# एक बिहारी सौ पे भारी #

लोहे को कोई नष्ट नहीं कर सकता , बस उसका जंग उसे नष्ट कर सकता है ,
इसी तरह, आदमी को भी कोई और नहीं बल्कि उसकी सोच ही नष्ट कर सकती है |
सोच अच्छी रखो , निश्चित अच्छा होगा |

Retiredकलम

दोस्तों.

आज 22 मार्च है और हम इसे बिहार दिवस के रूप में मनाते है |

मैं बिहारी हूँ और बिहार पर मुझे गर्व है और हो भी क्यों ना | बिहार के बारे में ऐसी बहुत सारी बातें है जिन्हें जान कर हर बिहारी अपने को गौरवान्वित महसूस करता है |

सन 1912 में आज ही के दिन अंग्रेजो के शासन काल में बंगाल प्रेसीडेंसी से अलग कर बिहार राज्य का गठन किया गया था |

पुनः 1935 में बिहार का विभाजन हुआ और उड़ीसा राज्य बना और बिहार का दूसरा विभाजन 15 नवम्बर 2000 में हुआ और झारखंड राज्य का निर्माण हुआ |

  • इस पावन भूमि पर सम्राट जरासंध, अजातशत्रु, बिम्बिसार, चन्द्रगुप्त मौर्या, सम्राट अशोक, जैसे महान राजाओ ने राज किया, जिनका नाम इतिहास में सुनहरे अक्षरों में लिखा गया है |

  • चूँकि इस क्षेत्र में बौद्ध विहारों की संख्या अधिक थी अतः यह इलाका विहार शब्द से…

View original post 1,095 more words



Categories: Uncategorized

12 replies

  1. Palavras muito sábias 🙂Choveu muito neste dia? ☔⛈️

    Liked by 1 person

  2. Happy belated Bihar diwas 🙇🏻‍♂️

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: