# मैं और मेरा शौक#

न चादर बड़ी कीजिये, न ख्वाहिशें दफन कीजिये
चार दिन की ज़िन्दगी है, चैन से बसर कीजिये
न परेशान किसी को कीजिये, न हैरान किसी को कीजिये
कोई लाख गलत बोले तो मुस्कुरा कर छोड़ दीजिये
न रूठा किसी से कीजिये न झूठा वादा कभी कीजिये
कुछ फुरसत के पल निकालिये, कभी खुद से भी मिला कीजिये..

Retiredकलम

दोस्तों,

आज मेरे ब्लॉगिंग का तीसरा वर्षगांठ है | क्योंकि आज के ही दिन मेरे दिमाग में यह आइडिया आया था कि मैं एक ब्लॉग की शुरुआत करूँ | मेरे दूसरे ब्लॉगर दोस्त को देख कर ही मैंने ऐसा सोचा था , लेकिन दूसरे ही पल मैं अपने आप पर खूब हँसा था | क्योंकि मैं समझता था कि मैं ब्लॉग नहीं लिख सकता हूँ |

मुझे लिखने का कोई अनुभव नहीं था | हाँ, मुझे चिट्ठी लिखने कीआदत थी , क्योंकि उस जमाने में communication का यही एक साधन था | टीवी और मोबाइल से तो बहुत बाद में परिचय हुआ था |

लेकिन अब धीरे धीरे यह एहसास हो रहा है कि मैं भी यह काम कर सकता हूँ | मैं बैंकिंग क्षेत्र के अलावा दूसरे क्षेत्र में भी ब्लॉग लिख कर सफल हो सकता हूँ | उन दिनों मुझे बैंकिंग सेवा से रिटायरमेंट के बाद और कोई…

View original post 972 more words



Categories: Uncategorized

2 replies

  1. Wow, you have written more than 1500 blogs. Amazing . Congratulations 👏👏👏🎉

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: