# कोरोना वाली चुड़ैल #- 4

हर दिन अच्छा नहीं हो सकता है , लेकिन
हर दिन में कुछ अच्छा जरूर होता है …

Retiredकलम

ठाकुर साहब अपने बेटे को झट से गोद में उठा लिया और उसे दिलासा देते हुए कहा – वो तुम्हारी माँ नहीं है |

लेकिन भोलू बार बार कह रहा था,– वही मेरी माँ है | मेरी माँ को बचा लो | मैं माँ के बिना नहीं रह सकता |

ठाकुर साहब को कुछ समझ नहीं आ रहा था कि एक तरफ भोलू कह रहा था कि वह उसकी माँ यानी ठकुराईन है , जब कि कल ही उसे अग्नि को समर्पित किया गया था |

उन्हें अभी भी लग रहा था कि वह कोई चुड़ैल ही है |

गाँव वाले भी ठाकुर साहब को यकीन दिलाने में लगे थे कि वह कोई चुड़ैल ही है |

कभी कभी जब आत्मा भटकती है तो चुड़ैल का रूप ले लेती है |

तभी भोलू ने कहा,– ‘आप समीप जाकर पहचानिए पिता जी | तब आप को पता चल जायेगा कि यह…

View original post 750 more words



Categories: Uncategorized

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: