# Mistakes of my Life #

प्रार्थना और विश्वास दोनों अदृश्य हैं ,
परन्तु दोनों में इतनी ताक़त है कि
नामुमकिन को मुमकिन बना देता है …

Retiredकलम

किसी ने सच ही कहा है कि अक्ल बादाम खाने से नहीं आती, अक्ल आती है ठोकरे खाने से | जी हां दोस्तों , आज मैं यहाँ कुछ अपनी  गलतियों का जिक्र करना चाहता हूँ जिसे मैंने अपनी ज़िन्दगी में किये है |

यह सच है कि मनुष्य गलतियों का पुतला है और अपनी गलतियों से कुछ ना कुछ सीखता है | ज़िन्दगी में आगे बढ़ने के लिए समय समय पर फैसले लेने पड़ते है और कुछ फैसले गलत भी होते है |

,लेकिन एक इंसान जो अपनी गलतियों से नहीं सीखता वो मुर्ख कहलाता है और जो अपनी गलतियों से सीख लेता है वो बुद्धिमान कहलाता है | और जो दुसरो की गलतियों से सीख लेता है वो तो अति बुद्धिमान कहलाता है |

मैंने भी ज़िन्दगी में बहुत सारी  गलतियाँ की है / जिसका पछतावा आज तक होता  है | यहाँ उनमे से कुछ गलतियों का ज़िक्र करना…

View original post 1,091 more words



Categories: Uncategorized

2 replies

  1. बहुत बहुत धन्यवाद…
    मैंने जीवन के कुछ अनुभव शेयर किये है |

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: