मेरे संस्मरण

# ओ मेरी मसकली #

Friends, मैं जब भी सुबह मॉर्निंग वॉक के लिए निकलता हूँ, अपने साथ रात की बची हुई रोटियाँ लेकर आता हूँ | पार्क में  बहुत सारे कबूतर हमारा इंतज़ार करते रहते है और मैं उन रोटियों को छोटे -छोटे टुकड़ों… Read More ›

# वो काली रात #

आज मेरे शादी की ३९ वाँ सालगिरह है | मैंने  रात में ही आज के दिन भर का कार्यक्रम बना लिया था | सुबह – सुबह  हम दोनों को मंदिर जाना था ताकि भगवान् को एक बार फिर से धन्यवाद… Read More ›

# सुबह-सुबह की सैर में #

दोस्तों, आज की सुबह मेरे लिए खास था | सुबह हो चुकी थी लेकिन मैं देर तक सो रहा था क्योंकि रात मे देर से बिस्तर पर गया था | अचानक हमारे कमरे की खिड़की पर बहुत सारे कबूतर आ… Read More ›

मैंने देखा एक सपना

हम सब लोग सपने देखते है और सपने में अजीब अजीब चीज़ देख लेते है | इसका कारण कुछ ठीक – ठीक पता नहीं चलता है | कुछ लोग कहते है  कि सपनो में हम अपूर्ण इच्छाओं को पूर्ण होते… Read More ›

# शत शत नमन माँ #

आज 21 मई  है, मेरी माता जी की पुण्यतिथि। आज से 13  साल पहले, आज ही के दिन मेरी माँ हम सबों की छोड़ कर स्वर्गवासी हो गई   |  आज अपने स्वर्गवासी माँ को मैं अपने और सभी परिवार वालो… Read More ›

# प्रेम की परिभाषा #

दोस्तों , एक सप्ताह पहले मुझे कोलकाता के मिलेनियम पार्क (Millenium Park) में जाने का मौका मिला | दरअसल,  हमारे एक पुराने मित्र मुंबई से कोलकाता आए हुए थे और पास के ही एक होटल में ठहरे हुए थे |… Read More ›

# कर्म बड़ा या भाग्य ?

दोस्तों, आज मुझे अपने बचपन के दिनों का वाकया याद आ रहा है | तब मैं स्कूल में पढ़ता था | दोपहर  में स्कूल से आने के बाद खाना खा कर सो जाया  करता था | शाम के समय मुझे … Read More ›

# भूली बिसरी यादें #

 एक सप्ताह पहले की बात है ,| सुबह – सुबह मुझे, कोलकाता के  एन एस रोड की तरफ  कुछ काम के सिलसिले में जाने का मौका मिला | वहाँ अपने बैंक के बोर्ड को देख कर थोड़ी देर के लिए… Read More ›

# मैं और मेरा शौक#

दोस्तों, आज मेरे ब्लॉगिंग का तीसरा वर्षगांठ है | क्योंकि आज के ही दिन मेरे दिमाग में यह आइडिया आया था कि मैं एक ब्लॉग की शुरुआत  करूँ | मेरे दूसरे  ब्लॉगर  दोस्त को देख कर ही मैंने ऐसा सोचा… Read More ›