भागते भुत की लंगोटी ही सही

सम्बन्ध बड़े नहीं होते है , उसे सँभालने वाले बड़े होते है /
सम्बन्ध बनाये रखिये , ज़िन्दगी खुशनुमा बनाये रखिये /

Retiredकलम

कभी कभी कुछ ऐसी मूर्खतापूर्ण घटना घट जाती है कि जब भी वो घटना याद आती है, तो अफ़सोस से ज्यादा अपनी मुर्खता पर हँसी आती है |

मैं बैंकर हूँ, और ऐसा माना जाता है कि बैंकर पैसा घर में न रख कर बैंक के अपने खाते में ही रखना पसंद करते है, क्योंकि उन्हें खाते से पैसा निकालने की सुविधा रहती है | उन दिनों ATM का उतना चलन नहीं था |

लेकिन बैंक वालों की गृहणियां आज भी अपने खर्चे से कुछ रूपये बचा कर, कभी किचन में चावल के डब्बे में और कभी आलमारी में छुपा कर रखती है | और कभी पैसों की अचानक बहुत ज़रुरत पड़ी तो उस समय वो छुपा कर रखा पैसे निकाल कर अपने पति को देती है और वाह-वाही लुटती है | मेरी पत्नी भी कुछ ऐसी है |

बात 2016 की है, जब अचानक सरकार ने घोषणा कर दी…

View original post 516 more words



Categories: Uncategorized

4 replies

  1. Bela mensagem….linda paisagem 💙

    Liked by 1 person

  2. Olá querido,
    Eu estou bem,
    E você ?

    Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: