Uncategorized

आंचलिक कथाकार.. फणीश्वर नाथ रेणु

Originally posted on Retiredकलम:
हिंदी के शीर्ष साहित्‍यकार फणीश्‍वरनाथ रेणु का इस साल जन्‍म शताब्‍दी वर्ष मनाया जा रहा है। ?सरकार ने उनकी जयंती पर पूरे साल भर कार्यक्रम आयोजित करने की तैयारी की है। फणीश्वर नाथ ‘ रेणु ‘…

# एक कहानी सुनो -11 #

Originally posted on Retiredकलम:
हर इंसान चाहता है कि वह हमेशा खुश रहे, लेकिन खुशी आती भी है तो कुछ समय के लिए | फिर अगले ही पल वह दुखों के सागर में अपने को पाता है | आज के…

# यादों के लम्हे #

Originally posted on Retiredकलम:
आज मुझे माँ का वह दुलार याद आता है, जब माँ कहती थी बाहर जा पर दूर मत जाना | पापा का स्कूल से लेकर आना और छोडना, और ?उनका “बाबू “” कहना? याद आता ?है…

# भावनाओं के भँवर में #

Originally posted on Retiredकलम:
हमारी भावनाएं हमारे जीवन का एक अविभाज्य अंग हैं | भावनाओं के बिना जीवन कैसा ? ?हमारी भावनाएँ ही हैं, जो विपरीत परिस्थितियों में भी हमें ?खुश रख सकती है | हमें स्वयं के साथ –…

# आशिक बना रखा है #

Originally posted on Retiredकलम:
लोग कहते थे, वो बड़ा सौभाग्यशाली है, वो जो चाहता था, उसने पा लिया है | ?कम से कम बेचारा भ्रम में तो रहा | परिस्थितियों के साथ एक दिन उसका भ्रम भी टूट गया |प्रेम…

# एक कहानी सुनो # -2

Originally posted on Retiredकलम:
प्रेरक प्रसंग यह प्रसंग रामायण के उस भाग से ली हुई है, जब श्री राम का तीर रावण के नाभि में लगा और रावण धारासाई? होकर ज़मीन ?पर गिर पड़ा | एक ओर रावण अपनी? आंखरी…

भगवान् मेरी रक्षा करे

Originally posted on Retiredकलम:
source: Google.com कल world laughter day था और ?हमने पहले से ही पूरी तैयारी कर रखी? थी कि इसे खूब अच्छी तरह मनाएंगे | दोस्तों के साथ खूब हँसेंगे और खुशियाँ मनाएंगे | क्योंकि हम सब…

# एक प्रेम ऐसा भी #

Originally posted on Retiredकलम:
प्रेम करने वाला व्यक्ति प्रेम तो कर लेता है परंतु उसको ठीक से निभा नहीं पाता है | वास्तविक बात करें, ?तो प्रेम करने से कई गुना कठिन काम है प्रेम को निभाना | प्रेम में…