# लम्हा लम्हा ज़िन्दगी #

ज़िन्दगी को खुल कर जीना है ,जब तक मौत गले ना लगे ले | ,भूल जाओ अपने दुःख दर्द को जो लोगों ने दिए है, माफ़ कर दो उन्हें | कहाँ जाना है इस  ईगो और घमंड को लेकर …जीवन… Read More ›

Recent Posts

  • # रिक्शावाला की अजीब कहानी #…11 

    आज सुबह सो कर उठा तो मेरा मन बहुत घबरा रहा था | काका के बिना अकेले इस घर में बिलकुल भी मन नहीं लग रहा था | रात में भी सामने चाय की दुकान के पास कुत्ता रो रहा… Read More ›

  • #Art is an Emotional response#

    Everything has its beauty Friends, Like any language, art is a form of expression. Its message may be symbolic or historical. But the purpose of art is not simply to communicate a message, but more importantly, to elicit an emotional… Read More ›

  • #Who is the Happiest#

    Friends, Someone said that “If one wants to be happy, one should strive to be “benevolent,” which will not only make them feel better, but it will also make others like them better.The secret to being happy takes just 15… Read More ›

  • # रिक्शावाला की अजीब कहानी # ..10 

    आज सुबह सुबह रघु काका ने आवाज़ लगाई….क्या राजू, अभी तक सो रहे हो | पता है, दिन चढ़ आये है | मैंने आँखे खोली और कहा … पता है काका,  लेकिन ज़ल्दी उठ कर भी क्या  करना है |… Read More ›

  • #An evening at Dhan Mill#

    Friends, I got an opportunity to visit again Delhi exactly after one year. During my stay here in Delhi, I have visited different places. But, Yesterday, I enjoyed a beautiful evening visiting a unique place. Yes, this is my first… Read More ›

  • # रिक्शावाला की अजीब कहानी #….9 

    क्या कभी लौट पाओगे तुम, हर दिन तुम्हारा इंतेज़ार करता हूँ कि  तुम    लौट    आओगे मगर   जानता   हूँ    कि लौटना आसान नहीं है तुम्हारे लिये मैं हर दिन इक कोशिश करता हूँ घडी की समय को पीछे कर जाऊँ एक… Read More ›

  • #In search of Happiness#

    Happiness is something that people seek to find. However, the definition of happiness can vary from one person to other. When most people talk about the true meaning of happiness, they might talk about how they feel in the present… Read More ›

  • # रिक्शावाला की अजीब कहानी #…8 

    कभी – कभी ज़िन्दगी में ऐसा मोड़ आ जाता है .. जहाँ से ना तो “ऑटो” मिलता है और ना “रिक्शा” बस, हमें पैदल ही चलना पड़ता है …..  अंजिला को उसके होटल छोड़ कर रघु  काका के झोपडी की… Read More ›

  • #रिक्शावाला की अजीब कहानी# …7

    मैं आश्चर्य चकित हो बस अंजिला को ही देखे जा रहा था | वो किसी भी तरह से विदेशी नहीं लग रही थी | उसके हाव – भाव, सोच -विचार और एक दुसरे के साथ मिलकर रहने और आपस में… Read More ›

  • # रिक्शावाला की अजीब कहानी #….6 

    आज अंजिला बहुत खुश थी, और खुश क्यों ना हो भला | आज उसके शोध के कुछ पेपर पब्लिश हुए थे और उसे काफी सराहना मिल रही थी | सचमुच उसने अपनी शोध पर बहुत मेहनत  की थी और उसकी… Read More ›