Author Archives

I am Vijay Kumar Verma, residing in Kolkata, the city of joy. I was a Banker since December 1985 and retired in April 2017 from State Bank of India. After serving the Bank for 32 years as an officer holding different assignments from time to time, now I am currently enjoying the retired life. I would like to fulfil the duty of social service through this platform spreading aware about the health related problems and their remedies. I will also try to entertain my followers through knowledgeable information and motivate them to enjoy better and quality lifestyle. It is my endeavour to keep the post friendly and as informative as I can.

I am willing to connect with my friends and followers, through my stories and drawings out of my passion to write and make sketches.

I would like to create a trusted and joyful friend circle, and share tales from the past

  • # नमक हराम #…3

    अपने वसूल कुछ ऐसे भी तोड़ने पड़े मुझे जहाँ मेरी गलती नहीं थी, वहाँ भी हाथ जोड़ने पड़े मुझे … इंसानियत के दुश्मन अगर वो केस करता है तो हमें अपना  बचाव तो करना ही होगा, इसके अलावा और कोई… Read More ›

  • # नमक हराम #….2

    ढूँढ तो लेते कभी का तुम्हे शहर में भीड़  इतनी भी न थी पर रोक दी तलाश हमने जब जाना  खोये नहीं बल्कि  बदल गए थे तुम || अदालत की जंग रात के आठ बज रहे थे और चौपाल में… Read More ›

  • # नमक हराम #….1

    ज़िन्दगी के कुछ फैसले बहुत सख्त होते है , और यही फैसले ज़िन्दगी का रुख बदल देते है .. राजेश्वर दनदनाता हुआ वकील साहब के चैम्बर में घुस गया | वैसे उसकी वकील साहब से पुरानी जान पहचान थी |… Read More ›

  • # अलमारी से झांकती किताबें #

    यूँ ना छोड़ ज़िन्दगी की किताब को खुला बेवक्त की हवा ना जाने कौन सा पन्ना पलट दे .. आज सुबह सुबह जब मैं पार्क में टहलने गया तो  कुछ दोस्त वहाँ  मिल गए , दुआ सलाम के बाद हमलोग… Read More ›

  • # Our Mental and Emotional health #

    Now a days it is being seen that the corona is beginning to take frightful form every day, due to which everyone is living in fear and we all are going through terrible stress. More and more people are not dying… Read More ›

  • # The Artist Me #

    There is a famous quote by Pablo Picasso… All children are Artists, the problem is how to remain an Artist once they grown up…. During the college days I used to draw pictures of animals and anatomies of other creatures… Read More ›

  • # एक किताब का दर्द #

    मैं एक किताब हूँ , .कोई मुझे  “दिल की किताब” कहता है तो कोई दिल से लगा कर रखता है | मैं हर तरह के लोगों के लिए बनी  हूँ | जो जैसा पसंद करे वैसा बनकर उसके दिल के … Read More ›

  • # सपनो में आना #

    हम जब भी सपना देखते है, तो इसके अलग अलग मतलब निकालते रहते है | सपनों का आना कुछ ऐसा है कि यह तो छोटे छोटे बच्चे को भी नहीं छोड़ता है | यदि अच्छा सा कोई स्वप्न देखते है… Read More ›

  • # एक अधूरी प्रेम कहानी #..23

    नया सवेरा आएगा फिर नया सवेरा आएगा ,फिर पेड़ों पर पंछी चहकेंगे फिर से भँवरे भी गायेंगे ,फिर हर कली हर फुल महकेंगे कष्ट के दिन गुजर जायेंगे ,फिर चंचल दिल बहकेंगे फिर नया सवेरा आएगा , फिर पेड़ो पर… Read More ›

  • # एक अधूरी प्रेम कहानी #..22

    न जाने ये ज़िन्दगी क्यों हर पल एक नया इम्तिहान लेती है …, लूट लेती है फिर ये हमसे खुशियाँ हमारी और हमें जीने का एक सबक देती है …. ज़िन्दगी इम्तिहान लेती है.. सुमन बेड पर बेहोश पड़ी थी… Read More ›