रिक्शावाला की अजीब कहानी .…12

अच्छे लोगों का स्वभाव गिनती के शुन्य जैसा होता है ,
जैसे शुन्य की कोई कीमत नहीं होती, परन्तु….
शुन्य जिसके साथ होता है , उसकी कीमत बढ़ जाती है |

Retiredकलम

चिल-चिलाती धूप में सड़क पर है रिक्शा दौड़ता,

किसी अपनों के सपने संजोये है रिक्शा दौड़ाता .

छिपाते हुए अपने मुफलिसी के घावों को

देखो, वो जा रहा अपने गाँव है रिक्शा दौड़ाता…..

कल रात की घटना को याद करके मन सिहर जाता है | ऐसा लग रहा था जैसे रघु काका की आत्मा इस झोपडी में भटकती रही हो | इसलिए अब इस झोपडी में रहने का कोई मतलब ही नहीं है |

यहाँ अब ना तो मेरे पास कोई काम है और ना ही खाने पीने का कोई साधन |

वैसे भी सोहन काका और बहुत से लोग कल ही अपने – अपने गाँव के लिए पैदल ही रवाना हो चुके है |

इन्ही सब बातों को सोचता हुआ आज सुबह ही सुबह कुछ ज़रूरी सामानों को रिक्शे पर लाद  कर रस्सी से अच्छी तरह बाँध दिया | ताकि उबड़ खाबड़ रास्ते पर चलने से भी रिक्शे से…

View original post 1,694 more words



Categories: Uncategorized

2 replies

Trackbacks

  1. रिक्शावाला की अजीब कहानी .…12 – NELSAPY

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: