#देवी अहिल्याबाई होलकर#

रिश्तों में सदा प्यार की मिठास रहे ,
कभी ना मिटने वाला एक एहसास रहे ,
कहने को तो छोटी सी है यह ज़िन्दगी ,
मगर दुआ है कि सदा आपका साथ रहे ….
आप खुश रहे …स्वस्थ रहें |

Retiredकलम

दोस्तों, हमारे भारत में बहुत सारे शख्स हुए है, जिन्होंने अपने कर्मो से इतिहास रचा है, कुछ को हम याद करते है लेकिन कुछ को भूल चुके है |

ऐसी ही एक शख्सियत की चर्चा आज कर रहा हूँ, जिनके जीवनी के बारे में जान कर हम सबों को प्रेरणा मिलेगी |

मालवा साम्राज्य की महारानी देवी अहिल्या बाई होल्कर , इनके द्वारा किये गए कार्यों से हमें बहुत सारी सीखें मिलती है |

इनका जन्म 1725 में महाराष्ट्र के अहमदनगर के छोनी गाँव में हुआ था | इनके पिता मनकोजी राव सिंधिया , गाँव के पाटिल थे | यह वो जमाना था जब महिलाओं को शिक्षा से वंचित रखा जाता था | इसके बाबजूद उनके पिता ने उन्हें पढ़ा लिखा कर अच्छे संस्कार दिए | बचपन से ही अहिल्या बाई में सेवा भाव कूट – कूट कर भरी थी |

ऐसा कहा जाता है कि एक दिन इंदौर के…

View original post 1,270 more words



Categories: Uncategorized

4 replies

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: