मेरे संस्मरण

# लालपरी  का क्या कसूर #

बात उन दिनों की है ,जब मेरी कोलकाता में नयी नयी पोस्टिंग हुई थी  और  मैं  हाथी बगान शाखा का ब्रांच मेनेजर था |  यहाँ मुझे नए नए तरह के अनुभव  मिल रहे थे |  चूँकि बड़ी शाखा थी अतः… Read More ›

# खेत खाय गधा..मार खाए ?

दोस्तों , आज कल हमारे देश में एक किसान आन्दोलन चल रहा है | मैं समझता हूँ कि भारत के इतिहास में अब तक का यह सबसे लम्बा आन्दोलन है | करीब साल भर होने को है और पता नहीं… Read More ›

# दोस्तों की महफ़िल #

दोस्तों, अपने बैंकिंग सर्विस में मुझे नयी नयी जगह को देखने का सौभाग्य प्राप्त हुआ | कुछ लम्हे मीठे थे तो कुछ में कटु अनुभव भी हुए | आज जब उन पलों को याद करता हूँ, या हम उन्ही सहकर्मियों… Read More ›

# और मैं बच गया #

दोस्तों आज मैं अपनी जिंदगी के एक अहम घटना की चर्चा करना चाहता हूँ | बात उन दिनों की है जब मेरी पोस्टिंग पटना के अशोक  राजपथ शाखा में हुई थी | चूंकि हमारा  घर भी पटना में ही था… Read More ›

# कोलकाता की पहली यात्रा #

दोस्तों आज मैं अपनी  पुरानी यादों के पन्ने उलट रहा था तो एक बीती घटना की याद आ गयी | मेरी इच्छा हो रही है कि आज उसी घटना को आप लोगों के साथ शेयर करूँ..| आज मैं जिस  घटना… Read More ›

# मैंने वो कर दिखाया #

मुझे बचपन से ही ये इच्छा थी कि मैं तैरना सीखूं , पर उस समय न तो उस तरह के हालात थे और न ही सुविधा ही उपलब्ध थी | कहते है न कि कभी कभी कुछ ऐसी  घटनाएँ घट… Read More ›

# बचपन की यादें #

जब मैं बच्चा था तो कुछ ज्यादा ही शरारती था  और जब हम बूढ़े हो गए है तो फिर से  बचपन को जीने की इच्छा होती है | बच्चे तो हम बन नहीं सकते है परन्तु  बचपन के दिनों की… Read More ›

# वो पहली मुलाकात #

आज सुबह – सुबह मोर्निंग वाक से आया तो मेरा मन  बहुत प्रसन्न लग रहा था | सुबह का नास्ता करने के बाद रीडिंग टेबल पर बैठ पेपर पढ़ रहा था और फिर मेरे दिमाग में वही सवाल चल रहा… Read More ›

# ऊँट की सवारी #

हमारी पोस्टिंग उन दिनों शिवगंज शाखा में थी | यह एग्रीकल्चर डेवलपमेंट शाखा थी यानी हमारी शाखा  से कृषि ऋण ही ज्यादा दिए जाते थे | इसलिए कृषि ऋण तीन जिलों के किसानो को दिया हुआ था –  सिरोही, पाली… Read More ›