#नल और दमयंती की प्रेम कहानी#-1

May your day be filled with lots of moments
of joy and thankfulness …
Be happy….Be healthy…Be alive…

Retiredकलम

हर शादीशुदा व्यक्ति की अपनी पत्नी से कुछ अपेक्षाएं होती हैं | ठीक उसी तरह जिस तरह हर एक पत्नी की अपने पति से कुछ अपेक्षा होती है |

लेकिन आज कोरोनाकाल के बदलते दौर में मधुर रिश्तों का आभाव हो गया है | अक्सर देखा जाता है कि हम अपनी गलतियाँ एक दूसरे पर थोपने का प्रयास करते है |

आज रिश्तों का डोर तो इतना कमजोर हो गया है कि हल्की-फुल्की बात पर भी लोग अलग होने का फैसला लेने में संकोच नहीं करते है |

और यह भी सत्य है कि सब यही सोचते है कि हमारा दुःख दूसरों के दुःख से बड़ा है |

इसी के सन्दर्भ में मुझे एक प्रेम कहानी पढने का मौका मिला, जिसमे पत्नी पति के रिश्तो की अहमियत बताया गया है और जो हमारे लिए एक शिक्षा भी है |

आइए आज हम महाभारत से उद्धरित उस नल – दमयंती की…

View original post 1,891 more words



Categories: Uncategorized

4 replies

  1. बहुत सुंदर लिखा है आपने सर, बेहद प्रेरक लगी, मैंने नल दमयंती की कथा सुनी थी बचपन में..

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: