गंगा किनारे की एक शाम

मुझे एक सप्ताह पहले अपने गृह स्थान “पटना” जाने का मौका मिला | कोरोना के कारण काफी दिनो  के बाद हम लोग वहाँ जा रहे थे | मैं अपनी पत्नी के साथ कोलकाता से रात की ट्रेन से जाने का निश्चय किया  |

हमलोग निर्धारित समय पर स्टेशन पहुँच गए | तभी ट्रेन मे पता चला कि “बेड – रोल” की  सुविधा अभी बंद है | मुझे AC कोच मे ठंड से थोड़ी परेशानी ज़रूर हुई लेकिन किसी तरह अगली सुबह पटना पहुँच गया | दो दिनो के बाद ही हमारे नए फ्लैट का गृह – प्रवेश था , इसलिए दो दिन काफी व्यस्तता मे निकल  गई |

अंततः सभी कार्यक्रम निर्धारित  समय और अच्छी तरह  सम्पन्न  हो गया | जब भी कोई शुभ काम सम्पन्न करता हूँ तो गंगा जी ज़रूर जाता हूँ | प्रभु के प्रति मेरी आस्था है और धन्यवाद प्रदर्शित करने हेतु जाता हूँ |

नए फ्लैट का गृह प्रवेश पुजा

मुझे तीसरे दिन रात की  ट्रेन से वापस कोलकाता आना था |  इसलिए मैं दूसरे दिन शाम को  गंगा जी जाने का प्रोग्राम बना लिया | हमारे घर से करीब एक किलोमीटर की दूरी पर ही गंगा नदी बहती है |

मानो तो माँ गंगा मानवता का कल है ,ना मानो तो सिर्फ इक नदी का जल है

मुझे गंगा के तट पर घूमना बहुत पसंद है । यह मन, शरीर और आत्मा के लिए अच्छा है | यहाँ मुझे बहुत शांति की अनुभूति होती है | गंगा किनारे रेत पर चलना मेरे पैरों में ताजगी का अनुभव कराता है ।

वह एक अच्छी शाम थी – न बहुत गर्म, न बहुत ठंडी | मुझे शाम में वहाँ टहलते हुए ठंडी हवा का एक स्पर्श बहुत आनंदित कर रहा था |

आसमान में आंशिक रूप से बादल छाए हुए थे और भूरे रंग के बिखरे हुए बादल के धब्बे थे, जो सूर्यास्त का बहुत सुंदर दृश्य प्रस्तुत कर  रहा था |

गंगा किनारे की एक शाम

मैं आसमानी नीले रंग के बादलों के नीचे टहल रहा था तभी मैंने देखा कुछ बच्चे गंगा नदी में मजे कर रहे है | मैं उन्हे बड़े ध्यान से देख रहा था और आनंदित हो रहा था |  मुझे अपना बचपन का वो दिन याद आ गया जब हम भी गंगा जी आते थे और  दोस्तों के साथ खूब मजे करते थे |

तभी अचानक वहाँ शंभू दिख गया | मैं उसे घूर रहा था और पहचानने की कोशिश कर रहा था कि वह वही शंभू है या कोई और | वह हमारा लंगोटिया यार था | आज वर्षों बाद अचानक वह मिल गया था | इसे संयोग ही कहा जा सकता है | अचानक कोई पुराना मित्र मिल जाये जो खुशी दुगनी हो जाती है |

फिर क्या था , मैं भी उनके साथ गंगा जल में कुछ आनंद के पल बिताने का मन बना लिया और फिर गंगा जी में कूद पड़ा |

मुझे गर्मी के मौसम में पानी के अंदर बहुत सुकून का अनुभव हो रहा था और साथ ही साथ मेरे बचपन के दिनों की यादें ताज़ा हो गई |

तन को साफ करें गंगा मे नहा कर, मन को साफ करें ईश्वर को बसा कर

तभी अचानक गड़गड़ाहट की आवाज़ के साथ एक नाव आता हुआ दिखाई दिया | गंगा जी में चलता हुआ नाव और डूबता हुआ सूरज का जो मनोरम दृश्य था उसे मैं अपने कैमरा में कैद कर लेना चाहता था | मैंने उसे क्लिक कर लिया | वह शाम मेरे लिए खास थी | पुराना मित्र से मुलाक़ात और गंगा किनारे की शाम , सचमुच मज़ा आ गया |

एक आँसू भी हुकूमत के लिए खतरा है, तुम ने देखा नहीं आँखों का समुंदर होना

तभी मेरी नज़र गोल-गप्पे वाले पर पड़ी | मैं उसे आवाज़ देकर पास बुला लिया | हम दोनों दोस्त गोल-गप्पे खाते हुये अपने बचपन को फिर से जीने की कोशिश कर रहे थे | कभी हम सभी दोस्त हाफ पैंट पहन कर यहाँ आते थे और घंटों मजे करते थे | कहाँ गए वो बचपन के दिन ?

शाम ढले आसमान के तले

मैं आँखे मूंद कर बैठा हूँ

फुर्सत के इन  लम्हों में

बचपन को ढूढने बैठा हूँ |

गम भी बहुत, तनहाइयाँ भी है

वक़्त की दी हुई. परेशानियाँ भी है

भींगी पलकें, ठहरे आँसू 

सबको  भुलाने बैठा हूँ

फुर्सत के  कुछ लम्हों में

 बचपन को  ढूढने  बैठा  हूँ |

यादें हैं कि रूकती ही नहीं

वादे सब तो धोखा है

चुपके – चुपके ख्वाबों में

आने से किसने रोका है | ..

सब कुछ है पर तुम तो नहीं

मैं तुम्हे भुलाने बैठा हूँ ..

फुर्सत के इन लम्हों में

बचपन को ढूँढने बैठा हूँ |

         (विजय वर्मा)

पहले की ब्लॉग  हेतु  नीचे link पर click करे..

BE HAPPY….BE ACTIVE….BE FOCUSED….BE ALIVE…

If you enjoyed this post, please like, follow, share, and comments

Please follow the blog on social media … visit my website to click below.

www.retiredkalam.com



Categories: infotainment

10 replies

  1. गृहप्रवेश के समारोह की शुभकामनाएं। 👌👍🎊🎉
    नये घर में भगवान आपके परिवार को सदा के लिए सुख, शांति, समृद्धि और अच्छी सेहत से आशीर्वाद करें। 🙏

    Liked by 1 person

  2. बहुत अच्छा गंगा तट का वर्णन साथ मे अच्छी कविता भी।

    Liked by 1 person

  3. Very good narration about bank of river Ganga. Meeting with old friend after a long time also Gripravesh ceremony.

    Liked by 1 person

  4. Congratulations and best wishes for new house!

    Liked by 1 person

  5. You narrated your feeling of short stay at Patna very nicely & it is worth reading. Anyway, you did not stole time to meet me at Patna.I am long waiting to see you in person & have enjoyable conversation with you.
    Yours Friend

    Shailendra

    Liked by 1 person

    • Thank you dear for appreciating my write up.
      Due to some unavoidable circumstances I could not meet you at that time.
      I am very sorry for that but promise to see visit there very soon.

      Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: