story

मर्डर की अजीब दास्तान -2

दीपिका को यह एहसास हो चुका था कि उसका  पति प्रवीण को उसके और तांत्रिक के बीच नाजायज संबंध का पता चल चुका है | अब माँ, बेटा और तांत्रिक तीनों परेशान हो उठते  है | वे लोग मिल कर… Read More ›

मर्डर की अजीब दास्तान -1

वैसे तो प्रेम कभी भी, कहीं भी, और किसी से भी हो सकता है, क्योंकि यह दिल का मामला है | प्रेम में पागल इंसान इस तरह प्रेम में डूब जाते है कि उसे मान – सम्मान और  अच्छा –… Read More ›

# प्रेम की परिभाषा #

दोस्तों , एक सप्ताह पहले मुझे कोलकाता के मिलेनियम पार्क (Millenium Park) में जाने का मौका मिला | दरअसल,  हमारे एक पुराने मित्र मुंबई से कोलकाता आए हुए थे और पास के ही एक होटल में ठहरे हुए थे |… Read More ›

# कर्म बड़ा या भाग्य ?

दोस्तों, आज मुझे अपने बचपन के दिनों का वाकया याद आ रहा है | तब मैं स्कूल में पढ़ता था | दोपहर  में स्कूल से आने के बाद खाना खा कर सो जाया  करता था | शाम के समय मुझे … Read More ›

# यह कैसा प्रेम है ? -2

सामने खड़ी लड़की को देख कर पुलिस को तो एकबारगी  विश्वास ही नहीं हुआ | क्योंकि उसने उस लड़की का अंतिम संस्कार अपने सामने ही कराया था |  लेकिन यह भी  सच्चाई थी कि सामने खड़ी लड़की मंजुला ही थी… Read More ›

# यह कैसा प्रेम है ?

  वैसे तो क्राइम करने वाले का एक पिछला रेकॉर्ड होता है,क्योंकि उसकी मानसिकता वैसी ही होती है | वो एक के बाद एक क्राइम को अंजाम देता रहता है | कभी – कभी एक निहायत शरीफ प्रेमी पागल अपने… Read More ›

# एक प्रेम ऐसा भी #

प्रेम करने वाला व्यक्ति प्रेम तो कर लेता है परंतु उसको ठीक से निभा नहीं पाता है | वास्तविक बात करें,  तो प्रेम करने से कई गुना कठिन काम है प्रेम को निभाना | प्रेम में दोनों तरफ आँखों पर… Read More ›

# और गुल्लक फूट गया #

मिश्रा जी, वैसे तो सारी ज़िंदगी बैंक के काम करते हुये बिता चुके थे | लेकिन बचपन से ही  उनके मन में  हिन्दी साहित्य के प्रति खास आकर्षण था | अब रिटायरमेंट के बाद उन्होंने अपने जवानी के दिनों  में… Read More ›

# भूली बिसरी यादें #

 एक सप्ताह पहले की बात है ,| सुबह – सुबह मुझे, कोलकाता के  एन एस रोड की तरफ  कुछ काम के सिलसिले में जाने का मौका मिला | वहाँ अपने बैंक के बोर्ड को देख कर थोड़ी देर के लिए… Read More ›

# मैं और मेरा शौक#

दोस्तों, आज मेरे ब्लॉगिंग का तीसरा वर्षगांठ है | क्योंकि आज के ही दिन मेरे दिमाग में यह आइडिया आया था कि मैं एक ब्लॉग की शुरुआत  करूँ | मेरे दूसरे  ब्लॉगर  दोस्त को देख कर ही मैंने ऐसा सोचा… Read More ›