#बचपन का ज़माना था#

Life laughs at you when you are unhappy,
Life smiles at you when you are happy. But
Life salutes you when you make others happy.

Retiredकलम

बचपन का भी क्या ज़माना था | बचपन के अनुभव हमें आज भी याद आते है और दिल बरबस ही सोचता है कि क्यों हम बड़े हो गए ?

लेकिन ज़िन्दगी तो है एक समय की धारा | हम सब को इसमें बहते जाना है | लेकिन कभी कभी मुड कर हम बचपन में बिताये कुछ हसीन लम्हों को याद कर, इस तनाव भरी ज़िन्दगी में खुश हो लेते है / आइये फिर आज बचपन के उन हसीन लम्हों को याद करते है …

तब हमारी उम्र करीब 9-10 साल की रही होगी | स्कूल में हमारी दोस्तों की एक चौकड़ी बन गयी थी, जिसे लोग चंडाल – चौकड़ी भी कहते थे | क्योंकि, हमेशा कोई न कोई खुराफात दिमाग में चलता रहता था, इसलिए बदमाशी के कारण स्कूल के टीचर से लेकर घर वाले सभी लोग परेशान रहते थे |

हम दोस्तों में एकता इतनी कि अगर कोई क्लास…

View original post 547 more words



Categories: Uncategorized

2 replies

  1. अच्छी धुनाई हो गई आपकी तभी याद है अभी भी 😁😁😁

    Liked by 1 person

  2. हा हा हा ॥सही कहा है आपने |
    बचपन की वो यादें हमेश चेहरे पर मुस्कान ले आती है |

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: