kavita

# मैं सपने बेचता हूँ #

आज कल हर आदमी हताश परेशान भागता फिरता नज़र आता है, सभी अशांति में जी रहे है शायद | क्योंकि हर आदमी ने एक सपना पाल रखा है ,जिसको हासिल करने  के लिए  रात दिन कोशिश कर रहा है ,|… Read More ›

एक कविता लिख रहा हूँ

आज कल के हालत ऐसे हो गए है कि सब को कोई ना कोई तकलीफ़ हैं अपनी ज़िंदगी से । कोई बहुत अच्छी,  बिना तकलीफ़ वाली लाइफ नहीं जी सकता । यह सच है कि  अगर हम  अपना ध्यान तकलीफ… Read More ›

मेरी कुछ यादें

ज़िन्दगी में बहुत सारी घटनाएँ होती है, लेकिन कुछ ऐसी भी होती है जो हमारे मानस पटल पर अंकित हो जाती है | जिसे चाह कर भी भूल नहीं पाते है और उसे बार बार याद कर दुखी या खुश… Read More ›

एक नई शुरुआत

वर्ल्ड बैंक ने एक इन्सान की औसत आयु 78 वर्ष मानकर यह आकलन किया है जिसके अनुसार हमारे पास अपने लिए मात्र 9 वर्ष व 6 महीने ही होते है| इस आकलन के अनुसार औसतन 29 वर्ष सोने में, 3-4… Read More ›

# बस चलता जाता है #

बहुत लोग आज कल इसी में खुश है कि 2 वक़्त कि रोटी के लिए उनके पास काम (नौकरी) है, सुबह जल्दी उठकर ऑफिस चले जाना, रात को देर तक वापस घर आना और फिर थोड़ा TV देखकर सो जाना।… Read More ›

स्वागत नए साल का

पुराने  साल के जाने और नए वर्ष के आने का ये अनवरत क्रम यूँ ही चलता रहेगा । बीते वर्ष में अपनी नाकामयाबी को गिन-गिन कर कोसने की जगह आने वाले वर्ष में कामयाबी पाने के लिए थोड़ी-सी योजना बनाकर… Read More ›