# ऊँट की सवारी #

Surround yourself with people who know your worth.
You don’t need too many people to be happy…
just a few real ones who appreciate you for
exactly who you are…
Stay happy …Stay connected..

Retiredकलम

हमारी पोस्टिंग उन दिनों शिवगंज शाखा में थी | यह एग्रीकल्चर डेवलपमेंट शाखा थी यानी हमारी शाखा से कृषि ऋण ही ज्यादा दिए जाते थे | इसलिए कृषि ऋण तीन जिलों के किसानो को दिया हुआ था - सिरोही, पाली और जालोर |

मुझे इंस्पेक्शन में काफी दूर – दूर जाना पड़ता था | हमारे पास शाखा में एक जीप थी उसी से सारे इलाके में घूमते थे | जालोर जिले का अधिकांश हिस्सा रेत से भरा हुआ रेगिस्तान था | रास्ते में कभी कभी रेत भरी आंधी का सामना हो जाया करता था | जिसके कारण हमारे चेहरे और शरीर में रेत भर जाते थे | हालत ऐसी होती थी कि शाम को इंस्पेक्शन से वापस घर आता था मैं शीशे में अपना चेहरा भी नहीं पहचान पाता था | सचमुच नित नए अनुभव प्राप्त होते रहते थे |

उन्ही दिनों की एक वाकया मुझे याद आ रहा है…

View original post 1,027 more words



Categories: Uncategorized

8 replies

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: