# कौन राजा कौन भिखारी #

Life is not about being rich, being popular, being highly
educated or being perfect…It is about real, humble and kind…

Retiredकलम

गीता में कहा गया है कि तुम कर्म करो फल की चिंता मत करो | अगर हमारा सारा ध्यान फल की तरफ लगा रहेगा तो कर्म पर ध्यान केन्द्रित करना मुश्किल ही जायेगा |

हम सबों को अपने काम पर ध्यान लगाना चाहिए , सफलता खुद ब खुद मिलेगी | लेकिन सच्चाई इसके उलट होता है, हम कोई भी काम करने से पहले दस बार सोचते है कि अगर मैं असफल हो गया तो लोग क्या कहेंगे | और इसी डर से हमें जो कार्य करना चाहिए उसके बारे में बस सोचते ही रह जाते है एक्शन नहीं ले पाते है |

मन में हमेशा एक लालच हडकंप मचाये रहता है | हमेशा कुछ न कुछ पाने की कोशिश में लगा रहता है | जो हमारे पास है उस से हम संतुष्टि नहीं होते है | इसलिए हम हमेशा दुखी नज़र आते है |

इसी सन्दर्भ में एक कहानी प्रस्तुत…

View original post 913 more words



Categories: Uncategorized

2 replies

  1. Nice story. Great learning, one can have from it.

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: