# हँसना-हँसाना ज़रूरी है #

You have been criticizing yourself for years and it has not worked,
Try approving of yourself and see what happens. Stay always happy.

Retiredकलम

तनाव और डिप्रेशन

ऐसे कई अध्ययन हैं जो हमें यह बताते हैं कि आज – कल तनाव और डिप्रेशन की समस्याएं सर्वव्यापी होती जा रही हैं और यह तनाव हम में से अधिकांश लोग को प्रभावित कर रही हैं।

एसोचैम के एक हालिया अध्ययन से पता चला है कि भारतीय निजी क्षेत्र के 42.5% कर्मचारी तनाव और डिप्रेशन से पीड़ित हैं। कभी कभी तो कब डिप्रेशन में चले गए हमें पता ही नहीं चलता है |

आगे भी तनाव की महामारी का बढ़ना तय है क्योंकि कोरोना महामारी के कारण हमारे जीवन शैली और कार्य प्रणाली तेजी से बदल रही है।

जी हां, महामारी के इस संकट में हमने अपनी जीवन शैली में बहुत तरह के बदलाव करने शुरू कर दिये है | शारीरिक रूप से फिट और मानसिक रूप से खुश रहने के लिए ये सभी बदलाव जरूरी हो सकते हैं। लेकिन पहले हमें यह समझने की जरूरत है…

View original post 471 more words



Categories: Uncategorized

4 replies

  1. जी बिल्कुल

    Liked by 2 people

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: