# पुनर्जन्म की घटना # -2

सचमुच पांच साल की बच्ची शांति के द्वारा कही गयी पिछले जनम की बातें सुन कर सभी लोग हैरान थे , लेकिन सब कुछ सच लगते हुए भी विश्वास करना कठिन हो रहा था |

रंग बहादुर की मुसीबतें बढती जा रही थी , क्योकि इन सब चीजों पर सहसा विश्वास करना मुमकिन नहीं था | फिर उन्होंने  उसका झाड़ – फुक भी कराया | लेकिन शांति  मथुरा जाने की जिद पर अडिग रही |

उसने  तो इतना तक कहा कि मेरे घर के आँगन में एक कुआँ है और घर के सामने एक मंदिर है | मैंने अपने कमरे में अपने गुल्लक में १२५ रूपये जमा कर रखे है | मेरा पति लम्बा  और गोरा  है, उसके बाएं गाल पर एक मस्सा है | वह चश्मा लगता है | वह अपने पति के बारे में बहुत सारी बातें बताई पर उसका नाम नहीं बताती थी |

तंग आकर उसके पिता ने कहा — ठीक है, हम वो तुम्हारी बातें मान भी लेंगे अगर  तुम अपने पति का नाम बताओ ?

जब घर वाले उनके पति का नाम पूछते  तो वो शरमा जाती लेकिन नाम नहीं बताती | शायद ज़माने से रित चली आ रही है कि औरत अपने  पति का नाम नहीं लेती है |  वही कारण होगा कि वो पति का नाम नहीं बता रही थी |

रंग बहादुर इन सब घटना से परेशान थे तभी उनके दूर के रिश्तेदार उनके घर आये | वे दिल्ली में ही थोड़ी दूर पर रहते थे | उनका नाम विशन चंद था और वो एक स्कूल में पढ़ाते  थे | वो बच्चो के मानसिकता से वाकिफ थे | उनसे रंग बहादुर ने बच्ची शांति देवी के बारे में चर्चा कि तो उन्हें भी सुनकर आश्चर्य  हुआ |

वे भी उस बच्ची को अकेले में ले जा कर पूछ ताछ करने लगे | उन्होंने  उससे कहा – अगर तुम ठीक ठीक अपने पति का नाम बता दोगी  तो हम तुम्हे वहाँ मथुरा ले जा सकते है |

मथुरा जाने के लालच में शांति ने अपने पति का नाम बता दिया | उसने कहा – मेरे पति का नाम केदार नाथ चौबे है  और मुथुरा में सब लोग मुझे  चौबाइन कह कर बुलाते थे  |

उसने  यह भी कहा कि ठीक घर के सामने ही द्वारिकाधीश मंदिर है, और कुछ दुरी पर ही मेरा दूकान भी  है — चौबे स्टोर |

विशन चंद ने एक चिट्टी केदार नाथ चौबे के नाम से लिखी , जिसमे उन्होंने पूरी घटना का वर्णन किया और यह भी लिखा कि यह बच्ची  आपको अपना  पति  बताती है ? चिट्ठी को शांति के बताये पते पर लिख कर पोस्ट कर दिया |

जब केदार नाथ चौबे ने  चिट्ठी में लिखी सारी बातें पढ़ी  तो वे  हैरान हो जाते है, क्योंकि उसमे लिखी सारी जानकारी बिलकुल सच थी |

लेकिन लुगदी के मरने के बाद चौबे जी ने तीसरी शादी कर ली थी और ऐसे घटना के बारे में जान कर  उन्हें कुछ समझ नहीं आ रहा था कि अब क्या करे ?

फिर वे घर वालों से विचार विमर्श कर अपने छोटे  भाई  को वहाँ सच्चाई जानने के लिए भेजते है |

उनका भाई कांजी लाल मथुरा से दिल्ली आते है और विशन चंद से भेंट करते है | बिशन चंद उसे लेकर शांति  के पास आते है और उससे कहते है — शांति , देखो तुम्हारा पति केदार नाथ चौबे आ गया है, क्या तुम इन्हें पहचानती हो ?

कांजी लाल को देख कर वो शर्मा जाती है और धीरे से कहती है ये मेरे पति नहीं है, ये तो उनके छोटे भाई है | उसकी बातें सुन कर सारे घर वाले चौक उठते है |

कांजी लाल भी हैरान थे क्योकि शांति ने जो कुछ भी घर के बारे में और वहाँ के लोगों के बारे में बताया वो बिलकुल सही था | उसे तो लगा यह लुगदी ही है |

वो वापस मथुरा आ कर हकीकत बयां करते है तो घर के सभी लोग के साथ साथ चौबे जी भी हैरान हो जाते है |

केदार नाथ चौबे दुसरे दिन ही अपनी माँ और बेटे नवनीत को लेकर शांति के घर पहुँच जाते है| फिर विशन चंद केदार नाथ चौबे को शांति के सामने खड़ा कर कहते है …ये है तुम्हारे पति के बड़े भाई , क्या तुम इन्हें पहचानती हो ?

शांति देवी केदार नाथ को देखते ही शरमा  कर नज़रें नीची कर लेती है और कहती है , यही हमारे पति है, यही केदार नाथ चौबे है और मैं  इनकी चौबाइन | फिर उनकी माँ को देख कर कहती है कि ये मेरी सास है, इतना कह कर उनके पैर भी छूतीं  है |

नवनीत की ओर देख कर कहती है कि यह मेरा बेटा है | यह सब देख कर वहाँ उपस्थित  सभी लोग आश्चर्यचकित हो जाते  है | फिर चौबे जी ने शांति से सवाल किया … इस बच्चे के जन्म के बाद तुम ने इसे  एक बार देखा होगा और यह  बच्चा  अब १० साल का हो गया है, फिर तुमने इसे  कैसे पहचाना ?

मैं माँ हूँ इस बच्चे का, माँ हजारो बच्चो में अपने बच्चे को पहचान लेगी ? बच्चा १० साल का और शांति खुद 7 साल की और उसके मुँह से इस तरह की बारें सुन कर सभी लोग भौचक्के  हो उसे बस देखते रहते है |

तब चौबे जी शांति को अकेले कमरे में ले जाते है और वो सब बाते पूछते है जो उनके और लुगदी के बीच  हुई थी | शांति ने उन सभी सवालों का सही जबाब दिया और इतना ही नहीं , शांति ने चौबे जी से ही प्रश्न कर दिया…आपने तो मुझसे वादा  किया था कि आप कभी तीसरी शादी नहीं करेंगे , फिर आपने वादा  क्यों तोडा ?

चौबे जी को कोई जबाब देते नहीं बना, क्योंकि  शांति का सवाल वाजिब था |

खैर रात होने वाली थी इसलिए खाना खा कर वे लोग  अपने घर मथुरा जाने को तैयार होते है तो शांति भी साथ जाने की जिद करने लगती है | किसी तरह उसे समझा बुझा कर चौबे जी अपनी माँ और बेटे के साथ मथुरा लौट आते है |

मथुरा आने पर यह  कहानी वहाँ चर्चा का विषय बन जाती है और एक समाचार पत्र में प्रकाशित हो जाती है |  फिर इस कहानी को  देश ही नहीं सारी दुनिया में पुनर्जन्म की कहानी के रूप में प्रस्तुत की जाती है |

संयोग से यह कहानी उस वक़्त महात्मा गाँधी के कानो तक भी पहुँचती है | इसके बाद गाँधी जी ने शांति को अपने आश्रम में बुलवाया  और उसके मुँह से पूरी कहानी सुनते है  तो उन्हें भी आश्चर्य होता है |

उन्होंने भी अपने स्तर से इसकी जांच पड़ताल करवाई और  कुछ लोगों के साथ शांति को मथुरा भेजने का फैसला किया गया  | ट्रेन द्वारा कुछ लोगो के साथ शांति दिल्ली से मथुरा स्टेशन आती है |   स्टेशन पर एक  तांगा किया जाता है और शांति को उस घर तक पहुँचने के रास्ते बतलाने को कहा गया |

शांति ने बिलकुल सही रास्ता बताया और तांगा ठीक चौबे जी के दरवाजे पर खड़ी हो गयी | हालाँकि शांति पैदा होने के बाद पहली बार मथुरा आई थी | घर में पहुँच कर सभी सदस्यों की सही सही पहचान कर देती है |

फिर घर के दूसरी मंजिल पर पहुँचती है जहाँ लुगदी के रूप में रहती थी | वहाँ अपना पुराना गुल्लक भी पहचान लेती है , जिसमे १२५ रूपये आज भी जमा थे | इस तरह काफी छान बीन करने के बाद सभी लोग  इस नतीजे पर पहुंचे कि शांति देवी की पुनर्जन्म  वाली बात सही है |

हालाँकि शांति को लेकर उसके घर वाले  वापस दिल्ली आ जाते है क्योकि चौबे जी का अपना पूरा परिवार था उनकी तीसरी पत्नी थी | वहाँ सात साल  की बच्ची को बुजुर्ग  चौबे जी की पत्नी के रूप  में रहना संभव नहीं था .|

समय बीतता है और शांति बड़ी हो जाती है |  उसे महसूस होता है कि मथुरा में अपने ससुराल में रहना संभव नहीं है , फिर भी वह चौबे जी को ही अपना पति मानती है |

लोगों ने उसे शादी कर अपना घर बसाने को भी कहा | लेकिन वह तैयार न हुई क्योकि किसी और को पति मानना उसका दिल गवारा ही नहीं किया | उसके बाद शांति अपने ज़िन्दगी को समाज सेवा और पूजा पाठ में लगा दिया  और आजीवन शादी नहीं की |

अंत में ६५ साल की उम्र में उसने  अपने शरीर का त्याग किया फिर उसके अगले जन्म के बारे में  और कोई कहानी सामने नहीं आई |

अंत में यह आप पर निर्भर है कि आप इस पुनर्जन्म वाली कहानी किस रूप में लेते है,  इस पर विश्वास करते है या नहीं….. आप अपने विचार ज़रूर लिखें |

कैसी है ज़िन्दगी ब्लॉग  हेतु  नीचे link पर click करे..

https://wp.me/pbyD2R-3Yh

BE HAPPY….BE ACTIVE….BE FOCUSED….BE ALIVE…

If you enjoyed this post, please like, follow, share and comments

Please follow the blog on social media … visit my website to click below..

        www.retiredkalam.com



Categories: story

29 replies

  1. अद्भुत !!

    Liked by 1 person

  2. Amazing but i believe in rebirth.

    Liked by 1 person

  3. कैसी है जिन्दगी और अन्य कवितायें बहुत सुन्दर हैं।आपका ब्लाॅग अद्भुत है।

    Liked by 1 person

Trackbacks

  1. # पुनर्जन्म की घटना # -2 – Nelsapy

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: