जीवन एक संघर्ष है -2

Good evening friends,

Retiredकलम

किसी तरह मुसीबत में रात बीती | नाचते – नाचते शिवानी थक कर चूर हो गई थी | तभी शिवेंद्र ने ड्राइवर को इशारा किया और फिर एक शानदार गाड़ी में शिवानी को वापस अकेले अपने फ्लैट में आना पड़ा | रात की घटना से शिवानी का दिल आहत था और उसे बहुत तेज़ गुस्सा आ रहा था | आज की घटना से उसे शिवेंद्र से नफरत होने लगी और उसका मन कर रहा था कि शिवेंद्र का मर्डर कर दे और खुद भी आत्महत्या कर ले |

फ्लैट में अकेले बैठी शिवानी के मन में न जाने कैसे – कैसे विचार आ रहे थे, तभी पड़ोस के फ्लैट से चीखने – चिल्लाने की आवाज़ सुनाई दी | शिवानी हड्बड़ा कर उस फ्लैट की ओर भागी | उसने पाया कि 8-10 लड़कियां उस फ्लैट में है | दो लड़कियां आपस में किसी नशीले पदार्थ के लिए झगड़ा कर रही है…

View original post 1,120 more words



Categories: Uncategorized

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: