# कैसी है ज़िन्दगी #

एक खुशहाल जीवन जीने के लिए यह स्वीकार करना ज़रूरी है कि
जो कुछ भी हमारे पास है , वो ही सबसे अच्छा है …
खुश रहें …मस्त रहें …

Retiredकलम

सच पूछा जाए तो हम अपनी ज़िंदगी को जीना ही भूल गए है । हम अपने रोजमर्रा के काम और दिन प्रतिदिन की भाग दौड़ में इतने व्यस्त हो गए है कि अपनी ज़िंदगी को ठीक से कैसे जिए ये ही भूल गए है |

ज़िन्दगी बहुत खुबसूरत है . बहुत कीमती भी है , इसे न सिर्फ जीना चाहिए बल्कि महसूस भी करना चाहिए …

यह कविता ज़िंदगी को सही ढंग से जीने और उसे समझने का एक प्रयास है।

मेरी ज़िन्दगी ..

जाने कैसी है ये ज़िन्दगी ,

एक इच्छा जब पूर्ण होती है ..

तो फिर नयी इच्छाएं जन्म लेती है

यही तो है ज़िन्दगी …|

सुख की चाह में

संघर्ष करती ये ज़िन्दगी

मात्र खुद के लिए

समय न निकाल पाती ये ज़िन्दगी

अटपटी है , अनोखी है

अनबुझ पहेली है ज़िन्दगी

जैसी भी है पर है तो

मेरी अपनी दुलारी ये ज़िन्दगी |

( विजय…

View original post 42 more words



Categories: Uncategorized

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: