# हाथी को फ़ासी #

Life is not about knowing a lot of people,
It is simply having our own small set of
crazy people who truly love us & care for us.
Stay happy and Blessed..

Retiredकलम

दोस्तों,

जानवरों में मुझे हांथी बचपन से ही पसंद है | इसका मुख्य कारण है कि जब मैं छोटा था तो हमारे पडोस में देशी घी की दूकान थी जिसके सेठ के पास अपनी हाथी थी | उनका गाँव यहाँ से करीब 5 किलोमीटर दूर था और उनकी अच्छी खासी खेती वहाँ थी |

पहले के ज़माने में लोग अपनी शान शौकत के लिए हाथी पालते थे | वैसे हाथियों का उपयोग सिर्फ शादियों – बारातों में ही हो पाता था | लेकिन जिसके दरवाज़े पर हाथी बंधा होता था, उसकी गाँव और आस पास के इलाके में बहुत इज्ज़त बढ़ जाती थी |

खैर, मुख्य बात यह है कि वह हाथी हर साप्ताह रविवार को सुबह सुबह शहर आता और घी के दूकान के सामने खड़ा कर दिया जाता था |

आस पास के लोग पूड़ी जलेबी, कोई केला लाकर उसे खिलाता | शायद हाथी को अपने हाथो…

View original post 1,646 more words



Categories: Uncategorized

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: