# मन के मंदिर मे #

एक प्रचलित कहावत है — “दिल तो बेचारा आवारा  है,  दिल का क्या कसूर ?”

सही बात है । दिल अपने फितरत को लेकर आवारा है। आवारागर्दी करना ही दिल का काम है, और शायद इसीलिए, दिल सदा के लिए बदनाम है।

दिल तो बेचारा  जगह – जगह खुशियां खोजा करता है | जब उसे चोट लगता है तो दिल टूट जाता है। दिल का टूटना और उसे मनाने में व्यक्ति लगातार कोशिश करते रहता है । कोई मना भी लेता है,

किसी का दिल मान भी जाता है। लेकिन, जिसका दिल नहीं मानता हैं उसका क्या ?

मन के मंदिर मे

जब भी बैठता हूँ मौन में

मैं तुम्हें गुनगुनाते हुए देखता हूँ

तुम्हारे वो खोये हुए छंद

मैं फिर से महसूस करता हूँ |

वो आज फिर मेरे पास है

जो मेरे दिल की खास है

जिसमें उसकी  खुशबू है

और उसका  एहसास है ।

आज  वो  फिर याद आ गया है

जो मेरी आत्मा से  भाग गया है ,

वो पुरानी यादें फिर से जाग गया है

मन के मंदिर में घंटी बजा गया है |

अगले ही पल, खुले आसमान के नीचे

एक घने पेड़ की छांव में, आंखें मुँदें

बहती बयार में तुम्हें साथ पाता  हूँ ,

अपने वही पुराने गीत गुनगुनाता हूँ  |

तुम्हें साथ ले जा रहा था, पकड़ा गया,

जीवंत एहसास में  साथ जकड़ा गया

मौन की शोर सुन, मैं जाग जाता हूँ

एक बार फिर खुद को अकेला ही पाता हूँ |

मैं हँसता क्यों हूँ ब्लॉग  हेतु  नीचे link पर click करे..

BE HAPPY….BE ACTIVE….BE FOCUSED….BE ALIVE…

If you enjoyed this post, please like, follow, share, and comments

Please follow the blog on social media … visit my website to click below.

        www.retiredkalam.com



Categories: kavita

17 replies

  1. यह बहुत अच्छा है बहुत कम लोग हैं जो दिल पर लिखते हैं और मुझे लगता है कि आप सफल हैं

    Liked by 1 person

    • हा हा हा –बहुत बहुत धन्यवाद सर ,
      सर , मैं तो आपसे बहुत inspire होता हूँ , आपके
      शब्द भी चुराता हूँ, | आपसे तारीफ पाकर मुझे बहुत
      खुशी हो रही है |

      Like

      • हैलो जी आपने बहुत स्पष्ट रूप से कहा कि आपको मुझसे प्रेरणा मिलती है। तेरी स्तुति ने मुझे गीला कर दिया है। शायद यह अच्छा है कि लोग मुझसे शब्द लेना चाहते हैं। उस स्थिति में यदि आपके पास समय है तो मैं आपको सलाह देता हूं कि तुम मेरी पुरानी पोस्ट पढ़ो। तब मैं भी प्रसन्न रहूंगा और यह तुम्हारे लिए सहायक हो सकता है

        Liked by 1 person

        • बिल्कुल सही कहा सर् । मैं ऐसा ही कर रहा हूँ । आप मुझे मार्गदर्शन भी देते रहें । आपका बहुत बहुत धन्यवाद ।

          Liked by 1 person

  2. कविता पढ़ कर पुरानी यादें ताज़ा हो गई।

    Liked by 1 person

  3. इतना सुंदर लिख दिया आपने

    Liked by 1 person

  4. Man ek Mandir hai. Dil ka baat .lekha Bahut Badhia.

    Liked by 1 person

  5. Reblogged this on Retiredकलम and commented:

    The most useful asset of a person is not a Head
    full of knowledge, but a Heart full of love,
    Ears ready to listen and Hands willing to help.
    Stay happy, Stay blessed.

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: