# जागते रहो #

वैसे ये जिंदगानी भी किसी नदी की तरह होती है
इसके एक किनारे पर सपने तो दूजे पे हकीकत होती है |

Retiredकलम

मैं ब्लॉग लिखने बैठा ही था कि आज कुछ मित्रों का मेरे पिछले ब्लॉग पर प्रतिक्रिया पढ़ा | उन्होंने लिखा.. तुम्हारा blog पढ़कर मेरी आँखे नम हो गई | वैसे मरना तो सब को है एक दिन, लेकिन वो दिन पता नहीं होता, इसलिए हम हर दिन को जश्न के रूप में देखना चाहते है जैसे मेरे ज़िन्दगी का आखरी दिन हो |

आज कल lockdown का ऐसा माहौल हो गया है कि हम पालतू जानवरों की  तरह घरो में कैद है | उठने बैठने, घुमने फिरने और  बात करने के लिए भी सीमाएं तय की  हुई है, सब लोग परेशान है और  बहुत दुखी |..  .

और  ऊपर से मेरा दुखी  कर देने वाला ब्लॉग …सचमुच ऐसी हालात मे ऐसी संस्मरण लिखना ठीक नहीं है ..तो क्या ब्लॉग लिखना अभी  छोड़ दूँ | ..

नहीं , हमने तो हमारे जीवन में बहुत से खट्टे मीठे लम्हों को जिया है…

View original post 979 more words



Categories: Uncategorized

17 replies

  1. 😂😂 You writes very well… Don’t leave to write the blog sir…🙏

    Liked by 1 person

  2. Good one👌👌👌

    Liked by 1 person

  3. So well said. Showed the mirror of life.

    Liked by 1 person

  4. Thank you dear ..
    Difficult to define Life..

    Like

Leave a Reply to (Mrs.)Tara Pant Cancel reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: