#मंदिर के भगवान्#

यह सच है कि हम प्रभु को दु:ख और संकट में ही याद करते है। सुख में याद करना भूल जाते हैं। यदि सुख में भी प्रभु को हमेशा याद करें तो जीवन में दु:ख नहीं आएगा , ऐसा साधू संतो ने कहा है |

प्रभु पर हमेशा भरोषा रखना चाहिए और अच्छे कर्म करने चाहिए |

मंदिर के भगवान्

घर में एक मंदिर है ,

मंदिर में एक मूरत है

मूरत में एक सूरत है

सूरत में भगवान् है

सब के पालनहार है

सूरत सच्चा लगता है

बिगड़े काम जब बनता है ..

कभी वह झूठा लगता है

जब बना काम बिगड़ता है.

मंदिर तो वही पुरानी है

पर बदल गयी कहानी है

आज अगर  कुछ पाना है

मंदिर में भोग लगाना है

देख भगवान् मुस्काते है

जब मस्का उन्हें लगाते है

हम खुद तो रिश्वत लेते है

और मुफ्त का खाते पीते है

अपनी  मन्नत पूरी हो, तो  

भगवान् को रिश्वत देते है

लेने देने के चक्कर में

कभी प्रभु को  भूल जाते है

बुरी आदते,  बुरी बातें

उनको ही अपनाते है

ठोकर हमें जब लगता है

पाप का घड़ा छलकता है

 तब केवल हम पछताते है

प्रभु ही तब याद आते है.|

(विजय वर्मा)

“कोलकाता की पहली यात्रा ” ब्लॉग  हेतु  नीचे link पर click करे..

https://wp.me/pbyD2R-4oK

BE HAPPY….BE ACTIVE….BE FOCUSED….BE ALIVE…

If you enjoyed this post, please like, follow, share and comments

Please follow the blog on social media … visit my website to click below..

        www.retiredkalam.com



Categories: kavita

31 replies

  1. सर, बहुत सुंदर कविता है । मानव मन की अभिव्यक्ति हम लोग अपनी आस्था में भी विवेक हीन हैं ।

    Liked by 1 person

    • बहुत बहुत धन्यवाद डिअर |
      मुझे ऐसा लगता है कि अब भगवान् से भी प्रेम अब शर्तों पर करने लगे है |

      Like

  2. Com certeza devemos lembrar de agradecer sempre… momentos difíceis virão ,mas esses também fazem parte da vida, e são nossos grandes mestres! Namastê 🍀🙏

    Liked by 1 person

  3. Beautifully written Sir. You have such inspiring blog. I do understand hindi so it’s beautiful to read in hindi. We don’t get hindi novels in NZ but back home in Fiji, I use to read lots of hindi novels. Thank you for inspiring us💞

    Liked by 1 person

  4. Bahut sundar kavita. Bhagwan ka Naam lo.Mandir Jaao.Darshan Karo.

    Liked by 1 person

  5. Reblogged this on Retiredकलम and commented:

    You cannot control what others say, or how they treat you,
    but you are in control of what you choose to believe, tolerate & allow,
    Don’t settle for nothing less than what you deserve..

    Like

  6. Dil ek Mandir hai.Mandir me Bhagawan hai. Shradha hi sab kuchh hai.Kavita acchi hai.Sabse sunder hai video clip.Soonkar mann pabitra Hua.

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: