# भावभीनी श्रद्धांजलि #

दोस्तों, ,

मैं पिछले एक साप्ताह  से ठीक से सो नहीं पाया हूँ, क्योंकि एक ऐसी घटना हमारे साथ घटित हुई है जिससे मैं उबर नहीं पा रहा हूँ | इसलिए वो कुछ बातें आप के साथ शेयर करना चाहता हूँ ताकि हमारे दुखी मन को थोड़ा सुकून मिल  सके |

मैं अपने ब्लॉग के माध्यम से आप सब दोस्तों को कठिन परिस्थिति में शांत रहने और अपने मन को स्थिर रखने की सलाह देता रहा हूँ .. पर आज मुझे यह महसूस हो रहा है कि उस पर अमल करना कितना मुश्किल है | मैं लाख कोशिस करता हूँ फिर भी मन उस घटना को सोच कर बेचैन हो ही जाता है |

एक सप्ताह  पहले की बात है |  मैं सपरिवार कोलकाता से पटना अपने पुराने घर गया था | वहां हमलोगों ने अपने नए घर के गृह प्रवेश का कार्यक्रम तय कर रखा था |

मेरी पत्नी की  छोटी  बहन यानी मेरी साली को भी हमलोगों ने आमंत्रित किया था | वो हम लोगों के परिवार से बहुत घुली मिली थी | अतः गृह प्रवेश में सम्मलित होने के लिए वह मुंबई से पटना आई थी | हालांकि उसके पति को छुट्टी नहीं मिल रही थी, फिर भी वह अकेली ही अपनी बेटी के साथ हवाई जहाज से चलकर हम लोग के पास पटना आई थी | गृह प्रवेश के  कार्यक्रम को सही ढंग से आयोजित करने के लिए वह प्रमुख भूमिका निभा रही थी |

यह एक ऐसा मौका था जब कोविद (covid) के कारण बहुत दिनों के बाद हम लोग को एकत्रित होने का मौका मिला था | हमलोग परिवार और रिश्ते  नाते  आपस में खुशियां शेयर कर रहे थे | ऐसा मौका बहुत कम ही  मिलता है कि व्यस्त जीवन में थोडा समय निकाल कर सभी लोग एकत्रित हो |

मेरे आग्रह पर बहुत सारे रिश्तेदार  आये हुए थे | घर में खुशियों का माहौल था, क्योंकि गृह प्रवेश की तैयारियां सभी लोग मिल कर कर रहे थे  |

गृह प्रवेश के ठीक एक दिन पहले हम लोगों ने अपने नए फ्लैट में जाकर  उसका साफ सफाई किया |
फुल माला से सजाया गया और बाकी के सजावट का काम एक दिन पूर्व ही  पूर्ण कर लिया  ताकी गृह प्रवेश के दिन पूजा के लिए पूरा समय दिया जा  सके |  हम लोग बहुत खुश थे | वहाँ का काम समाप्त कर हम लोग खुशी खुशी नए फ्लैट से वापस अपने ठिकाने पर आ गए |

रात के करीब 9:00 बज रहे थे और  हम लोगों ने एक साथ मिलकर खाना खाया | सभी लोग एक दुसरे का साथ पाकर ख़ुशी का अनुभव कर रहे थे |

कुछ लोग खाना खा कर वापस अपने घर चले गए | उनलोगों के जाने के 15 मिनट ही बीते थे कि हमारी साली को अचानक घबराहट और बेचैनी सी महसूस होने लगी और श्वास भी रुकने लगा |  मैंने सोचा पेट में गैस के कारण हो रहा है | हमलोग दवा लाने की सोच ही रहे थे कि  मेरी साली ने इतना ही कहा – डॉक्टर को ज़ल्दी बुला दीजिये , मुझे बहुत घबराहट हो रही है |  इतना कह कर वह शांत  हो गयी |

मैंने समझा शायद बेहोश हो गयी है | हमलोगों ने १० मिनट  में ही अपनी कार से  उन्हें पास के  हॉस्पिटल के इमरजेंसी में ले गए |  वहाँ डॉ ने जांच कर कहा — इन्हें हार्ट अटैक  आया था जिसके कारण अब ये इस दुनिया में नहीं रही |

हमलोगों को कुछ समझ में नहीं आ रहा था कि ऐसा कैसे हो सकता है ? उनका रेगुलर चेक अप कराया जाता था और सभी कुछ नार्मल था | यहाँ तक कि अभी दस मिनट पहले तक वो हंस बोल रही थी |

 मेरे मन बार-बार यह प्रश्न आ रहा था  कि उसे जब किसी तरह का कोई रोग नहीं था, वह बिल्कुल स्वस्थ थी और दस मिनट पहले तक काफी  एक्टिव होकर हर कार्य में भाग ले रही थी |  अचानक ऐसा क्या हुआ  जो वह इस दुनिया से चली गयी ?

मेरी समझ में कुछ नहीं आ रहा था | मैं बिलकुल हक्का बक्का था , जैसे दिमाग ने काम करना बंद कर दिया हो  | अब मैं खुद को संभालूं या अपने परिवार को | अब से १० घंटा बाद ही गृह  प्रवेश का कार्यक्रम आयोजित होने वाला था |

कुछ देर आँखे बंद किये अपने मन को शांत किया | अपने को संभाल रहा था क्योंकि घर में बहुत सारे मेहमान आए हुए थे /  गृह प्रवेश का कार्यक्रम रद्द करना था | मृतिका के पति को भी खबर किया गया और मुंबई से उनके आने का इंतज़ार करना था | रात भर सभी लोग लाश के पास बैठ कर सुबह होने का इंतज़ार कर रहे थे | बहुत ही भयावह रात थी |

यह एक विडंबना ही है कि जहाँ मुझे गृह प्रवेश का कार्यक्रम करना था वहाँ मुझे उसकी अंतिम क्रिया का कार्यक्रम आयोजित करना पड़ा |

मुझे बार-बार यही बात सताती है कि अगर मैं उसे मुंबई से यहां नहीं बुलाया होता तो  शायद उसे हार्ट अटैक नहीं आता और वह जिंदा होती |

हम सभी घर परिवार वालों के लिए यह दुःख पहाड़ जैसा था क्योंकि वह स्वभाव से तो अच्छी थी ही साथ ही हमारे घर परिवार के लिए सबको जोड़ कर रखती थी | और सबकी चिंता करने वाली हम सबों के बीच एक कड़ी के रूप में थी जिसके टूट जाने से हमारे घर परिवार के लोग एक बिखराव सा महसूस कर रहे है |

सबको लग रहा है कि उनका एक शुभचिंतक उसे बीच भंवर में छोड़ कर इस दुनिया से विदा हो गया है | वह मुंबई में रह कर उसके दो बच्चे और पति के साथ सुखमय जीवन बिता रही थी | यह सब बातें सोच कर मैं और भी व्यथित हो जाता हूँ और मेरे आँखों से नींद गायब हो जाती है |–

अब तो भगवान् से मेरी यही प्रार्थना है कि दिवंगत आत्मा को शांति प्रदान करें ,  और उनके  परिजनों को दुःख  की घडी में उसे सहने की शक्ति दें ……

ॐ शांति ॐ ..



Categories: Uncategorized

43 replies

  1. Very sad . 🙏

    Liked by 1 person

  2. ओमशांति, एक पात्र जो अपना पार्ट रहा था उसका पार्ट खत्म होने पर वह चला गया, आप निश्चित हो जाईए की वह अपने गंतव्य पर सही रुप से पहुंचे हैं।

    Liked by 1 person

  3. नमन एवं श्रद्धांजलि।

    Liked by 1 person

  4. Rest in peace chunni Bua….I know you are with us forever…we miss you☹️

    Liked by 1 person

  5. May God bless the departed soul and give strength & patience to the family.

    Liked by 1 person

  6. Kisi apne ko khone ka dukh kya hota hai mein achchi tarah jaanta hoon. Hum logo mein agar kisi ki mrutya hoti hai to hum ek doosre ko humdardi jataate hue yahi kehte hai ke “We belong to Allah and to Him shall we return to Him” Mein bas itna hi kahunga ke Eishwar Allah ap ko aur ap ke ghar walon ko sabar ataa kare.

    Liked by 1 person

  7. अति दुखदाई घटना। जीवन पानी का बुलबुला है हर क्षण खतरे से भरा है। भगवान उनकी आत्मा को परम शान्ति प्रदान करें और पूरे परिवार को इस दर्द से उबरने की शक्ति।ओम् शान्ति!
    :– मोहन”मधुर”

    Liked by 1 person

  8. बहुत ही दुखद। भावभीनी श्रद्धांजलि। ओम शांति ओम।

    Liked by 1 person

  9. Very sad news. May God give strength to the family to bear this loss. Om Shanti

    Liked by 1 person

  10. अत्यंत दुखद। यह शरीर वाकई क्षण भंगुर और नश्वर है। इस दुख की घड़ी में हम आपके साथ हैं। भावभीनी श्रद्धांजलि। शत शत नमन 🙏🙏 कृपया अपना और अपने परिवार का ख्याल रखें।

    Liked by 1 person

  11. बहुत ही दुखद घटना ,

    Liked by 1 person

  12. बहुत दुख की बात है। ओम शांति 🙏

    Liked by 1 person

  13. Very sad news. May the departed soul rest in eternal peace. Om Shanti. My deepest condolences to the bereaved family. 🙏🙏🙏

    Liked by 1 person

  14. I am truly sorry for your loss. May She lives blissfully in the heaven with God. 😢

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: