# लालपरी  का क्या कसूर #

The elimination diet :
Remove anger, regret, worry. resentment, guilt & blame.
Then watch your health and life improve…

Retiredकलम

बात उन दिनों की है ,जब मेरी कोलकाता में नयी नयी पोस्टिंग हुई थी और मैं हाथी बगान शाखा का ब्रांच मेनेजर था | यहाँ मुझे नए नए तरह के अनुभव मिल रहे थे | चूँकि बड़ी शाखा थी अतः यहाँ कुछ बड़े कस्टमर के नाज़ नखरे भी झेलने पड़ते थे | हेड ऑफिस से भी तरह तरह के निर्देश मिलते रहते थे जिसे पालन करना होता था |

एक दिन हेड ऑफिस से फ़ोन आया कि बड़े साहब कोलकाता पधार रहे है, वे एक दिन वहाँ ठहरेंगे और वो हमारी शाखा भी visit कर सकते है | अब तो मुझे इसके लिए तैयारी करनी थी | मैंने बैंकिंग समय के बाद शाम को एक स्टाफ मीटिंग की और इस विषय पर चर्चा हुई |

ब्रांच की सफाई और अन्य कार्यों पर विचार विमर्श हुआ | तभी एक स्टाफ के कहा – साहब कुछ लेते भी है | अगर उनका…

View original post 774 more words



Categories: Uncategorized

4 replies

  1. बेहद मनोरंजक अनुभव शेयर किया है आपने, सच बहुत अच्छा पोस्ट है सर ।

    Liked by 2 people

Trackbacks

  1. # लालपरी  का क्या कसूर # – !@#$%^&*

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: