नए साथियों से जान पहचान हुई | पहले दिन का अनुभव बड़ा लाजवाब था |

हमारे एक दो परिचित स्टाफ  भी वहाँ  आये  थे तो  उनके  साथ ही मेरा ज्यादा समय बीत रहा था |

घर से दूर रहने के बाबजूद बहुल अच्छा महसूस हो रहा था | मुझे एहसास हुआ कि यहाँ आने के बाद शाखा में जो काम का टेंशन बना रहता था, वह यहाँ नहीं था

और नए नए साथी दोस्तों के साथ हँसी – मज़ाक, साथ में खाना – पीना और घूमना- फिरना … इन सबों के कारण मुझे बहुत अच्छा महसूस हो रहा था |

एक दोस्त ने तो यह भी कहा कि यहाँ ट्रेनिंग के नाम पर हमें इसीलिए भेजा जाता है कि कुछ दिनों  के लिए ब्रांच के टेंशन से हम सब  दूर रह सके | उसके बाद फिर  तरो – ताज़ा होकर अपने शाखा में पहुँचे  और नए जोश के साथ अपने काम में लग जाएँ,  अच्छा परफॉर्म करके अपने शाखा और अपने बैंक का नाम रोशन करें  |

खैर जो भी हो,  मुझे बहुत अच्छा लग रहा था और मैं अपने आप को काफी हल्का महसूस कर रहा था

वहाँ का भोजन भी ठीक – ठाक था और रहने का भी अच्छा प्रबंध था |

सुबह सुबह कुछ आवाज़ मेरी कानो में गई और मेरी नींद  खुल गई | मैं बिस्तर से उठ कर घडी देखा तो सुबह के छह बज रहे थे और कमरे की खिड़की से बाहर देखा तो एक सुन्दर  सा पार्क साफ़ साफ़ दिखाई पड़  रहा था | उस पार्क में काफी पेड़ पौधे और हरियाली दिख रहे थे |

मैंने देखा कि पार्क में बहुत से लोग जिसमे ज्यादातर बुजुर्ग थे, पार्क में टहल रहे थे |

8 -10 लोगों ने  अपनी एक टोली बना रखी  थी | वे सब एक गोलाकार घेरे  में खड़े होकर जोर जोर से हँसने की कोशिश कर रहे थे | कुछ समय तो मैं  देखता रहा, लेकिन मुझे समझ नहीं आया कि लोग बिना बात के पागलों की तरह क्यों हँस रहे  है |

मेरी उत्सुकता बढ़ी और मैं नित्य कर्मो से मुक्त होकर उस पार्क में चला गया जो बिलकुल पास में ही था |

 मैं आश्चर्य चकित हो सोचने लगा  कि बिना मतलब  जोर जोर से हँसने का भी कोई फायदा है क्या |

जब मैंने अपने एक मित्र से इसकी चर्चा की तो उसने बताया कि ये लोग लाफ्टर क्लब के सदस्य है और इनका मानना  है कि  जोर जोर से हँसने पर  शारीरिक लाभ होता है |

 दुसरे दिन भी सुबह सुबह वही नज़ारा दिखा तो मैं फिर रूम से निकल कर पार्क में चला गया और उनलोगों के साथ मैं भी एक्सरसाइज किया  और जोर जोर से हँसने  की प्रक्रिया में  भी भाग लिया |

फिर मैं एक बुजुर्ग से इसके बारे में चर्चा की तो उन्होंने कुछ महत्वपूर्ण जानकारियाँ दी | लाफ्टर के फायदे के बारे में जानकार मुझे बहुत अच्छा लगा |  मैं आज भी उस नियम को फॉलो करने की कोशिश करता हूँ

…उन्होंने बताया था ……

आपकी एक छोटी सी मुस्कान दुसरो को ख़ुशी का एहसास कराती है और खुद के लिए भी फायदेमंद होती है | जिस तरह अच्छी हवा , शुद्ध खान – पान सेहतमंद रहने के लिए ज़रूरी है उसी प्रकार आपकी हँसी भी आपको स्वस्थ रखने में अहम भूमिका निभाती है |

अगर आप सुबह – शाम हँसने की आदत डाल लें तो कोई भी बीमारी, चाहे मानसिक हो या शारीरिक  आप के पास नहीं आएगी |

हेल्थ एक्सपर्ट के मुताबिक रोजाना हँसने से सेहत तो अच्छी रहती ही है, साथ ही शरीर में एनर्जी भी बनी रहती है | आइये जाने कैसे…

..खुल कर हँसने  से हमारे शरीर  में ब्लड सर्कुलेशन सही बना रहता है | दरअसल जब हँसते है तो हमारे शरीर में ज्यादा मात्र में ऑक्सीजन पहुँचता है जो हार्ट पम्पिंग रेट को ठीक रखने में मदद करता है |

..हँसने से हमारा immune सिस्टम बेहतर बनता है जो कई तरह की बिमारियों से लड़ने में मदद करता है | इसलिए स्वस्थ जीवन जीने के लिए ज़रूरी है कि आप हँसते हुए अपने दिन की शुरुआत करें |

..अगर आपको आसानी से रात को नींद नहीं आती है तो आज से ही हँसने की आदत डाल लें | हँसने से शरीर  में “मेलाटोनिन” नाम का हॉर्मोन बनता है जो हमें सुकून की नींद देने में मदद करता है |

..हँसने से हमारा  दिल बेहतर तरीके से काम करने लगता है | साथ ही नियमित रूप से हँसने से हार्ट अटैक और अन्य दिल की बीमारियाँ से बचा जा सकता है |

..जवान और खुबसूरत दिखने के लिए खुल कर हँसना ज़रूरी है | क्योंकि इससे चेहरे में मौजूद मांसपेशियां अच्छी काम करने लगती है,  जिससे चेहरे के चारो तरफ ब्लड सर्कुलेशन अच्छी तरह से होता है जो हमें जवान और खुबसूरत दिखाता है |

..तनाव को दूर करने के लिए जो काम हँसी करती है वो कोई दवाई नहीं कर सकती | दरअसल हँसने से आप लोगों के साथ ज्यादा socially active हो जाते है, जिससे तनाव खुद ही कम हो जाता है |

..जब हम हँसते है तो हमारे  फेफड़ों की  हवा तेज़ी से निकलती है जिसकी  वज़ह से हमें गहरी सांस लेने में मदद मिलती है ..इससे शरीर में ऑक्सीजन की सप्लाई बेहतर तरीके से होने लगती है | हँसने से हमें एनर्जी भी मिलती है जो हमारे शरीर  के थकावट और सुस्ती को दूर करती है .. 

 भोजन आधा पेट कर

दोगुना पानी पीवा

तिगुन श्रम , चौगुन हँसी

वर्ष सवा सौ जीवा

रोज़ हँसे ….खुल कर हँसे ….खूब हँसे

हँसने से तन मन में उत्साह का संचार होता है और दिल से हँसना तो किसी दवा से कम नहीं |

इसलिए आज जगह जगह पर हास्य क्लब बनाए जा रहे है , ताकि भाग दौड़ भरी ज़िन्दगी में तनाव से मुक्ति मिल सके ….आइये आज लाफ्टर डे मनाएं ..

हँस  कर भी जीना है …रो कर भी  जीना है |

जब जीना ही है तो क्यों नहीं हँसते – हँसते जिया जाये……आइये एक वादा करें..

इससे पहले की ब्लॉग हेतु नीचे link पर click करे..

https://wp.me/pbyD2R-1uE

BE HAPPY….BE ACTIVE….BE FOCUSED….BE ALIVE…

If you enjoyed this post, please like, follow, share and comments

Please follow the blog on social media …link are on contact us page..

www.retiredkalam.com

स्वस्थ रहना ज़रूरी है ….2

अच्छी सेहत का अर्थ है कि हम शारीरिक और मानसिक रूप से सेहतमंद है | हर कोई चाहता है स्वस्थ रहना क्योकि अच्छी सेहत किसी भी व्यक्ति के जीवन को व्यवस्थित रखती है |

आप  स्वयं  स्वस्थ रहेंगे तभी भौतिक वस्तुओं का उपभोग कर सकेंगे और ज़िन्दगी को आनंद के साथ जी सकेंगे |

जितना ज़रूरी अच्छी सेहत की आवश्यकता को जानना है उससे ज्यादा ज़रूरी है कि हम अपने को “स्वस्थ कैसे रख सकते है” | आइये कुछ बातों पर गौर करें जिसे अपना कर हम अपने जीवन को स्वस्थ और खुशहाल रख सकते है |

  • १. अच्छे स्वास्थ  के लिए सबसे आवश्यक है… रोज़ सुबह आप कम से कम ३० मिनट का नियमित व्यायाम करें, साथ साथ टहलना और थोड़ी योगा पर भी समय दे..

ऐसा करने से हम अपने को बहुत से शारीरिक समस्या से  दूर रह सकते है |

2. वैसे तो हर उम्र की अपनी समस्याएं होती है | लेकिन ४० वर्ष पश्चात् नियमित जांच साल में एक बार अवश्य कराएँ ताकि कोई भी बीमारी का प्रारंभिक अवस्था में ही पता लगाया जा सके  और उसका उचित इलाज किया जा सके |

 3. शुद्ध और पौष्टिक भोजन बहुत ज़रूरी है | इसके अलावा फल, सब्जी, दूध और  दही, का सेवन करे |

4. सुबह के कामो की आपाधापी में सुबह के नाश्ता को इगनोरे नहीं करे,  समय पर और संतुलित नाश्ता लें |

5. कोई बीमारी पता लगने पर तनाव लेने की बजाये नियमित दवाई ले, डॉक्टर के निर्देश का पालन करे  | मन को मजबूत बनायें व बीमारी को अपने पर हावी होने ना  दें |

6. तनाव लेना छोड़े | छोटी छोटी बातों पर तनाव लेने से बचें…चाहे नौकरी की समस्या हो या आर्थिक या फिर शारीरिक  …सबका कोई ना कोई हल है | समस्या सामने आने पर तनाव लेने के बजाए  समाधान ढूंढ कर उससे निपटने में अपनी उर्जा लगायें |

7. किसी भी तरह के दर्द या परेशानी को झेलते हुए सहनशीलता की मिसाल बनने की बजाए उसका डॉक्टर से निदान करवाएं |

8. अपनी भावनाओं को अपनों के साथ शेयर  करें | अगर कोई नहीं मिलता तो अपनी पर्सनल डायरी में लिख कर अभिव्यक्त करे | आप अपने को हल्का और प्रसन्न महसूस करेंगे |

9. दिमाग को शांत व चित को प्रसन्न रखने का प्रयास करें | इसके लिए मैडिटेशन और योगा को अपनाएँ |

10. मन को हमेशा सकारात्मक सोच व प्रसन्नता से भरा रखे तभी शारीर पूर्ण स्वस्थ रहेगा और दिमाग में व्यर्थ के नकारात्मक विचारों को न आने दें |

11. हर पल अपने आप को एक सन्देश देते रहें…. “मैं बिलकुल ठीक हूँ , मैं सब कुछ कर सकता हूँ, सब अच्छा होगा | आप सुबह सुबह affirmation और visualization का प्रैक्टिस करें |

12. नशीले पदार्थ का सेवन बिलकुल ना करें | और ऐसी कोई ऐसी आदत है तो धीरे धीरे कम करने का प्रयास करें |

12. सब कुछ ठीक होने पर भी कभी कभी स्वास्थ में विकार आ जाये तो परेशान, निराश, उदास नहीं होना चाहिए और ना ही हमेशा उसी के बारे में सोचना चाहिए बल्कि उसे जीवन का एक पड़ाव व हिस्सा मान  सहजता से स्वीकार करना चाहिए |

इसके आलावा भी आयुर्वेद के अनुसार बहुत सी खाने की चीज़ हमारे आस पास मौजूद है जिसको अपनी दिनचर्या में उपयोग कर हम अपने शारीर को निरोगी रख सकते है ..

*आंवला*

किसी भी रूप में थोड़ा सा

आंवला हर रोज़ खाते रहे,

जीवन भर उच्च रक्तचाप

और हार्ट फेल नहीं होगा।

*मेथी *

मेथीदाना पीसकर रख ले।

एक चम्मच एक गिलास

पानी में उबाल कर नित्य पिए।

मीठा, नमक कुछ भी नहीं डाले।

इस से आंव नहीं बनेगी,

शुगर कंट्रोल रहेगी और

जोड़ो के दर्द नहीं होंगे

और पेट ठीक रहेगा।

 *नेत्र स्नान*

मुंह में पानी का कुल्ला भर कर

नेत्र धोये।

ऐसा दिन में तीन बार करे।

जब भी पानी के पास जाए

मुंह में पानी का कुल्ला भर ले

और नेत्रों पर पानी के छींटे मारे, धोये।

मुंह का पानी एक मिनट बाद

निकाल कर पुन: कुल्ला भर ले।

मुंह का पानी गर्म ना हो इसलिए

बार बार कुल्ला नया भरते रहे।

भोजन करने के बाद गीले हाथ

तौलिये से नहीं पोंछे।

आपस में दोनों हाथो को रगड़ कर

चेहरा व कानो तक मले।

इससे आरोग्य शक्ति बढ़ती हैं।

नेत्र ज्योति ठीक रहती हैं।

 *शौच*

ऐसी आदत डाले के नित्य

शौच जाते समय दाँतो को

आपस में भींच कर रखे।

इस से दांत मज़बूत रहेंगे,

तथा लकवा नहीं होगा।

 *छाछ*

तेज और ओज बढ़ने के लिए

छाछ का निरंतर सेवन

बहुत हितकर हैं।

सुबह और दोपहर के भोजन में

नित्य छाछ का सेवन करे।

भोजन में पानी के स्थान पर

छाछ का उपयोग बहुत हितकर हैं।

*सरसों तेल*

सर्दियों में हल्का गर्म सरसों तेल

और गर्मियों में ठंडा सरसों तेल

तीन बूँद दोनों कान में

कभी कभी डालते रहे।

इस से कान स्वस्थ रहेंगे।

 *निद्रा*

दिन में जब भी विश्राम करे तो

दाहिनी करवट ले कर सोएं। और

रात में बायीं करवट ले कर सोये।

दाहिनी करवट लेने से बायां स्वर

अर्थात चन्द्र नाड़ी चलेगी, और

बायीं करवट लेने से दाहिना स्वर

अर्थात सूर्य स्वर चलेगा।

*ताम्बे का पानी*

रात को ताम्बे के बर्तन में

रखा पानी सुबह उठते बिना

कुल्ला किये ही पिए,

निरंतर ऐसा करने से आप

कई रोगो से बचे रहेंगे।

ताम्बे के बर्तन में रखा जल

गंगा जल से भी अधिक

शक्तिशाली माना गया हैं।

*सौंठ*

सामान्य बुखार, फ्लू, जुकाम

और कफ से बचने के लिए

पीसी हुयी आधा चम्मच सौंठ

और ज़रा सा गुड एक गिलास पानी में

इतना उबाले के आधा पानी रह जाए।

रात को सोने से पहले यह पिए।

बदलते मौसम, सर्दी व वर्षा के

आरम्भ में यह पीना रोगो से बचाता हैं।

सौंठ नहीं हो तो अदरक का

इस्तेमाल कीजिये

*टाइफाइड*

चुटकी भर दालचीनी की फंकी

चाहे अकेले ही चाहे शहद के साथ

दिन में दो बार लेने से

टाइफाईड नहीं होता।

*ध्यान*

हर रोज़ कम से कम 15 से 20

मिनट मैडिटेशन ज़रूर करे।

 *नाक*

रात को सोते समय नित्य

सरसों का तेल नाक में लगाये।

हर तीसरे दिन दो कली लहसुन

रात को भोजन के साथ ले।

प्रात: दस तुलसी के पत्ते और

पांच काली मिर्च नित्य चबाये।

सर्दी, बुखार, श्वांस रोग नहीं होगा।

नाक स्वस्थ रहेगी।

*मालिश*

स्नान करने से आधा घंटा पहले

सर के ऊपरी हिस्से में

सरसों के तेल से मालिश करे।

इस से सर हल्का रहेगा,

मस्तिष्क ताज़ा रहेगा।

रात को सोने से पहले

पैर के तलवो, नाभि,

कान के पीछे और

गर्दन पर सरसों के तेल की

मालिश कर के सोएं।

निद्रा अच्छी आएगी,

मानसिक तनाव दूर होगा।

त्वचा मुलायम रहेगी।

सप्ताह में एक दिन पूरे शरीर में

मालिश ज़रूर करे।

 *योग और प्राणायाम*

नित्य कम से कम आधा घंटा

योग और प्राणायाम का

अभ्यास ज़रूर करे।

*हरड़*

हर रोज़ एक छोटी हरड़

भोजन के बाद दाँतो तले रखे

और इसका रस धीरे धीरे

पेट में जाने दे।

जब काफी देर बाद ये हरड़

बिलकुल नरम पड़ जाए

तो चबा चबा कर निगल ले।

इस से आपके बाल कभी

सफ़ेद नहीं होंगे,

दांत 100 वर्ष तक निरोगी रहेंगे

और पेट के रोग नहीं होंगे।

 *सुबह की सैर*

सुबह सूर्य निकलने से पहले

पार्क या हरियाली वाली जगह पर

सैर करना सम्पूर्ण स्वस्थ्य के लिए

बहुत लाभदायक हैं।

इस समय हवा में प्राणवायु का

बहुत संचार रहता हैं।

जिसके सेवन से हमारा पूरा शरीर

रोग मुक्त रहता हैं और हमारी

रोग प्रतिरोधक शक्ति बढ़ती हैं।

 घी खाये मांस बढ़े,

अलसी खाये खोपड़ी,

दूध पिये शक्ति बढ़े,

भुला दे सबकी हेकड़ी।

तेल तड़का छोड़ कर

नित घूमन को जाय,

मधुमेह का नाश हो

जो जन अलसी खा |

इन सब बताये गए नियमों का पालन कर हम अपने शारीर और मन दोनों को स्वस्थ रख सकते है |

आप स्वस्थ रहे , प्रसन्नचित रहे , ऐसी कामना करता हूँ |

इससे पहले का ब्लॉग  हेतु नीचे link पर click करे..

https://wp.me/pbyD2R-88

BE HAPPY….BE ACTIVE….BE FOCUSED….BE ALIVE…

If you enjoyed this post, please like, follow, share and comments

Please follow the blog on social media …link are on contact us page..

www.retiredkalam.com

Our Mental and Emotional health

source:Google.com

Now a days it is being seen that the corona is beginning to take frightful form every day, due to which everyone is living in fear and we all are going through terrible stress.

More and more people are not dying of disease itself, but due to unmanageable stress of the pertaining situations. We are suffering from the stress and anxiety due to abnormal situation of lock down.

In such situation, mental and emotional health has paramount importance for our overall health and immunity.

Nowadays most of us take part in some kind of activity to be physically healthy – like going to gym, walking, swimming or playing in the field etc. Similarly, to maintain mental and emotional health of all of us, some activities should also be included ………….

There is usually a misconception that having no mental health disorder means that the person is mentally and emotionally healthy. Experts say that not only depression, anxiety, or other disorder, does not necessarily mean that the person is mentally or emotionally healthy. Come find out what are the signs of being mentally healthy of a person..

Why invest in our emotional health?

Managing emotions and maintaining emotional balance is an important skill. Lack of emotion regulation skills can lead to poor health, relationship difficulties, and mental health problems. Staying mentally and emotionally healthy helps us to face challenges, stresses and failures and also boost our immunity.


It prepares us to do more tasks in daily life. A person who is mentally and emotionally healthy is able to make eye contact with himself and with others, is also more equipped to face the challenges that life brings.

Bengaluru-based counsellor Maulika Sharma says that “we have to face challenges, and we have to deal with people and things we don’t like. We try to control our situations when we only do things around us. We can control our interpretation. The more we are able to accept the challenges, the more mentally and emotionally healthy we can become “.

Take care of your mental well-being. The idea of ​​taking care of your mental well-being can seem vague, complex or challenging. However, experts say that you can take care of your mental well-being by incorporating some simple daily activities into your routine, or making some minor changes in your lifestyle. Here are some ways you can start:

1. Take care of your physical health :

Physical health plays an important role in ensuring that you are mentally healthy. By eating well, getting enough rest and exercise, and actively taking care of physical health, you can stay healthy.

Fresh nutrient rich food helps the body to cope with daily stress. Foods rich in vitamin B-12 and omega 3 fatty acids keep the levels of mood regulating chemicals high in the brain.


It is also important to get adequate rest; The body fixes its daily wear and tear while we are sleeping. Lack of sleep can make you feel tired, stressed and sick. Adequate exercise also improves appetite, and helps you get enough sleep which is important for your mental well-being.


2. Exercise and get some fresh air :

In the morning, we should enjoy a morning walk in the nearby parks and get fresh air and exercise . We know that the Sunlight increases serotonin production in the brain – a chemical that regulates mood. Staying in sunlight daily helps in avoiding depression..

Physical activity is also beneficial for the brain. Exercise increases energy, reduces stress and mental fatigue. Find an activity that you enjoy so that this process can be exciting for you.

3. Take care of yourself :

Taking care of yourself is an essential part of mental and emotional well-being. Expressing your feelings in a constructive way makes it easier to face stress and conflict. Set aside time for yourself; Look at your emotional needs, read good book, satisfy yourself, or just relax and be free without worrying about your daily tasks.

Separate your gadgets and pay attention to what is happening around you while becoming more conscious. “Being more conscious means being in the present without thinking too much about the past or the future; choose who you want to respond to, rather than drifting away with whatever appears to be in your mind or experience. ;

Focusing one place at a time, while remaining unconcerned, have an attitude of impermanence towards things and situations. It helps to be open to experiences and not to be overly influenced. ” Says Dr. M. Manjula, Additional Professor of Clinical Psychology, NIMHANS.

4. Stay close to people with whom you enjoy :

Spending time with people you love and whom you get along with, brings a feeling of being valued and appreciated. Having healthy relationships with your friends, family, colleagues and neighbours will help you in emotional health

Plan to have lunch with a colleague or spend some time with an unseen friend. It is true that,  no technology can replace a smile or a hug to a beloved.

5. Engage in a hobby, or a new activity :

Participating in activities that make you happy, helps you stay busy and happy. It keeps your mind busy and can help express your feelings, especially the one you find difficult to share with others. Hobbies can help relieve your stress and increase self-esteem.

Trying out new activities, helps keep the perspective fresh, and keeps you busy taking steps outside your comfort zone. The learning process helps to change patterns of thinking as you focus on new skills. Picking a new skill is a challenge for you, your concentration level increases, and you love learning something new. It also boosts your confidence in you being able to face new situations, new challenges and new people.

6. Handle stress :

We all have certain people or events that cause stress. Identify these reasons, retry the evaluation of those situations to reinterpret them. In some situations you can try to stay away from stress-causing situations, but this is not always effective or possible.

Sometimes, stress can also be caused by a lack of strategies to handle certain situations or life events. This is why it is a necessity to learn skills to address your stress.

“If you know that exams increase stress, then you should learn how to keep the exam in perspective so that it does not become an event that defines your life, because the exam is something that will be faced.

In some cases, Stress-causing situations can be avoided, but you need to be able to differentiate which situations can and cannot be avoided. Make strategies to manage your stress so that you can take better care of yourself including trusting, reinterpretations of your situation, meditation, walking, listening to music, exercising, etc.,

7. Accept Yourself and Have Faith :

It is the fact that, We are all different, and we all have our strengths and weaknesses. Identifying and acknowledging your strengths and acknowledging your weaknesses gives you the courage to believe in yourself and the strength to move forward.

Each one has weaknesses, and you also have;

You can choose to change the weaknesses that you do not like or to accept the weaknesses you can live with. But accepting that you have some weaknesses like everyone else does .

That it is okay that you are less than perfect is an important component of your mental and emotional well-being. Set realistic goals. Try to know your abilities and create boundaries accordingly.

Prioritize and learn to say ‘no’ when overwhelmed. Know that you are fine and you able to do that …

8. Count your blessings :

This may sound like a cliché, it is true that when you are grateful for what you have, your attention shifts from what you do not have. Studies show that when you are grateful for what you have, it helps you stay optimistic about the future and boosts your mental health. Keep a thank you journal.


Before going to sleep every night, write what you are thankful for that day. If you allow yourself to be grateful and count blessings, you will realize that there is no day when you have not been thankful to someone, no matter what the circumstances.

9. Express Yourself :

Many times, we are shy in expressing negative feelings , about what we are feeling, and expressing what we like or don’t like reduces the congestion of our mind. Suppressing our emotions is a coping strategy for many of us, yet it can be harmful.

Research suggests that suppressing emotions can actually make emotions stronger. This can cause more stress. Displacement of emotion can occur on something trivial or unrelated. Emotion suppression can cause depression or anxiety disorders.

Even emotions like anger and sadness are worthy of expression. All we need to know is how to express so that it does not wreak havoc on us, our relationships and the environment. No emotion is good or bad by itself.

Every emotion is important and necessary. The intensity of the experience, and how it was expressed (too much or too little), the justification of the expression, and the frequency of the emotion, make it healthy or unhealthy”says Dr. Manjula.

10 Call for help when you feel underwhelmed :

There is no one on the whole earth whose life is independent of stress, anxiety or bad mood. When you feel sad, challenged, frustrated, confused, angry, or just nervous and unable to cope, talk to someone you can trust – spouse, friend, parent, sibling, or relative if It is possible.

If you feel that more support is needed, go to a physician or counselor. The sooner you arrive, the better.

Remember that there is no shame in asking for help – it is a sign of great strength, not weakness, as it often is. You do not have to face the challenges of life alone. Flexible people use the available support systems to take care of themselves…

To read the related Blog Please click the link below..

https://wp.me/pbyD2R-T6

BE HAPPY… BE ACTIVE … BE FOCUSED ….. BE ALIVE,,

If you enjoyed this post, don’t forget to like, follow, share and comments.

Please follow the blog on social media….links are on the contact us  page

www.retiredkalam.com