# भूली बिसरी यादें #

We need strength while doing the possible,
But we need faith while doing the impossible..

Retiredकलम

एक सप्ताह पहले की बात है ,| सुबह – सुबह मुझे, कोलकाता के एन एस रोड की तरफ कुछ काम के सिलसिले में जाने का मौका मिला | वहाँ अपने बैंक के बोर्ड को देख कर थोड़ी देर के लिए रुक गया | मेरे दिमाग में 20 साल पुरानी बातें एक फिल्म की तरह चलने लगी |

मेरी पुरानी यादें मुझे 20साल पीछे ले गई | मुझे ऐसा लगा रहा था जैसे यह कल की ही बात हो | मैं पहली बार कोलकाता आया था क्योंकि हमारी पोस्टिंग इसी शाखा में हुई थी , वह साल थी 2001 ….

मेट्रो शहर कोलकाता में पहली बार आना हुआ था, इसलिए इस शहर को लेकर थोड़ा भयभीत था, लेकिन काफी उत्सुक भी था | पता नहीं यहाँ की ज़िंदगी कैसी होगी ?

सुना था कि मेट्रो का लाइफ थोड़ा फास्ट होता है | इसलिए अपनी पुरानी आदतों में कुछ सुधार करना होगा…

View original post 697 more words



Categories: Uncategorized

2 replies

Trackbacks

  1. # भूली बिसरी यादें # – आओ कुछ नया सीखें

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: