Recent Posts - page 2

  • # जज साहब की पिटाई #

      कभी कभी कुछ ऐसी घटनाओं के बारे में पढने और सुनने को मिलती है, जिस पर अनायास विश्वास करना मुश्किल हो जाता है, लेकिन जो घटना सच में घटी है उस पर विश्वास करना ही पड़ता है | कुछ… Read More ›

  • # मेरी अच्छी दोस्त #

    Originally posted on Retiredकलम:
    अब मैं ने तय किया है कि आत्मा को स्वच्छ रखना है | हमारे अन्दर जो वर्षों से गन्दगी? जमी हुई है उसे हटाना है, क्योंकि आत्मा में परमात्मा का अंश रहता है । कभी –…

  • # चाय पर चर्चा #

    Originally posted on Retiredकलम:
    कभी कभी ज़िन्दगी ?ऐसे मोड़ पर लाकर खड़ी कर देती है जब अपने पास समय भी होता है, पैसे भी होते है , पर साथ बैठ कर चाय पिने वाला कोई नहीं होता है | आज…

  • Meditation: Control your Stress

    Friends, We use to be frequently stressed, often tired, difficult in finding peace of mind and sometimes we are just looking for greater meaning and purpose in life. Really the life of today is stressful. This is due to daily… Read More ›

  • # चुपके – चुपके #

    Originally posted on Retiredकलम:
    प्यार एक एहसास है । जो दिमाग से नहीं दिल से होता है?| प्यार में ?अनेक भावनाओं और विचारो का समावेश होता है !, प्रेम हमें ?स्नेह से लेकर खुशी की ओर धीरे – धीरे अग्रसर…

  • # I love Drawing because…

    Originally posted on Retiredकलम:
    As we know that there is great relationship between the arts and mental health. Whenever I am suffering from anxiety and depression, I usually starts doing my drawing & painting, it looks like a therapy for…

  • # स्वस्थ रहना ज़रूरी है #-19

    अदरक के फायदे दोस्तों , ठण्ड के मौसम का आगमन हो चूका है, ऐसे में मुझे तीन चार दिनों से सर्दी ज़ुकाम परेशान कर रखा है | आज सुबह सुबह मेरी धर्म पत्नी ने अदरक का रस शहद में मिला… Read More ›

  • # महाभारत की बातें #..9

    Originally posted on Retiredकलम:
    चक्रव्यूह और अभिमन्यु वध जब भी महाभारत की चर्चा होगी तो उसमे अभिमन्यु का उल्लेख ज़रूर किया जायेगा | अभिमन्यु महाभारत के नायक अर्जुन और सुभद्रा के पुत्र थे । उन्हें चंद्र देवता का पुत्र भी…

  • # कोरोना वाली चुड़ैल #- 4

    Originally posted on Retiredकलम:
    ठाकुर साहब अपने बेटे को झट से गोद में उठा ?लिया और उसे दिलासा देते हुए कहा – वो तुम्हारी माँ ?नहीं है | लेकिन ?भोलू बार बार कह रहा था,– वही मेरी माँ है |…

  • # कहानी एक कमीज़ की #

    यह बात है 1991-92 की, जब हमारे बैंक में कम्प्यूटराइजेशन (computerization) हो रहा था | मुझे कंप्यूटर के बारे में ज्यादा अनुभव नहीं था | इसलिए मेरे अलावा कुछ और स्टाफ इसे लेकर  काफी परेशान थे | हमारे मन में… Read More ›