# बचपन का शहर # ..

The past is already gone, the future is not yet here ,
there is only one moment for you to live…

Retiredकलम

बात तो ५० साल पुरानी है, लेकिन कुछ यादे ऐसी होती है जो बस दिलो दिमाग में बैठ जाती है हमेशा के लिए |  ऐसी ही कुछ बचपन से जुड़ी यादे है जिसे कागज़ पर बिखेर कर मन हल्का करना चाहता हूँ..आज मैं वहाँ आया हूँ , जहाँ मेरा पूरा बचपन बिता था .एक छोटा सा क़स्बा, नाम है खगौल |  

आज ५० साल के बाद  मैं उस जगह को अकेला मन में एक उत्सुकता लिए जा रहा था या यूँ कहे हमारी बचपन की यादें खिंच कर ले जा रही थी | सच,  मेरे मन में तरह तरह के सवाल उठ रहे थे | मैं इसी उधेर बुन में ट्रेन से रेलवे स्टेशन दानापुर पहुँचा और अपनी मंजिल की  ओर चल दिया | कुछ दूर चलने के बाद मैं अपने पुराने मोहल्ले में पहुँच गया |

मैं वो संकरी गली ढूंढने लगा जिसमे हमारा घर हुआ करता था…

View original post 616 more words



Categories: Uncategorized

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: