# एक प्रेम ऐसा भी #

प्रेम करने वाला व्यक्ति प्रेम तो कर लेता है परंतु उसको ठीक से निभा नहीं पाता है | वास्तविक बात करें,  तो प्रेम करने से कई गुना कठिन काम है प्रेम को निभाना | प्रेम में दोनों तरफ आँखों पर पट्टी बंधा रहता है | इसलिए दोनों को  जीवन शुरू करने के बाद आपस में समझौता करना पड़ता है |

दोनों को ही अपने अहम का त्याग करना पड़ता है ।  प्रेमी तो प्रेम करने के दौरान में अनेकों त्याग कर चुका होता है  लेकिन  उसे बाद में त्याग करने में कठिनाई होता है | प्रेमी को अपने अंदर की प्रेम प्रकृति को समझना चाहिए  और आपस में सामंजस्य बैठा कर साथ- साथ चलना चाहिए | ऐसा करके ही एक प्रेमी अपने प्रेम को सफल बना सकता है |

वास्तव में जहां प्रेम होता है वहाँ मोह होता ही नहीं | प्रेम का जन्म करुणा से होता है, और मोह का जन्म अहंकार से |

प्रेम शब्द का उपयोग हम कई जगह पर करते है | लेकिन सही अर्थों में प्रेम क्या है ? जिस से प्रेम होता है  उसी के साथ क्यों झगड़ा होता है ? क्या जहां पर प्रेम है वहीं पर अपेक्षा रहती है | पति – पत्नी का प्रेम, माता – पिता का  संतानों के प्रति प्रेम,  गुरु का शिष्य के प्रति प्रेम |  क्या इसी को प्रेम कहते है ? या फिर उससे भी विशेष कोई प्रेम हो सकता है ?

बेटी का प्रेम पिता के लिए

प्रेम शब्द को गहराई से अनुभव करने के लिए एक सुंदर कहानी प्रस्तुत करना चाहता हूँ |

एक कहानी

एक सुंदर सा खुशहाल परिवार, जिसमें राहुल उसकी पत्नी रीमा और एक बेटा राजीव  खुशी – खुशी अपने छोटे से मकान में रहते थे | परिवार छोटा , मकान भी छोटा था ,  परंतु उनका दिल बहुत बड़ा था |

राहुल अब  रिटायर्ड हो चुके है | वह रोज  सुबह – सुबह घर के पास बने मंदिर में जाते है और घंटों भगवान से न जाने क्या बातें करता रहते है |  आज उसे याद आ रहा था अपने अतीत के बीते हुए  दिन |  30 साल बीत गए, लेकिन लगता है जैसे कल की ही बात हो |

राहुल अपनी पढ़ाई पूरी किया ही था, तभी उसे विदेश से एक अच्छे  जॉब का ऑफर आया था | लेकिन उनके  पिता अपने इकलौते बेटे को अपने आंखों से दूर नहीं रखना चाहते थे | वे राहुल से बहुत प्यार करते थे |

वो विदेश न जाए, इसलिए उन्होंने बड़े अरमान से राहुल की शादी अपने दोस्त की बेटी रीमा से कर दी थी  | चूंकि राहुल भी अपने पिता से बहुत प्यार करता था इसलिए पिता की इच्छा पूरा करना अपना कर्तव्य समझता था |

शादी के बाद दोनों खुश थे | राहुल को अपने ही शहर में तुरंत ही एक अच्छी नौकरी भी मिल गई |  राहुल के दिल में तमन्ना थी कि जब मैं एक अच्छी नौकरी कर रहा हूँ , तो अपने बूढ़े माँ – बाप  को वो सब सुख सुविधा दूँ जिनसे वे लोग हमेशा खुश रहें |  उनकी खूब सेवा करूँ |

लेकिन राहुल के दिल के अरमान दिल में ही दफन हो गए |  अचानक एक दिन पिता को हार्ट अटैक आया और उनकी जीवन लीला समाप्त हो गई  | उसी गम में माँ भी कुछ ही दिनों में स्वर्ग सिधार गई |

राहुल ने तो बचपन से ही हास्टल की  ज़िंदगी जिया था | माँ – बाप को सेवा करने का भगवान ने तो मौका ही नहीं दिया | आज वह मंदिर में पुजा करने के बदले वह यह सब क्या सोचने बैठ गया है ?

उसने  अपनी आँसू पोंछी और अतीत से वर्तमान में आ गया | वह भगवान के सामने हाथ जोड़ कर कह रहा था – भगवान तूने मुझे राजीव जैसा नेक बेटा देकर मुझ पर बहुत उपकार किया है | राजीव  भी हम लोगों से  उतना ही प्यार करता है, जितना मैं अपने माता – पिता से करता था |

पुजा करने के बाद, राहुल मंदिर से चुप – चाप अपने  घर वापस आ गया | उसके नाश्ते  का समय हो रहा था , इसलिए वह अखबार पढ़ता हुआ नास्ते के  टेबुल पर नाश्ता आने का इंतज़ार कर रहा था |

तभी घर के दरवाजे पर किसी ने दस्तक दी | राहुल ने उठ कर दरवाजा खोला तो सामने डाकिया बाबू थे और उन्होंने  राहुल के हाथ में एक लिफाफा दिया  |

उन्होंने लिफाफा खोला तो उनकी  खुशी का ठिकाना नहीं रहा | राजीव  को  वैज्ञानिक के पद पर नियुक्ति का ऑफर था | लेकिन उसके लिए उसे अमेरिका जाना होगा |

राहुल को अपने बेटे से अलग होने का दुख का एहसास हो रहा था , लेकिन अगले ही पल इस महत्वपूर्ण उपलब्धि पर उन्हें अपने बेटे पर गर्व भी हो रहा था |

उन्होंने  मन  में ठान लिया कि राजीव को अमेरिका ज़रूर भेजेगा , क्योंकि उन्होंने तो  अपने विदेश में नौकरी करने की इच्छा अपने पिता को समर्पित कर दिया था | मैं राजीव के साथ ऐसा नहीं होने दूंगा |

हालाँकि राहुल को पता था कि उसके बीमारी की  खबर राजीव को लगी तो वह उसे छोड़ कर कहीं नहीं जाएगा | लेकिन अपने औलाद की  ज़िंदगी संवार जाये, उससे बड़ी खुशी किसी भी बाप के लिए क्या होगी ?

हाँ, राहुल को एक महीना पहले ही डॉक्टर ने कह दिया था कि  उसे कैंसर है और उसके पास सिर्फ छः महीने ही शेष है |

लेकिन यह बात राहुल ने अब तक सभी से छुपा कर रखी थी ताकि उसके कारण घर का खुशनुमा माहौल दुख और परेशानी में न बादल जाये |

राहुल नाश्ता समाप्त कर के अपना छाता उठाया और बैंक की ओर चल दिया , उसे आज जीवन प्रमाण पत्र जमा करने थे |

इधर राजीव को विदेश वाली नौकरी के ऑफर लेटर की बात पता चली तो, उसने माँ से साफ – साफ कह दिया कि  मैं आप लोगों को छोड़ कर कहीं  नहीं जाने वाला हूँ | पिता जी के जो खेत है, उसी में organic खेती करूंगा और खूब पैसे कमाऊँगा |

यह कैसा प्रेम ?

जब राहुल को अपने बेटे के मन की बात पता चली तो वे परेशान हो उठे | तो क्या उसे  इसलिए इतना  पढ़ाया था कि  वह किसान बने ? नहीं, मुझे कुछ उपाय सोचना होगा |

अब राहुल  छोटी – छोटी बातों पर राजीव से उलझ जाते उसे भला बुरा कहने लगते | उसकी पत्नी को भी कभी – कभी कुछ अपशब्द  कह  देते | इस बदले हुए पिता के व्यवहार से राजीव परेशान हो उठा | लेकिन यह सिलसिला आगे भी चलता रहा |

आखिर राजीव कितना बरदाश्त करता | अब बाप – बेटे के बीच कटुता जनम ले चुकी थी | एक दिन उसने  ऊब कर फैसला कर लिया कि विदेश वाली नौकरी जॉइन कर लेगा |  कुछ छोटी – मोटी  तैयारी करके दस दिनों बाद ही अपने पत्नी के साथ अमेरिका चला गया |

राहुल तो यही चाहता था कि राजीव अपनी गृहस्थी की गाड़ी ठीक से संभाल ले | पोता -पोती का मुंह देख ले, फिर चैन से इस संसार से रुखसत हो लेंगे | लेकिन उसके पास उतना समय कहाँ है ?

इधर राजीव वहाँ अमेरिका में अपने आप को  ठीक से एडजस्ट कर लिया था |

वह प्रायः 2-4 दिनों  पर घर फोन करता , लेकिन बात सिर्फ माँ से करता था | पिता से तो वह बहुत नाराज़ रहता था | लेकिन राहुल उसके नाराज़ होने का बुरा नहीं मानते थे | वो तो उससे इतना प्रेम करते थे कि उसकी भलाई के लिए अपने कैंसर जैसे गंभीर बीमारी को भी छुपा के रखा था |

इस तरह तीन महीने गुज़र गए | राहुल बीच-  बीच में डॉक्टर के चक्कर लगाता | लेकिन उसकी हालत में सुधार होने के बजाए बिगड़ती जा रही थी | राहुल तो बस भगवान से इतनी विनती करता कि वह ज़िंदगी के कुछ और पल दे दे ताकि वह  दादा बन कर अपने पोते का मुंह देख ले |

और सच ही, भगवान ने राहुल की बात सुन ली और आज ही खबर आया कि बहुत जल्द ही राजीव बाप बनाने वाला है |

यह बात सुन कर राहुल बहुत खुश था | अपने सभी लोगों में मिठाइयाँ बांटी | घर में भी खुशी का माहौल था | आज से ठीक छः महीने बाद बहू यहाँ आ जाएगी ताकी बच्चे का जनम अपने घर में  , अपने  देश में हो सके | 

सचमुच समय बड़ा बलवान है | हमारे चाहने से कुछ नहीं होता, हमारी साँसों की डोर उसी के हाथों में है |

देखते – देखते इस तरह राहुल के बीमारी के छः माह बीत गए | और फिर एक दिन अचानक  राहुल की तबीयत बिगड़ गई |

उसे आनन – फानन में डॉक्टर को दिखाया गया | उनके डॉक्टर ने तुरंत हॉस्पिटल में एड्मिट होने को कहा | तभी उनकी पत्नी को सारी हकीकत  का पता चला | वो बेचारी अब अकेले  कैसे अपने पति को संभालेंगी |

राजीव को पिता के बीमारी के बारे ने जानकारी मिली तो वह घबरा गया | बाप के प्रति नफरत अचानक समाप्त हो चुकी थी |

उसने  उसी समय अपने फ्लाइट की बूकिंग करा ली | लेकिन तीन दिन बाद जाना होगा क्योंकि ऑफिस के कुछ ज़रूरी काम पूरे करने थे |

खैर किसी तरह तीन दिन  बीते | इस बीच वह हर पल की  खबर लेता रहता |

तीसरे दिन सारे formality को पूरा करने के बाद  राजीव पत्नी के साथ  अन्ततः इंडिया पहुँच गया |

लेकिन भगवान की भी कैसी मरज़ी है ?

उसी समय उसकी पत्नी को भी प्रसव पीड़ा शुरू हुआ और उसे भी हॉस्पिटल में दाखिल कराना  पड़ा |

और अंत में वह समय  भी आ गया  जब उसकी पत्नी ने बेटे को जनम दिया |  राहुल दादा बन गए | बाप- बेटे की कटुता भी खतम हो गई | राजीव यह खुशखबरी अपने पिता को सुनाने के आया था , लेकिन उससे पहले  ही राहुल के प्राण पखेरू उड़ चुके थे | राजीव अब खुशी मनाए या मातम ?

यह कैसा प्रेम की पराकाष्ठा थी जिसमे पता ही नहीं चला कि राहुल के प्रेम का यह कौन सा रूप है, और इसे क्या नाम दिया जाये ?

एक दिन हम भी कफन ओढ़ जायेंगे,

सब रिश्ते इस जमीन के तोड़ जायेंगे

जितना जी चाहे सता लो मुझको यारों

एक दिन रोता हुआ सब को छोड़ जायेंगे।

हँसना भी ज़रूरी है ब्लॉग  हेतु  नीचे link पर click करे..

BE HAPPY….BE ACTIVE….BE FOCUSED….BE ALIVE…

If you enjoyed this post, please like, follow, share, and comments

Please follow the blog on social media … visit my website to click below. www.retiredkalam.com



Categories: story

7 replies

  1. नियती के नियंत्रण के आगे सब फेल है।

    Liked by 1 person

  2. अच्छी कहानी।

    Liked by 1 person

  3. Sab kuchh upar Walla ke haath me hai.Diljus Kahani.

    Liked by 1 person

  4. Reblogged this on Retiredकलम and commented:

    Life cannot be changed in a minute but
    a decision taken in a minute changes everything in life.
    Always stay calm before you take any decision.

    Like

Leave a Reply to vermavkv Cancel reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: