# एक लघु कथा #

I have not seen anyone dying of laughter ,
But I know millions who are dyeing just because
they are not laughing…

Retiredकलम

लघु कथा

फैक्ट्री में ड्यूटी का शिफ्ट समाप्त हो चूका था | राजेश को अपने अगले साथी को मशीन का चार्ज देते हुए रात के करीब साढ़े बारह बज चुके थे , हालाँकि राजेश की शिफ्ट रात के बारह बजे ही समाप्त हो गई थी |

उसने अपनी खटारा मोटरसाइकिल को स्टार्ट कर अपने घर की ओर चल पड़ा | हर 15 दिनों पर यह शिफ्ट बदल जाता है, लेकिन यह रात वाला शिफ्ट दुखदाई होता है |

इन्ही सब बातों को सोचता , मोहन अपने बाइक पर बैठा चला आ रहा था | रात का घोर अँधेरा था | फैक्ट्री से घर की दुरी करीब 5 किलोमीटर थी लेकिन सेक्टर -2 का इलाका काफी सुनसान रहता है |

इस जाड़े के मौसम में न तो कोई आदमी और न ही कोई गाडी ही दीख रहा था | पूरी की पूरी सड़क सुनसान थी |

जैसे ही राजेश रसियन हॉस्टल…

View original post 682 more words



Categories: Uncategorized

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: