# मैं ज़वान हो रहा हूँ #

Relationship is the finest bond between two humans,
It matures with time & passion, it is maintained through
Connectivity , trust, care always allow it to blossom…

Retiredकलम

आज सुबह – सुबह पार्क में टहलते हुए मुखिया जी मिल गए | वे किसी गाँव के मुखिया नहीं है बल्कि उनका नाम ही मुखिया जी है और वे मेरे अच्छे मित्र है |

वे मुझे देखते ही बोले.. क्या वर्माजी, आप तो दिन ब दिन जवान हो रहे है |

अपनी जवानी का राज ज़रा हमें भी बताइए |

मैं तो इस कोरोना काल में दिन – ब – दिन छुहारा हो रहा हूँ |

उनकी बातें सुनकर मुझे हँसी आ गई .. और मैंने भी जबाब में कहा … जी सही है,… अब मैं फिर से जवान हो रहा हूँ |

क्योंकि मैं अपने मन का कहा मान वो सब कर रहा हूँ, जिससे मुझे ख़ुशी मिलती है और मैं स्वस्थ रहने की कोशिश करता हूँ |

अब मैं अपने चेहरे के झुर्रियों को नहीं छिपाता हूँ | अपने सफ़ेद बाल काले नहीं करता हूँ |

मैंने दुःख…

View original post 227 more words



Categories: Uncategorized

8 replies

  1. Quite true, excellent post Vermavkv

    Liked by 1 person

  2. Excellent composition, especially the piece “Relationship matures with time & passion, it is maintained through
    Connectivity, trust, care”.

    Liked by 1 person

  3. बहुत अच्छा।

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: