# किसान की पगड़ी#

रिश्ते की कला एक वाद्ययंत्र की तरह है ,
पहले आपको नियमों से खेलना सीखना चाहिए ,
फिर आपको नियमों को भूल कर दिल से खेलना चाहिए /

Retiredकलम

Source: Google.com

राजस्थान में “रेवदर” सिरोही जिला का एक छोटा सा क़स्बा,और हमारी बैंक की पहली पोस्टिंग थी | मैं शहरो में पला बढ़ा , पहली बार ग्रामीण ब्रांच होने के कारण गाँव में रहने का मौका मिला | मैं ड्यूटी ज्वाइन करने के बाद बहुत दुखी रहता था | लेकिन इतना मालूम चला कि मेरा कार्य का प्रदर्शन अच्छा रहा तो कोई अच्छी शाखा में शिफ्ट कर दिया जा सकता है |

यहाँ अकाल की स्थिति  भी थी जिसके  कारण पीने  के पानी की भी समस्या थी | और साथ साथ उन दिनों ऋण उगाही की भी समस्या थी | वर्षा नहीं होने के कारण फसल बर्बाद हो चुकी थी और मुझसे कहा गया कि गाँव – गाँव जा कर  ऋण की रिकवरी करनी है |

गरीब किसान बेचारे अपनी रोज़ी रोटी के लिए सरकारी मजदूरी पर आश्रित थे | मैं जब भी रिकवरी  में किसानो के घर जाता…

View original post 857 more words



Categories: Uncategorized

6 replies

  1. अति उत्तम प्रयास!!

    Liked by 1 person

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: