# खेद नहीं है मुझे #

हम इंसान अपने ज़िंदगी में किसी किसी बात पर पछतावा करते रहते है |  जब  हमें अनुकूल मुकाम हासिल नहीं होता तो हमे  पछतावा होने लगता है |

हमें एक अच्छी नौकरी मिल रही थी लेकिन  हमें अपने माता पिता से इतना लगाव था कि  हम उनको अकेला छोड़कर दूसरे शहर नहीं जा सकते थे |  बाद में माता – पिता भी नहीं रहे और नौकरी भी खो दी , तब पछतावा होना स्वाभाविक है |

 हम माता – पिता का मन देखकर उनकी पसंद की लड़की से शादी तक कर लेते है | और  हमें जीवन भर  पछतावा होता है  कि हमने अपनी पसंद की  लड़की से शादी क्यों नहीं की ?

लेकिन पछतावा करने से अब  क्या हासिल ?  जब भी विपरीत परिस्थिति का सामना हो तो उसे ऊपर वाले की नियति समझ कर ग्रहण करना ही श्रेष्ठ होगा | अपनी तुलना किसी और से न करें और न ही ज़िंदगी में कभी खेद प्रकट करे — सुखी जीवन का यही मूल मंत्र है |

खेद नहीं है मुझे

मैं आपके जैसा नहीं हूँ

मैं वैसा ही दिखता हूँ

जैसा भगवान ने बनाया है।

खेद नहीं है  मुझे

मेरी आंखें भूरी नहीं है ,

मेरे बाल काले नहीं है,

मैं वैसा ही दिखता हूँ

जैसा भगवान ने बनाया है|

खेद नहीं है मुझे

मैं हिन्दू नहीं, मुस्लिम नहीं

सीख नहीं, न ही ईसाई हूँ

मेरे लिए सब एक जैसे है

वैसे ये भगवान ने नहीं बनाया है |

खेद नहीं है  मुझे

मेरे पास बंगला नहीं, मोटर नहीं, 

ना  ही हीरे – जवाहरात है

     दो वक़्त की रोटी खाता हूँ

और चैन की नींद पाता हूँ |

खेद नहीं है मुझे

मैं बाहुबली और बेईमान नहीं हूँ  

मैं नेता की तरह बिकने का सामान नहीं हूँ.

और इन पापों का भागीदार भी नहीं  हूँ |

खेद नहीं है मुझे

मैं कमजोर नहीं, लाचार नहीं हूँ

न ही किसी का गुनाहगार हूँ

न पुलिस को पीछे पाता हूँ ,

न डॉक्टर के पास जाता हूँ

मुझे खेद नहीं अभिमान है

मेरी ज़िंदगी की यही पहचान है |

               (विजय वर्मा)

मैं कौन हूँ ब्लॉग  हेतु  नीचे link पर click करे..

BE HAPPY….BE ACTIVE….BE FOCUSED….BE ALIVE…

If you enjoyed this post, please like, follow, share, and comments

Please follow the blog on social media … visit my website to click below.

        www.retiredkalam.com



Categories: kavita

9 replies

  1. बहुत बहुत बहुत ही सुंदर लिखा है आपने 🌹🌹

    Liked by 1 person

  2. Dukh karana aadmi ka prakruti hai.Dukh job hota hai humlog jimidari lete nahi.Santosh ke Liye dusreke Jimi dar karate hai.
    Bahut Sundar lekha.

    Liked by 1 person

  3. Reblogged this on Retiredकलम and commented:

    words can inspire, thought can provoke , but
    only action truly brings you closer to your dreams.

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: