kavita

एक कविता लिख रहा हूँ

आज कल के हालत ऐसे हो गए है कि सब को कोई ना कोई तकलीफ़ हैं अपनी ज़िंदगी से । कोई बहुत अच्छी,  बिना तकलीफ़ वाली लाइफ नहीं जी सकता । यह सच है कि  अगर हम  अपना ध्यान तकलीफ… Read More ›

मेरी कुछ यादें

ज़िन्दगी में बहुत सारी घटनाएँ होती है, लेकिन कुछ ऐसी भी होती है जो हमारे मानस पटल पर अंकित हो जाती है | जिसे चाह कर भी भूल नहीं पाते है और उसे बार बार याद कर कभी दुखी तो… Read More ›

एक नई शुरुआत

वर्ल्ड बैंक ने एक इन्सान की औसत आयु 78 वर्ष मानकर यह आकलन किया है जिसके अनुसार हमारे पास अपने लिए मात्र 9 वर्ष व 6 महीने ही होते है | इस आकलन के अनुसार औसतन 29 वर्ष सोने में,… Read More ›

# खामोश ज़िन्दगी #

जब मेरी तनहाई बोलती है तो मेरे कहने को कुछ भी नहीं रह जाता… अगर हम ईमानदारी से सुनें तो तनहाई हमारी आत्मा की आवाज बन कर दिल की  गहराइयों में उतर जाती है | मैं बस इसे सुनता हूँ… Read More ›

# बस चलता जाता है #

बहुत लोग आज कल इसी में खुश है कि 2 वक़्त कि रोटी के लिए उनके पास काम (नौकरी) है, सुबह जल्दी उठकर ऑफिस चले जाना, रात को देर तक वापस घर आना और फिर थोड़ा TV देखकर सो जाना।… Read More ›