#तुमसे दूर चले जाएँगे#

Good afternoon friends,

Retiredकलम

आजकल लोगों मे अपनापन की कमी नज़र आती है | हर इंसान सिर्फ अपने लाभ के बारे मे सोचता है | कभी कभी जिन्हे हम अपना करीबी समझते है वो भी वक़्त आने पर मुंह फेर लेते है |

किसी पर कोई दया नहीं करता है | ऐसा लगता है कि “सारी दुनिया शैतान के कब्ज़े में पड़ी हुई है। लोगों मे भावनात्मक लगाव कम होता जा रहा है | उन्ही वेदना को संजोए यह कविता प्रस्तुत है | मुझे आशा है कि आप इसे पसंद करेंगे …

तुमसे दूर चले जाएँगे

इस शहर को छोड़ चला हूँ मैं

पास तुम्हारे अब नहीं आएंगे

दुख और गम से थक गया हूँ मैं

लोगों के तानों से पकगया हूँ मैं

तेरे शहर में अब न रह पाएंगे

यहाँ से कही दूर चले जाएंगे

बाकी बची ज़िंदगी जीने के लिए

ज़िंदगी में सुकून पाने के लिए

अपनी ख्वाबों की दुनिया में लौट…

View original post 137 more words



Categories: Uncategorized

4 replies

  1. Sadly, there is a tendency for people nowadays to ask the question “How can this benefit me?” rather than “How can I help others?”

    Liked by 1 person

  2. Bahut sundar kavita.Accha laga.

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: