# बचपन की होली #

आप सभी को आस्था और सत्या के विजय पर्व होलिका दहन
की हार्दिक बधाई और शुभकामनायें |

Retiredकलम

आज जब मै बच्चो के साथ होली खेल रहा था तो अचानक हमें अपने बचपन की होली की एक घटना याद आ गई और चेहरे पर मुस्कान दौड़ गई |

सचमुच आज के ज़माने की होली और हमारे बचपन की वो होली में एक ख़ास अंतर महसूस कर पा रहा हूँ |हमारे बचपन की होली की मस्ती कुछ ज्यादा ही रहती थी |

आज तो ना पीतल वाली पिचकारी है और ना कीचड़ वाली कपडे फाड़ होली होती है | और होलिका जलाने के लिए पाँच सात दिन पहले से ही रात में दोस्तों की टीम बनाकर घर घर जाकर गोइठा मांगते थे, लकड़ियाँ इकठ्ठा करते थे और खूब मस्ती करते थे |

कभी कभी तो मौका पाकर किसी की पुरानी खाट को भी चोरी छुपे आग के हवाले कर देते थे |

अब हमलोग शरीफों वाली होली खेलते है etiquette और manner का ध्यान रखते है | हमें आज…

View original post 756 more words



Categories: Uncategorized

9 replies

  1. Wishing you a very happy and colourful Holi, sir.

    Liked by 1 person

  2. 👏👏👏👏 Parabéns…ficou muito lindo 😍

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: