कैसी है ये ज़िन्दगी ?

Every phase in our life is bound to teach us something valuable ,
But it depends on us whether we analyze the lessons or
just turn the pages… Stay happy ….Stay blessed…

Retiredकलम

वैसे तो रिश्ते ज़िन्दगी का हिस्सा होते है , लेकिन कुछ रिश्ते ऐसे होते है जो दिल के बेहद करीब होते है | हम उसे महसूस करते है, उससे बातें भी करते और याद कर के सुकून भी पाते है |

यह कोई ज़रूरी नहीं कि वो हमारे पास हो | आज का जो करोनाकाल का माहौल है. उसमे तो हमारे रिश्ते मजबूर है एक फासला बना कर रहने को | यह फासला और उसके कारण होने वाली तड़प का एहसास कभी – कभी चंद शब्दों का रूप ले लेता है जो कविता के रूप में लोगों के बीच प्रस्तुत हो जाता है …

जाने कैसी है ये ज़िन्दगी ?

रोज़मर्रा की मशक्क़त और

दिन भर की कश्मकश है ये ज़िन्दगी,

कभी तो घबरा जाता हूँ, अपने ही मन से

कभी डर जाता हूँ, छोटी छोटी उलझनों से,

तुम्हे खुश देख कर, ख़ुशी का आभास होता है

तेरा दुःख देख…

View original post 131 more words



Categories: Uncategorized

10 replies

  1. Mast hai ye jindagi Haan usko aise hi bolte jana. Mast hai aapka ye post.
    👍👌♥️🙏

    Liked by 1 person

  2. Muito belo seu desenho ✨😊

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: