Uncategorized

# महाभारत की बातें #..16

Originally posted on Retiredकलम:
महाबली भीम दोस्तों, अब तक मैंने महाभारत से जुडी एक एक योद्धाओं के बारे में जानकारियां शेयर करता आया हूँ | ?महाभारत की ?कहानी को आगे बढ़ाते हुए आज हम जिस योद्धा के बारे में चर्चा…

# Stop Fear in Mind #

Originally posted on Retiredकलम:
Friends , There is a sharpest surge in Covid case again in our country. Each subsequent wave of the pandemic is being seen the number of the affected rise in geometric progression. Please, do not panic…

# That feels me Good #

Originally posted on Retiredकलम:
Dear friends, Today is the world creativity and innovation day. We mark the day to raise awareness about the important role that innovation and creativity plays in every aspect of human development. It provides an opportunity…

# भूली बिसरी यादें #

Originally posted on Retiredकलम:
?एक सप्ताह पहले की बात है ,| सुबह – सुबह मुझे, कोलकाता के? एन एस रोड की तरफ ?कुछ काम के सिलसिले में जाने का मौका मिला | वहाँ अपने बैंक के बोर्ड को देख कर…

# मैं हँसता क्यों हूँ ?

Originally posted on Retiredकलम:
दोस्तों, हँसना – हँसाना हमारी फितरत है | हमें भगवान ने एक विशेष गुण दिये है, कि जब हम खुश होते हैं तो ?हँसते है | हम अपनी भावनाओं को हंसी के द्वारा प्रकट करते है…

आंचलिक कथाकार.. फणीश्वर नाथ रेणु

Originally posted on Retiredकलम:
हिंदी के शीर्ष साहित्‍यकार फणीश्‍वरनाथ रेणु का इस साल जन्‍म शताब्‍दी वर्ष मनाया जा रहा है। ?सरकार ने उनकी जयंती पर पूरे साल भर कार्यक्रम आयोजित करने की तैयारी की है। फणीश्वर नाथ ‘ रेणु ‘…

# एक कहानी सुनो -11 #

Originally posted on Retiredकलम:
हर इंसान चाहता है कि वह हमेशा खुश रहे, लेकिन खुशी आती भी है तो कुछ समय के लिए | फिर अगले ही पल वह दुखों के सागर में अपने को पाता है | आज के…

# यादों के लम्हे #

Originally posted on Retiredकलम:
आज मुझे माँ का वह दुलार याद आता है, जब माँ कहती थी बाहर जा पर दूर मत जाना | पापा का स्कूल से लेकर आना और छोडना, और ?उनका “बाबू “” कहना? याद आता ?है…

# भावनाओं के भँवर में #

Originally posted on Retiredकलम:
हमारी भावनाएं हमारे जीवन का एक अविभाज्य अंग हैं | भावनाओं के बिना जीवन कैसा ? ?हमारी भावनाएँ ही हैं, जो विपरीत परिस्थितियों में भी हमें ?खुश रख सकती है | हमें स्वयं के साथ –…