ये कैसी मोहब्बत ? ( 1 )

जीवन के सभी निर्णय हमारे नहीं होते ,
कुछ निर्णय प्रकृति के,और कुछ समय के अधीन होते है …
हर हाल में खुश रहें …मस्त रहें…

Retiredकलम

वैसे हम सब बचपन से कहानियाँ सुन कर बड़े हुए है | बचपन में सुनी कुछ कहानियाँ आज भी याद है क्योंकि वो कहानी हमारे मन पर एक गहरी छाप छोड़ चुकी है |

आज भी मैंने एक कहानी पढ़ी थी, जिसे पढ़ कर मन में अनेक तरह के विचार उठने लगे और हम सोचने लगे कि हम कैसी समाज की रचना करने जा रहे है | आज के दौड़ में परिवार की परिभाषा ही बदलती जा रही है |

आज के इस दौर में , लड़की – लड़की के प्रति आकर्षित हो जाती है, उसी तरह लड़का – लड़का के प्रति आकर्षित हो जाता है और इस हद तक कि उसी के साथ शादी कर साथ रहने का ख्वाब देखने लगता है | हालाँकि अभी हमारे समाज में इसे मान्यता नहीं दी जाती है , लेकिन सवाल है कि हमारा सोच किधर जा रहा है | प्रेम की परिभाषा…

View original post 996 more words



Categories: Uncategorized

6 replies

  1. ये वक्त की नजाकत है,
    आधुनिक सोच की शराफत है । सर बहुत कुछ ऐसा हो रहा है जिसे हम सोच नहीं सकते ।

    Liked by 1 person

  2. अति सुन्दर सोच की प्रस्तुति है ।

    Liked by 1 person

    • बहुत बहुत धन्यवाद डिअर ,
      आप पूरी कहानी ज़रूर पढ़े, हर एपिसोड के नीचे link दिया हुआ है |

      Like

  3. बहुत खूब, पांच एपिसोड बहुत अच्छी लिखी गयी है, ऐसा लगा उपन्यास पढ़ रहा हूँ!

    Liked by 1 person

    • पूरी कहानी पढने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद |
      आपलोगों से ही हौसला मिलता है | आप खुश रहें …मस्त रहें |

      Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: