# मेरा जुर्म क्या है # –1

छोटी सी ज़िन्दगी है,हर बात में खुश रहो ..
आने वाला कल किसने देखा है ,
अपने आज में खुश रहो…
नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं …

Retiredकलम

दोस्तों ,

आज मैं सुबह समाचार पत्र देख रहा था तो एक जगह मेरी नज़रें रुक गयी | मैंने पढ़ा –एक माँ ने हॉस्पिटल के बेड पर अपने एक दिन के बच्ची को गला दबा कर मार डाला | उस बच्ची का जुर्म सिर्फ इतना था कि वो बेटा नहीं बेटी थी |

वैसे तो आज कल लड़कियां हर क्षेत्र में लडको को टक्कर दे रही है | कुछ क्षेत्रों में वे लड़कों से आगे भी है | लेकिन आज भी समाज का एक तबका बेटी को बोझ मानता है और उसके पैदा होते ही या बाद में उसे मार डालते है | उनकी मानसिकता होती है कि लड़की होने का मतलब बोझ और समाज में अपना सिर नीचे होना |

अगर उस एक दिन की बच्ची बोल सकती तो ज़रूर हमसे और हमारे समाज से यह पूछती — हमारा जुर्म तो बताओ ?

वैसे तो बहुत  पहले से यह…

View original post 844 more words



Categories: Uncategorized

4 replies

  1. बहुत अच्छी स्टोरी है। 👌अंकल आपको सपरिवार नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं💐💐

    Liked by 1 person

  2. बहुत मार्मिक घटना है, मां भी निष्ठुर हो सकती है ?

    Liked by 1 person

    • बिलकुल सही कहा आपने…
      आज के परिवेश में इस तरह की घटना बहुत ही दुखद है |
      इस विषय पर समाज के सोच को बदलना चाहिए |

      Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: