#मेरी विदेश यात्रा …6

दोस्तों,

मलेशिया भ्रमण के दौरान यहाँ की कुछ विशेषताओं से अवगत हुआ था , जिसकी चर्चा यहाँ करना चाहता हूँ | ..

मलेशिया की विशेषता

1970 से पहले मलेशिया इतना धनी देश नहीं था | यहां की इकोनॉमी मुख्यतः कृषि के ऊपर निर्भर थी | लेकिन 1980 के बाद मलेशिया में जबरदस्त परिवर्तन आया और मलेशिया की इकोनॉमी बहुत तेजी से आगे बढ़ी | आज मलेशिया सिंगापुर के बाद दक्षिण पूर्व एशिया में सबसे धनी देश माना जाता है |   

संस्कृति के हिसाब से मलेशिया बहुत ही विचित्र देश है | यहां पर बहुत सारे ट्रेडिशन के लोग रहते हैं | हालाँकि  मलेशिया में ज्यादातर चीनी और भारतीय मूल के लोग रहते हैं | मलेशिया की अधिकारिक भाषा मलिया है |  शिक्षा और आर्थिक क्षेत्र में मलेशिया में ज्यादातर अंग्रेजी का इस्तेमाल किया जाता है |

  • दुनिया का सबसे बड़ा गोल आकृति हाईवे मलेशिया में ही मौजूद है जो कि 22 किलोमीटर लंबा है |
  • मलेशिया में दुनिया के राष्ट्रीय राजशाही परिवार की संख्या सबसे ज्यादा है |
  • मलेशिया में पहली फिल्म 1933 को दिखाई गई थी और उस फिल्म का नाम था लैला मजनू |
  • मलेशिया के बेलम जंगल में दुनिया में सबसे ज्यादा बाघ पाए जाते हैं यहां पर प्रति किलोमीटर में बाघों की संख्या सबसे ज्यादा है |
  • दुनिया में सबसे ज्यादा किंग कोबरा मलेशिया में ही पाए जाते हैं और दुनिया का सबसे लंबा कोबरा मलेशिया में ही स्थित है जो कि करीबन 19 फीट लंबा है |

    कुआलालंपुर का नज़ारा

वैसे, कल की शाम कुआलालंपुर में शानदार गुज़रा था | ख़ास कर ट्विन-टावर जाकर बहुत मजे किये थे | हाँ, मलेशिया की एक खास बात बताना भूल गए थे | वहाँ की मोनो रेल से घुमने का आनंद भी  उठाया था | मैं इसलिए यहाँ बताना चाहता था क्योंकि पहली बार मोनो रेल से सफ़र करने का लुफ्त उठाने का मौका मिला था |

खैर, आज भ्रमण हेतु हमलोग को थोडा जल्दी निकलना था, क्योंकि कम समय में ज्यादा से ज्यादा दर्शनीय जगहों को कवर करना था |

मौसम बिलकुल अनुकूल था इसलिए घुमने के बाद भी ज्यादा थकान नहीं होता था | इसे भगवान् की कृपा कह सकते है |

हमलोग जल्दी – जल्दी तैयार होकर रेस्तरां में ब्रेकफास्ट के लिए पहुँचना चाहते थे | लेकिन इसी ज़ल्दी के चक्कर में रूम लॉक हो गया, लेकिन key (कार्ड) तो अन्दर ही रह गया | अब क्या किया जाए ?

आगे क्या बतायुं, — ११th फ्लोर से लिफ्ट के द्वारा reception में आया , फिर उनसे डुप्लीकेट चाबी  के लेकर फिर वापस लिफ्ट से रूम में गया | ऐसा इसलिए,  क्योंकि मेरा वॉलेट रूम में ही छुट गया था \ इन सब के कारण से हम और भी लेट हो रहे थे |

रेस्तरां में पहुँचा तो वहाँ इंडियन डिश —  छोले भठूरे देख कर मन खुश हो गया |  फिर तो उसका भरपूर आनंद उठाने लगे, तभी राजेश जी हमेशा की तरह आ धमके और उन्होंने कहा — गाडी कब से आप सब लोगों का इंतज़ार कर रहा है |

मैं मुस्कुराते हुए रुमाल से हाथ पोछता हुआ उनके साथ हो लिया | मैंने तो मन में ठान लिया था कि चाहे कितनी भी देर हो, खाने और घुमने का पूरा मजा लेंगे |

स्नो वर्ल्ड मलाशिया

गाड़ी में बैठते ही गाइड ने बताया कि  अभी हमलोग Genting Snow Park देखने जा रहे है | करीब  आधे घंटे की यात्रा के बाद हमलोग वहाँ पहुँच गए थे | टिकट लेने के बाद हमलोग Snow वर्ल्ड में इंटर कर गए |

वहाँ पर हम सभी को  अलग तरह का ड्रेस, हाथ गल्फ  और जूते पहनने को दिए | क्योंकि अन्दर बर्फ की दुनिया में जाना था | अन्दर का नजारा तो  गजब का था | वहाँ, अन्दर का तापमान -7 डिग्री था और चारो तरफ बर्फ ही बर्फ दिख रहा था |

इसीलिए सभी लोग को ठण्ड से बचने के लिए ही विशेष तरह के ड्रेस पहनने को दिए गए थे | ऐसा लगा रहा था कि हम कश्मीर की बर्फीली इलाके में भ्रमण कर रहे है | फर्श पर सिर्फ बर्फ ही बर्फ थे, हमलोग बहुत संभल कर चल रहे थे वर्ना फिसल कर गिरने का खतरा था | मैं तो एक बार फिसल कर गिरा भी था | लेकिन जो भी हो , एक नया  तरह का अनुनव हो रहा था |

एक जगह तो  बर्फ के घर बनाए गए थे तो दूसरी तरफ क्रिसमस tree लगा कर जंगल का लुक दिखया गया था | एक जगह लोग बर्फ पर वॉली बॉल खेल कर आनंद उठा रहे थे | विशेषकर बच्चे लोग को ज्यादा मज़ा आ रहा था | कुछ लोग बर्फ पर  स्लाइडिंग का मजा ले रहे थे | सच, गर्मी के दिनों में बर्फ वाले घर में ठंड का एहसास … भाई, पैसा वसूल |

Genting Skyward Theme PARK

इसके बाद अगला ठिकाना था Genting Skyway , इसे Genting Highlands Cable Car  भी कहते है | सचमुच यह साहसिक अनुभव था | यह मलेसिया का मुख्य आकर्षण था | यहाँ बोर्ड पर लिखा था – Skybridge is the world longest curve suspension bridge with single pylon built in 2004.. हमें यह बताया गया था कि डॉन मूवी का शूटिंग यहाँ हुआ था |

इस केबल कार में हमलोग को अलग तरह का अनुभव हो रहा था | केबिन के शीशे से बहुत की खुबसूरत नज़ारा दिख रहा था | चारों तरफ हरियाली और जंगल दिख रहे थे | कहीं कहीं पर ऊँचे ऊँचे बिलडिंग का खुबसूरत नज़ारा भी था | इतनी उचाई से नीचे देखने में डर भी लग रहा था |(क्रमशः )

मेरी विदेश यात्रा-7 ब्लॉग  हेतु  नीचे link पर click करे.

BE HAPPY….BE ACTIVE….BE FOCUSED….BE ALIVE…

If you enjoyed this post, please like, follow, share, and comments

Please follow the blog on social media … visit my website to click below.

        www.retiredkalam.com



Categories: Tour & Travel

17 replies

  1. वाह! बधाई हो। आप के सफर में हमें भी शामिल कर लिए। आपके लेखन सच में बहुत बढ़िया है कि अपने को इस सफर में होने का अनुभव हुआ।
    👍 Great 👏👏👏🎉

    Liked by 1 person

    • जी बहुत बहुत धन्यवाद |
      हमें ख़ुशी हुई कि आप भी हमारे साथ सफ़र कर रहे है |
      आप स्वस्थ रहें, प्रसन्न रहे |

      Liked by 1 person

  2. रोचक यात्रा वृतांत पढ़ कर अच्छा लगा।

    Liked by 1 person

  3. Very Interesting journey. Above all,presentation is nice.

    Liked by 1 person

  4. Very interesting travelogue. Your vivid and nice description brought alive memories of our trip to Singapore, Kuala Lumpur and Genting10 yeas ago

    Liked by 1 person

  5. Reblogged this on Retiredकलम and commented:

    Life never seems to be the way we want it.
    but we live it the best way we can. There is no perfect life,
    but we can fill it with perfect moments.

    Like

  6. The snow experience would be esp0ecially interesting in a tropical setting! Yes, I believe there are five royal families and they rotate on a five-year schedule till their time comes up to be the in-charge royals for five years. It is an injt3resting arrangement.

    Liked by 1 person

  7. injt3resting = interesting…

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: