नए साल के नए संकल्प

दोस्तों

नया साल २०२१ दस्तक दे चूका है, इसलिए सबसे पहले आप सभी को नए साल की शुभकामनाएं |

जाहिर है कि पिछली बार की तरह इस बार भी हम अपने मन में कुछ संकल्प करेंगे और उसका सालों भर पालन भी करेंगे |

हम सभी लोगों  ने महसूस किया है कि  गुज़रा  साल हमलोगों के लिए काफी कष्टप्रद रहा है | कोरोना के महामारी के चलते हम लोग अपने घरों में कैद होकर रहे |

आपस में मिलना जुलना छोड़ कर, सभी सोशल डिस्तेंसिंग (social distancing) का पालन करते रहे  है |

यह  साल हम रिटायर्ड लोगों के लिए तो और भी ज्यादा कस्टप्रद  रहा है | खुल कर हँसना तो जैसे भूल ही गए है और  एक डर के माहौल में ज़िन्दगी जी रहे है | 

 सबसे ज्यादा यह साल उनलोगों के लिए भयावह रहा जो रोज कमाते और रोज खाते है |

और वे छोटे छोटे बच्चे घरों में कैद होकर रह गए है | स्कूल जाना बंद , घर के बाहर अपने हम उम्र के बच्चों के साथ खेलना बंद, बस घर के अन्दर कैद |  

जिसका नतीजा  यह हुआ कि इन  सब बच्चे को मोबाइल और टी वी का लत (addiction )लग गया है  जो आने वाले समय में बहुत ही  खतरनाक परिणाम लाने वाला है |

ऐसे उत्पन्न हुई इन परिस्थितियों में  मुझे लगता है  कि हम सबों को समाज के लिए कुछ करने की आवश्यकता है |

जब मैं बैंक के जॉब में था तो बैंक के तरफ से बहुत सारे सामाजिक भलाई (C.S.R.) का  काम बैंक प्रबंधन के सहयोग से  किया जाता था |

हमें आज भी याद है जब हमने अपने बैंक शाखा की ओर से एक सरकारी स्कूल को गोद लिया था |

समय समय पर वहाँ  पढ़ रहे बच्चो को किताब – कापियाँ तो उपलब्ध कराते  ही थे, बच्चो के लिए स्कूल में सीलिंग फैन लगवाना या अन्य सुविधाएँ भी उपलब्ध करवाया करते थे |

 स्कूल के बच्चों को शुद्ध जल मिले उसके लिए स्कूल में वाटर पुरिफायर (Water Purifier ) लगवाए थे | वहाँ के मेघावी बच्चो के लिए छात्रवृति के तौर पर  कुछ राशी हर महीने दिया करते थे |

सच में इन सब गरीब बच्चो को मदद करके हम सबों को  बहुत संतुष्टि  मिलती थी | और बैंक को लोगों के बीच पहचान भी मिलती थी |

अब मैं रिटायर  कर गया हूँ, फिर भी उन बच्चो के लिए अभी भी मदद करने का  जज्बा है |

यह सही है कि अब  हमारे पास संसाधन सिमित है लेकिन वक़्त बहुत है |

इस लिए कुछ वक़्त उन सरकारी स्कूल में पढ़ रहे गरीब बच्चो के लिए निकाला जाए तो उन बच्चो के साथ साथ समाज के गरीब परिवारों की मदद कर सकते है |

हमारे पास  समय के साथ साथ अनुभव भी है और इसका लाभ हम गरीब बच्चो को पढ़ाने में  और उसकी आर्थिक स्थिति सुधारने में मदद कर सकते है .|

हालाँकि आज कल ऐसे कार्य करने के लिए बहुत सी संस्थाएं (NGO) काम कर रही है |

इन संस्थाओ के माध्यम से या  स्वम् अपनी इच्छानुसार इन गरीब बच्चो की मदद कर सकते है |

तो आइये इस नए साल में हम सब मिल कर एक नया संकल्प करें कि गरीब और लाचार  बच्चो की बेहतरी और उनकी उत्तम सिक्षा हेतु हम सब प्रयास करेंगे |

साथ ही किसी सरकारी स्कूल या किसी स्वयं सेवी संस्था से जुड़ कर उन बच्चो के बेहतर स्वास्थ और उनके  आस पास साफ़ सफाई के लिए जागरूकता पैदा करेंगे |

एक महत्वपूर्ण बात और कि अभी बच्चो के स्कूल कोरोना के कारण बंद है और कुछ प्राइवेट और समर्थ स्कूल में ऑनलाइन क्लास चल रहे है |

 लेकिन सरकारी प्राइमरी और मिडिल स्कूलों में पढने वाले गरीब बच्चे और शिक्षकों के पास ऑनलाइन क्लास शुरू करने हेतु आवश्यक संसाधन जैसे मोबाइल, नेट कनेक्शन इत्यादि नहीं है |

इसके कारण ऐसे बच्चों की पढाई लिखाई पूरी तरह से बंद है |

इसके अलावा भी झुग्गी झोपडी में रहने वाले गरीब और लाचार  बच्चो के लिए गर्म कपडे कम्बल इत्यादि की व्यवस्था भी कर सकते है |

मेरी यह कोशिश रहेगी कि हमारे जैसे बहुत से रिटायर्ड लोग है वे ,सभी मिल जुल कर इस अभियान को पुरे साल जारी रखें और अपना वक़्त और अपने संसाधन के कुछ हिस्सों को इन गरीब बच्चो पर खर्च करें  |

इस तरह हम खुद को भी व्यस्त रखेंगे. और अपने को मानसिक और शारीरिक बिमारियों से सुरक्षित भी  रख सकेंगे |

दोस्तों, आपने नए साल में क्या संकप्ल किया है, मुझे भी ज़रूर बताएं…..

पहले की ब्लॉग  हेतु नीचे link पर click करे..

https://wp.me/pbyD2R-1Uq

BE HAPPY….BE ACTIVE….BE FOCUSED….BE ALIVE…

If you enjoyed this post, please like, follow, share and comments

Please follow the blog on social media …link are on contact us page..

www.retiredkalam.com

नया साल नयी उमंग…

दोस्तों..

आज नए साल का पहला दिन है, हमने पिछले साल संकटों से जूझते हुए बिताएं है, एक एक पल हमारे लिए दुखदाई थे |

आज नया साल एक नयी उम्मीदें लेकर आया है | आइये  पिछली साल से सिख लेते हुए इस साल अपने ज़िन्दगी को बेहतर बनाने की दिशा में प्रयत्न करें…

किसी ने बहुत खूब कहा है …

संकट के खेतों में ही सफलता के वृक्ष उगते है और अगर संकट विश्वव्यापी है तो सफलता भी विश्वव्यापी ही होगा  |

आज मुझे चिंता नहीं बल्कि चिंतन करने की ज़रुरत है | आज हम अपने अन्दर झाकें और अपने आप से एक वादा करें कि जब कल क्या होगा पता ही नहीं है तो बेकार की बातों में उलझ कर अपने आज को हम क्यों बर्बाद करें |

इसलिए नए साल को नए जोश और नयी उमंग के साथ मनाएं और अपने आप से यह भी वादा करें कि हमारा आने वाला  हर दिन नया दिन होगा जिसमे हम अपने लक्ष्यों के नए आयाम को छुएँगे, हर रात एक नयी रात होगी जिसमे हसीन सपने होंगे और होंगी ढेरों सारी खुशियाँ  |  

आइये यह भी जान लेते है कि महान विचारकों और महापुरुषों ने हँसने और हँसाने के बारे में अपने क्या विचार व्यक्त किये है ..

हँस  कर भी जीना है …रो कर भी जीना है | जब जीना ही है तो क्यों नहीं हँसते हँसते जिया जाये….चार्ली चैपलिन |

मैंने  किसी को हँसी से मरते हुए नहीं देखा है,   लेकिन मैं लाखों लोगों को जानता हूँ जो इसलिए मर रहे है , क्योंकि उन्होंने  हँसना छोड़ दिया … ख़ुशी मनाना छोड़ दिए है |

हँसता हुआ चेहरा आप की शान बढाता है और हँस  कर किया हुआ काम आप की पहचान बढाता है |

आप उस दिन को बेकार ही समझो,  जिस दिन आप  हँसे नहीं …..चेम्सफोर्ड

मुसीबत ने दरवाज़ा खटखटाया ..पर हँसी सुनकर वापस चली गयी ,,..,बेंजामिन फ्रेंक्लिन

खूब हँसे और औरों को भी हँसाए, क्योकि हँसने से तन मन में उत्साह का संचार होता है | दिल से हँसना तो किसी दवा से कम नहीं | इसलिए आज जगह जगह पर हास्य क्लब बनाये जा रहे है , ताकि भाग दौड़  भरी ज़िन्दगी में तनाव से मुक्ति मिले..

यूँ तो हमलोग प्रतिवर्ष मई के पहले रविवार को विश्व हास्य दिवस (वर्ल्ड लाफ्टर day ) भी मनाते है …लेकिन सवाल है कि हम एक ही दिन क्यों हँसे …..क्यों न  सालों भर हँसे और दूसरों को भी हँसाए  यानी हर दिन “लाफ्टर डे” हो |.

हँसना -हँसाना अपनी आदतों में शामिल कीजिए और फिर देखिए तनाव आपके पास फटक भी नहीं पाएगा, साथ ही आपका स्वास्थ्य भी उत्तम रहेगा।

जब से चाइना वाली बीमारी आयी है तब से हम सब  हँसना भूल गए है | हम सभी जानते है कि जब हम हँसते है तो  हम अपने अन्दर  तनावमुक्त महसूस करते है |

ये एक अच्छी एक्सरसाइज है जिसकी वजह से हम हर दिन स्वस्थ रह सकते है ना सिर्फ शरीर से बल्कि मन से भी |

आइये हम सब मिल कर नए साल का मिल जुल कर स्वागत करें..और आपके लिए…..

..

नया साल आपके जीवन में सफलता, सौभाग्य और खुशियां लेकर आए। यह साल बीते हुए साल से अच्छा और ज्यादा समृद्ध हो। नया साल २०२१ मुबारक हो  !

आज की सुबह इतनी सुहानी हो जाए,… आपके दुखों की सारी बातें पुरानी हो जाएं,                  

दे जाए इतनी खुशियां ये दिन आपको, कि… ख़ुशी भी आपके मुस्कुराहट की दीवानी हो जाएं।…

Goodbye 2020

And

Welcome 2021

पहले की ब्लॉग  हेतु नीचे link पर click करे..

https://wp.me/pbyD2R-lo

BE HAPPY….BE ACTIVE….BE FOCUSED….BE ALIVE…

If you enjoyed this post, please like, follow, share and comments

Please follow the blog on social media …link are on contact us page..

www.retiredkalam.com

मेरी कविता

मेरी कविता लिखने का मुख्य कारण  है कि कविता हमेशा  मेरा उत्साह बढाती है , आत्मविश्वास जगाती है मन को सकारात्मक बनाती है ,

और  सबसे बड़ी बात यह दिल को सकुन भी देती है….यह कविता मुझे  वर्तमान के यथार्थ से कहीं दूर ले जाती है , जहाँ सिर्फ मैं  ही मैं  होता हूँ ,,,

,यह सच है ..जीवन में अगर संघर्ष न हो तो जीवन  जीने का कोई अर्थ नहीं रह जाता है / संघर्ष करने वाला इंसान किसी भी भय से उपर उठ कर अपने आत्मविश्वास के बल  पर आगे बढ़ते हुए लक्ष्य को प्राप्त करता है.. हर चुनौती  को स्वीकार करता है..

मेरी कविता मेरी भावनाओं को प्रकट करने की कोशिश है ..

नए  वर्ष की ..नयी सुबह

नयी कलम और नयी डायरी

काश ! लिखूँ कुछ ऐसा कि

सब के दिलों को छू जाऊँ

देखने वालों की.. नज़र बन जाऊँ

सच्चे इंसान की.. जुवां बन जाऊँ

लिखने वालों की ..कलम बन जाऊँ

दीपक की.. किरण बन जाऊँ

जीत की .उमंग बन जाऊँ, और

नफरत की जंग.. प्यार से जीत जाऊँ..

काश ! लिखूँ कुछ ऐसा कि

खुद ही कविता बन जाऊँ....

….विजय .

If you enjoyed this post don’t forget to like ,follow ,share and comments..

please follow me on social media. and click the link below ..

http://www.retiredkalam.com

HAPPY NEW YEAR..2020

खुल कर जिओ ज़िन्दगी ..

जब तक मौत गले ना लगे ले

भुला दो उन सभी लोगों को

जिसने तुम्हे दर्द दिया है ..

किसी से जलने  की  ज़रुरत नहीं है

खुदा ने सभी को पर्याप्त  मात्र में कुछ ना कुछ दिया है

मांग लो किसी से माफ़ी ..कर दो सभी  को माफ़ /

कहाँ जाना है इस  ईगो और घमंड को लेकर …

जीवन में वक़्त बहुत कम  है.. बिगड़े हुए रिश्ते संवर लो

अगर किसी ने तुम्हारे साथ बुरा किया है  तो इसका हिसाब उपर वाले के पास है,

आप तो बस “full on enjoy”  करो , लोग क्या कहेंगे ये सोचना बंद करो…

क्योंकि अगर ये भी आप ही सोचेंगे तो वो क्या सोचेगा ..अपने सारे शौक दिल से पूरा करो ,

भूल जाओ दुनिया को.. भुला  दो समाज के सारे बन्धनों को और भूल  जाओ अपनी उम्र को ..

मैं ने बीस बीस साल के बूढ़े देखे है और साठ साल के जवान भी देखे है …

घुमो फिरो मौज मस्ती करो ..नाईट आउट करो… नई नई  जगह देखो ..प्रकृति का मज़ा उठाओ ,… लाउड म्यूजिक करके डांस करो …

जहाँ मौका मिले वहाँ नाचो , …जीवन और  मृत्यू हमारे हाथ में नहीं है  परन्तु उसके उसके बीच में कैसे जीना वो हमारे हाथ में है …बस जी भर के जी लो,..

अपनी ज़िन्दगी में  दुसरो को तकलीफ ना हो, बस इतना ध्यान रखो …

,खुद की  मर्ज़ी से जीना सीखो , बहुत मुश्किल से मनुष्य वाली जीवन इस बार मिली है,

 पता नहीं अगला जन्म  फिर मनुष्य  में  मिले या ना मिले ,

जब आप दुनिया छोड़ के जाओं तो लोग कहे कि …वाह, क्या  जिंदगी जिया है बन्दे ने …

ज़िन्दगी से खुल कर प्यार करो ,  जब तक ना मरो तब तक तो जिओ ..

अपनी ज़िन्दगी को आज हम  कहते कहते है ..i I love you ज़िन्दगी …i love you … 

  “THIS IS THE RESOLUTION OF NEW YEAR..2020”

BE HAPPY… BE ACTIVE … BE FOCUSED ….. BE ALIVE,,

If you enjoyed this post, don’t forget to like, follow, share and comments.

Please follow the blog on social media….links are on the contact us  page

www.retiredkalam.com